होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /

15 अगस्त पर परिंदा भी नहीं मार सकेगा पर, कुछ ऐसी है लाल किले की सुरक्षा व्यवस्‍था

15 अगस्त पर परिंदा भी नहीं मार सकेगा पर, कुछ ऐसी है लाल किले की सुरक्षा व्यवस्‍था

स्वतंत्रता दिवस को लेकर लाल किले की सुरक्षा व्यवस्‍था पुख्ता की गई है. (फाइल फोटो)

स्वतंत्रता दिवस को लेकर लाल किले की सुरक्षा व्यवस्‍था पुख्ता की गई है. (फाइल फोटो)

पुलिस ने लाल किला क्षत्र में पतंगों, गुब्बारों, ड्रोन या किसी भी मानव युक्त या मानव रहित उड़ने वाली वस्तुओं को रोकने के लिए पूरे उपाय किए हैं. लाल किले की सुरक्षा व्यवस्‍था स्वतंत्रता दिवस पर चाक चौबंद रहेगी.

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस ने यहां लाल किला इलाके में छतों और अन्य संवेदनशील स्थानों पर पतंग पकड़ने वालों और पतंग उड़ाने वालों को तैनात किया है, ताकि 75वें स्वतंत्रता दिवस समारोह से पहले उप-पारंपरिक हवाई प्लेटफार्म के हर प्रकार के खतरे से निपटा जा सके. अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.

अधिकारियों ने बताया कि पतंगों, गुब्बारों, ड्रोन या मानव युक्त या मानव रहित उड़ने वाली वस्तुओं को उस क्षेत्र तक पहुंचने से रोकने के लिए पर्याप्त उपाय किए गए हैं, जहां 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस समारोह आयोजित किया जाएगा. पुलिस ने बताया कि पतंग पकड़ने वालों, पतंग उड़ाने वालों और खिड़कियों से गोपनीय तरीके से नजर रखने वालों से कहा गया है कि वे 13 अगस्त से 15 अगस्त के बीच प्रतिबंधित इलाके में कोई भी उड़ती वस्तु दिखने पर संबंधित कर्मियों को इसकी जानकारी दें.

इस बीच, चीनी ‘मांझा’ या कांच के लेप वाले धागे की बिक्री और खरीद के 11 से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं. यह धागा पतंग उड़ाने के लिए बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है. विशेष पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) दीपेंद्र पाठक ने बताया कि दिल्ली में धारा 144 के प्रावधान पहले ही लागू कर दिए गए हैं. यदि कोई व्यक्ति लाल किले पर कार्यक्रम होने तक पतंग, गुब्बारा या चीनी लालटेन उड़ाता दिखाई देता है, तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

अधिकारियों ने कहा कि लाल किला क्षेत्र में पतंगबाजी प्रतियोगिताओं का आयोजन करने वाले पतंगबाजों की पहचान की गई है और उन्हें सुरक्षा पहलू को ध्यान में रखते हुए इस बार पतंग नहीं उड़ाने के लिए राजी कर लिया गया है. बहरहाल, पुलिस ने कहा कि पतंगबाजी की प्रतियोगिताएं 15 अगस्त की शाम को आयोजित की जा सकती हैं. अधिकारी ने कहा, ‘‘हमने पतंगों, गुब्बारों और चीनी लालटेन की बिक्री और खरीद करने वाले दुकानदारों के साथ भी बैठकें की हैं. उन्हें सभी खरीदारों को 13 अगस्त से लाल किला कार्यक्रम के समापन यानी 15 अगस्त तक पतंगबाजी से बचने की जानकारी देने को कहा गया है.’’ उन्होंने कहा कि इस संबंध में रेजिडेंट वेलफेयर एसोसियेशन (आरडब्ल्यूए) सदस्यों के साथ बैठकें भी की गई हैं.

Tags: Amrit Mahotsav of Azadi, Red Fort

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर