बल्लभगढ़-पलवल रेलवे ट्रैक पर चोरी करता था OHE बैलेंस वेट, 38 बैलेंस वेट के साथ किया गिरफ्तार

बल्लभगढ़-पलवल सेक्शन पर सप्ताह भर में चोरों ने ओएचई बैलेंस वेट की तीन घटनाओं को अंजाम दिया.

बल्लभगढ़-पलवल सेक्शन पर सप्ताह भर में चोरों ने ओएचई बैलेंस वेट की तीन घटनाओं को अंजाम दिया.

दिल्ली मंडल के बल्लभगढ़-पलवल सेक्‍शन पर एक सप्ताह के भीतर ओएचई बैलेंस वेट की चोरी की तीन घटनाएं हो चुकी हैं. अपराधियों की पहचान करने और उन्हें पकड़ने के लिए वरिष्‍ठ रेलवे पुलिस अधिकारियों की देखरेख में एक संयुक्त विशेष टीम का गठन किया गया था. टीम ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है उसके कब्जे से 38 बैलेंस वेट बरामद किए. आरोपी के बाकी साथियों की तलाश की जा रही है.

  • Share this:

नई दिल्ली. उत्तर रेलवे (Northern Railway) के दिल्ली मंडल के अंतर्गत बल्लभगढ़-पलवल सेक्शन पर सप्ताह भर में चोरों ने ओएचई बैलेंस वेट (Over Head Equipments Balance Weight) की तीन घटनाओं को अंजाम दिया.

इन घटनाओं ने केवल रेलवे अफसरों की नींद उड़ा कर रख दी बल्कि सुरक्षा को लेकर भी बड़े सवाल खड़े कर दिए थे. इन सभी घटनाओं को उत्तर रेलवे महाप्रबंधक ने गंभीरता से लेते हुए सीनियर अफसरों की एक जॉइंट टीम गठित की जिसने फिलहाल एक आरोपी को गिरफ्तार किया है.

रेलवे महाप्रबंधक आशुतोष गंगल ने बताया कि दिल्ली मंडल के बल्लभगढ़-पलवल सेक्‍शन पर एक सप्ताह के भीतर ओएचई बैलेंस वेट की चोरी की तीन घटनाओं के मद्देनज़र, अपराधियों की पहचान करने और उन्हें पकड़ने के लिए वरिष्‍ठ रेलवे पुलिस अधिकारियों की देखरेख में एक संयुक्त विशेष टीम का गठन किया गया था.

टीम ने श्‍वान दस्‍तों और सीसीटीवी कैमरों की जांच के बाद शिवम नाम के एक आरोपी को गिरफ्तार किया है. इस मामले की सभी पहलुओं से जांच करने का प्रयास किया जा रहा है.
ट्रैक पर यह होता है इन बैलेंस वेट का काम

बताते चलें कि ओ एच ई बैलेंस वेट लोकोमोटिव को सप्लाई होने वाली इलेक्ट्रिसिटी के लिए लगाई गई ओवरहेड वायर को सर्दी व गर्मी में सिकुड़ने और पिघलने की वजह से ढीला होने से रोकने के लिए जगह-जगह पर लटकाए जाते हैं. इसके अलावा पावर सप्लाई में किसी प्रकार की बाधा ना आए, उसमें भी यह बड़े मददगार होते हैं. यह लोहे के बने होते हैं. इनको ट्रैक पर एक तय दूरी पर लगे पोलो पर लटकाया जाता है.

7 साथियों के साथ मिलकर की थी ओएचई बैलेंस वेट की चोरियां



गिरफ्तार किए गए आरोपी शिवम ने बताया कि उसने अपने 7 साथियों के साथ मिलकर ओएचई बैलेंस वेट की चोरियां की थीं. ये लोग ओएचई बैलेंस वेट को काटने के लिए हेक्सा ब्लेड का इस्तेमाल करते थे और नशे की जरूरतों को पूरा करने के लिए सरकारी और निजी संपत्तियां की चोरी करते थे.

चोरी की 70 से 80 वारदातों को अंजाम दे चुका है गिरोह 

आरोपी शिवम के खुलासे पर उसके कब्‍जे से 38 बैलेंस वेट बरामद किए गए. पूछताछ के दौरान आरोपी शिवम ने स्वीकार किया कि उसके गिरोह ने फरीदाबाद / बल्लभगढ़ के सिविल क्षेत्र में चोरी की 70 से 80 वारदातों में शामिल थे और कभी पकड़े नहीं गए.

एक अन्य घटना में फिरोजपुर मंडल के अधिकार क्षेत्र में अपराध का सक्रिय इतिहास रखने वाले अपराधियों की पहचान करने और उन्हें पकड़ने के लिए मंडल पर ‘ऑपरेशन फाइनल काउंट’ शुरू किया गया था जिसमें गिरफ्तार अपराधियों के रिकॉर्ड की ट्रैकिंग और वर्तमान अपराध से उनके लिंक की जांच की गई थी.

इसके लिए आईसीजेएस डेटा, पुलिस डोजियर और पूछताछ के दौरान निकाली गई जानकारी का गहराई से विश्लेषण करके तदनुसार कार्रवाई की जा रही है ताकि आपराधिक घटनाओं में जांच के दौरान कोई भी पहलू छूट न जाए.

एक घटना, जिसमें 21.04.2021 को अज्ञात अपराधियों ने लुधियाना रेलवे स्टेशन आउटर सिग्नल के पास एस एंड टी विभाग की आईबीएस हट की दीवार तोड़कर 08 बैटरियां चुरा ली थी, मामला दर्ज किया गया.

इस मामले को सुलझाने के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया. टीम ने सीसीटीवी फुटेज एकत्र की, सिविल पुलिस के साथ समन्वय किया और खुफिया जानकारी एकत्र करके 2 रिसीवर सहित 5 अपराधियों को पकड़कर चोरी का सारा माल बरामद कर लिया.

गिरफ्तार अपराधियों के डेटा के विश्लेषण से पता चला कि वे गिरोह के रूप में काम कर रहे थे और विभिन्न पुलिस स्टेशनों में उनके खिलाफ अनेक मामले दर्ज हैं. इस मामले में सक्रिय अपराध रिकॉर्ड वाले 3 अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है. गिरोह के मास्‍टरमाइंड अजय कुमार की तलाश की जा रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज