होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे पर दोपहिया और तीन पहिया वाहन न करें एंट्री, अब घर पहुंचेगा चालान

दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे पर दोपहिया और तीन पहिया वाहन न करें एंट्री, अब घर पहुंचेगा चालान

एनएचएआई ने सिस्टम को अपग्रेड कर लिया है.

एनएचएआई ने सिस्टम को अपग्रेड कर लिया है.

एनएचएआई के दिल्ली मेरठ एक्‍सप्रेसवे के प्रोजेक्‍ट डायरेक्‍टर अरविंद कुमार ने बताया कि एक्‍सप्रेसवे पर बढ़ते सड़क हादसों ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्‍ली. दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे (Delhi Meerut Expressway) से रोजाना आवागमन करने वाले दोपहिया और तीनपहिया वाहन (Vehicles) चालक जाम से बचने और समय बचाने के चक्‍कर में एंट्री न करें. एक्‍सप्रेसवे पर पुलिसकर्मी मौजूद हों या नहीं, अब वाहन चालकों के घर चालान (Challana) पहुंचेगा. रियल टाइम फुटेज के आधार पर अब नो एंट्री वाले वाहनों का चालान किया जाएगा.

    एनएचएआई के दिल्ली मेरठ एक्‍सप्रेसवे के प्रोजेक्‍ट डायरेक्‍टर अरविंद कुमार ने बताया कि एक्‍सप्रेसवे पर बढ़ते सड़क हादसों की वजह से यह फैसला लिया गया है. एक्‍सप्रेसवे पर आटोमैटिक टोल कलेक्‍शन के लिए जगह-जगह कैमरे लगाए गए हैं.  एएनपीआर (ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकगनिशन) सिस्टम को अपग्रेड कर लिया गया है. इसकी मदद से चालान ट्रैफिक पुलिस के पास पहुंचेंगे. ट्रैफिक पुलिस द्वारा चालान सत्यापित करते ही चालान कटने का संदेश वाहन मालिक के मोबाइल पर पहुंच जाएगा.

    ये भी पढ़ें: देश में बनने वाले 35 मल्टीमॉडल लॉजिस्टिक पार्क से ढुलाई दरों में 4 फ़ीसदी की आएगी कमी

    आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

    दिल्ली-एनसीआर
    दिल्ली-एनसीआर

    यह सिस्‍टम बदला

    अभी तक यह सिस्टम सिर्फ चार पहिया या इससे बड़े वाहनों के लिए लागू होता था. यातायात नियम तोड़ने पर ऑनलाइन चालान भेजा जाता था. अब अपग्रेड होने के बाद दोपहिया और तीनपहिया वाहन भी इस सिस्टम की निगरानी में होंगे. पहले एनएचएआई की ओर से फुटेज ई-मेल के माध्यम से रोजाना शाम को ट्रैफिक पुलिस को भेजी जाती थी. इसके बाद पुलिसकर्मी इस फुटेज को देखकर वाहनों का चालान करते थे.

    ये भी पढ़ें: जेवर एयरपोर्ट को दिल्‍ली-मुंबई एक्‍सप्रेसवे से जोड़ने के लिए दो साल में बनेगा ग्रीनफील्‍ड कोरिडोर

    इस तरह सिस्‍टम करेगा काम

    एनएचएआई की ओर से नियम तोड़ने वाले वाहनों और नो एंट्री में प्रवेश करने वाले दुपहिया व तीन पहिया वाहनों का रियल टाइम डाटा एनआईसी के पोर्टल पर पहुंचेगा. यहां से इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम के माध्यम से वाहन की डिटेल लेकर चालान जनरेट करेगा. यह डाटा संबंधित क्षेत्र के ट्रैफिक पुलिस अधिकारी के पास पहुंच जाएगा. पुलिस अधिकारी अपने लॉग इन के माध्यम से इन वाहनों की डिटेल को चेक करेंगे और सत्यापन के बाद चालान जाएगा. इस तरह अब चार पहिया वाहनों की तरह दोपहिया और तीन पहिया वाहनों के चालान भी ऑनलाइन होंगे.

    Tags: Delhi Meerut Expressway, NHAI, Traffic Police

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें