Akshaya Tritiya 2021: दो सालों में कोरोना में डूबा 20 हजार करोड़ का ज्वेलरी कारोबार, व्यापारियों में छायी मायूसी

Akshaya Tritiya 2021:  लॉकडाउन के बीच पड़ने वाली अक्षय तृतीया पर ज्वेलरी का कारोबार पूरी तरीके से ठप हाे गया है.

Akshaya Tritiya 2021: लॉकडाउन के बीच पड़ने वाली अक्षय तृतीया पर ज्वेलरी का कारोबार पूरी तरीके से ठप हाे गया है.

Akshaya Tritiya: वर्ष 2019 में देश सिर्फ अक्षय तृतीया पर ही लगभग 10 हजार करोड़ रुपये के सोने की बिक्री की गई ‍थी. लेकिन 2020 में अक्षय तृतीया पर मई माह में लॉक डाउन (Lockdown) में सोने की बिक्री शगुन के रूप में केवल 5 प्रतिशत यानी लगभग 500 करोड़ के आसपास ही हुई थी. इन दो सालों में कोरोना की वजह से करीब 20 हजार करोड़ के नुक‍सान का अनुमान है.

  • Share this:

busiनई दिल्ली. सोना (Gold) खरीदने के लिए अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) के दिन को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है. सोना खरीदने वाले अक्षय तृतीया को शुभ मानते हुए इस दिन सोने की खूब खरीदारी करते हैं. लेकिन कोरोनावायरस (Coronavirus) के चलते 2 सालों से लॉकडाउन (Lockdown) के बीच पड़ने वाली अक्षय तृतीया पर ज्वेलरी (Jewellery) का कारोबार पूरी तरीके से ठप हाे गया है.

इस दिन एक अनुमान के मुताबिक करीब 10,000 करोड रुपए का कारोबार होता है. लेकिन लगातार 2 सालों से लॉकडाउन के बीच पड़ने वाली अक्षय तृतीया के दिन व्यापार बंद होने की वजह से इस कारोबार को करीब 20,000 करोड रुपए का नुकसान पहुंचने का अनुमान है.

देश के ज्वेलरी व्यापार के शीर्ष संगठन आल इण्डिया ज्वैलर्स एंड गोल्डस्मिथ फेडरेशन (AIJGF) के राष्ट्रीय संयोजक पंकज अरोरा ने कहा कि इस वर्ष देश भर के ज्वेलरी व्यापारियों ने अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) पर अच्छे व्यापार की बड़ी उम्मीदें लगा रखी थी. लेकिन लॉकडाउन होने से उनकी उम्मीदों पर पानी फिर गया है. ऐसा लगता है कि कल का अक्षय तृतीया और ईद का दिन भी सोने के व्यापारियों के लिए कुछ खास व्यापार नहीं होगा.

अरोरा ने बताया कि वर्ष 2019 में देश सिर्फ अक्षय तृतीया पर ही लगभग 10 हजार करोड़ रुपये के सोने की बिक्री की गई थी किन्तु 2020 में अक्षय तृतीया पर मई माह में लॉकडाउन (Lockdown) में सोने की बिक्री शगुन के रूप में केवल 5 प्रतिशत यानी लगभग 500 करोड़ के आसपास ही हुई थी.
लगातार दो साल लॉकडाउन में अक्षय तृतीया का त्यौहार आने के कारण देश के ज्वेलरी व्यापार की कमर ही टूट गई है. इन हालातों में व्यापार अब दोबारा कैसे संभलेगा, इसकी चिंता ज्वेलरी व्यापारियों को ज्यादा सताए जा रही है.

वहीं, 1 जून से देश में सोने की ज्वेलरी पर अनिवार्य रूप से हॉलमार्किंग (Hallmark) करना होगा जिसके लिए ज्वेलरी व्यापारी अभी तैयार नहीं है. हॉलमार्किंग का ढांचा भी तैयार नहीं हुआ है. कैट एवं आईआईजेजीएफ दोनों ने केंद्र सरकार (Central Government) से इस तारीख को आगे बढ़ाने का आग्रह किया है.

कन्फेडरशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया की पिछले वर्ष भी लॉकडाउन (Lockdown) के कारण अक्षय तृतीया के दिन ज्वेलरी व्यापारी कोई व्यापार नहीं कर पाए थे. इस साल भी लॉकडाउन के चलते देश के अधिकतर राज्यों में लॉकडाउन के कारण ज्वेलरी दुकानें बंद है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज