'विधायक, सांसद पाते हैं लाखों रुपये पेंशन तो पैरा मिलिट्री फोर्स के जवानों को क्यों नहीं'
Delhi-Ncr News in Hindi

'विधायक, सांसद पाते हैं लाखों रुपये पेंशन तो पैरा मिलिट्री फोर्स के जवानों को क्यों नहीं'
प्रतीकात्मक फोटो

सीआरपीएफ सहित सभी सुरक्षा बलों के जवानों को पुरानी पेंशन देने की मांग को लेकर हुआ जंतर-मंतर पर प्रदर्शन, कर्मचारी नेताओं ने उठाए कई सवाल!

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2019, 2:22 PM IST
  • Share this:
देश के विभिन्न राज्यों से आए कर्मचारियों ने पैरा मिलिट्री फोर्स के जवानों और कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन बहाल करने की मांग को लेकर बृहस्पतिवार को जंतर-मंतर पर प्रदर्शन किया. पुलवामा  आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों को दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की गई. अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी फेडरेशन के महासचिव ए.श्री कुमार ने कहा कि जब विधायक व सांसद मात्र शपथ लेते ही लाखों रुपये महीने पेंशन लेने के हकदार बन जाते हैं तो पैरा मिलिट्री फोर्सेज के जवानों और कर्मचारियों को पुरानी पेंशन स्कीम के तहत पेंशन क्यों नही मिल सकती? (ये भी पढ़ें: हरियाणा में पूर्व विधायकों की चांदी, हर महीने मिल रही 2.22 लाख रुपये तक पेंशन )

इस अवसर पर पारित प्रस्ताव में पैरा मिलिट्री फोर्सेज के जवानों को सेना के बराबर सुविधाएं देने, सीआरपीएफ सहित सभी सुरक्षा बलों के जवानों और कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन बहाल करने और ठेका कर्मियों को पक्का करने, पक्का होने तक सभी प्रकार ठेका कर्मियों को समान काम के लिए समान वेतन देने की सरकार से मांग की गई.

 अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी फेडरेशन के महासचिव ए.श्री कुमार ने कहा कि जब विधायक व सांसद मात्र शपथ लेते ही लाखों रुपये महीने पेंशन लेने के हकदार बन जाते हैं तो पैरा मिलिट्री फोर्सेज के जवानों और कर्मचारियों को पुरानी पेंशन स्कीम के तहत पेंशन क्यों नही मिल सकती difference between employee and mp mla pension, MP MLA find lakhs of rupees pension why don't the soldiers of the Paramilitary Force old pension demand at jantar mantar for paramilitary forces pulwama attack martyrs family-crpf-bsf-MP-mla-dlop        जंतर-मंतर पर पुरानी पेंशन बहाली को लेकर प्रदर्शन



अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी महासंघ के बैनर तले आयोजित इस प्रर्दशन में हरियाणा व राजस्थान के कर्मचारी शिवाजी ब्रिज रेलवे स्टेशन, उप्र व उत्तराखंड के कर्मचारी पालिका बाजार के समीप एलआईसी बिल्डिंग और पंजाब, चंडीगढ़ व जम्मू-कश्मीर के कर्मचारी बंगला साहिब गुरुद्वारा से मार्च करते हुए जंतर-मंतर पहुंचे.
जंतर-मंतर पर फैडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुभाष लांबा की अध्यक्षता में एक कर्मचारी सभा का आयोजन किया गया. फेडरेशन के  महासचिव ए.श्री कुमार ने कहा कि केंद्र सरकार ने जनवरी 2004 के बाद सेवा में आने वाले पैरा मिलिट्री फोर्सेज के जवानों, केंद्र एवं राज्य सरकारों के कर्मचारियों पर अंशदान पर आधारित नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) को लागू करके कर्मचारी के बुढ़ापे का सहारा छीनने का काम किया. ( ये भी पढ़ें: शहीद हेमराज के भाई ने कहा- वादे करके भूल जाते हैं नेता, न पेट्रोल पंप दिया न स्मारक बनवाया!)

कुमार ने बताया कि पुरानी परिभाषित पेंशन स्कीम के तहत कर्मचारी को अंतिम वेतन का पचास प्रतिशत पेंशन के तौर पर मिलता था. लेकिन एनपीएस में दस प्रतिशत राशि कर्मचारी के वेतन से और पचास प्रतिशत सरकार का अंशदान जमा होगा. रिटायरमेंट पर कुल जमा राशि का 60 प्रतिशत नकद दे दिया जाएगा और 40 प्रतिशत राशि शेयर बाजार में निवेश किया जाएगा. शेयर बाजार के उतार चढ़ाव के हिसाब से पेंशन का निर्धारण होता है. जो मात्र दो तीन हजार से ज्यादा नहीं बनती.
 अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी फेडरेशन के महासचिव ए.श्री कुमार ने कहा कि जब विधायक व सांसद मात्र शपथ लेते ही लाखों रुपये महीने पेंशन लेने के हकदार बन जाते हैं तो पैरा मिलिट्री फोर्सेज के जवानों और कर्मचारियों को पुरानी पेंशन स्कीम के तहत पेंशन क्यों नही मिल सकती difference between employee and mp mla pension, MP MLA find lakhs of rupees pension why don't the soldiers of the Paramilitary Force old pension demand at jantar mantar for paramilitary forces pulwama attack martyrs family-crpf-bsf-MP-mla-dlop        पुरानी पेंशन बहाली की मांग करते कर्मचारी नेता

फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुभाष लांबा ने सरकार से पुरानी पेंशन बहाल करने की अपील की. प्रर्दशन को स्कूल टीचर फेडरेशन ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष महावीर सिहाग, अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी महासंघ के नेता सबिता मलिक, एसपी सिंह, सतीश राणा, राकेश साहु, ओपी कटियार, रविन्द्र रेड्डी, धर्मबीर फौगाट, रामाधार शर्मा, आयूदीन कवियां, गोपाल दत्त जोशी, रविन्द्र लूथरा आदि ने संबोधित किया.

यह भी पढ़ें:-

पुलवामा अटैक: सरकार के साथ पूरा विपक्ष, सर्वदलीय बैठक में ये 3 प्रस्ताव पास

VIDEO: शहीद जवान का शव देखकर फूट-फूटकर रोने लगे देवरिया के डीएम

पुलवामा आतंकी हमला: रोते हुए बोली शहीद की पत्नी- सरकार हो या नेता, सब स्वार्थी...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज