Assembly Banner 2021

...तो इसलिए ऑनलाइन 400 रुपये किलो बादाम और 550 रुपये बिक रहे थे कश्मीरी अखरोट

सूखे मेवा के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह को नोएडा पुलिस ने जेल भेज दिया है. (Demo Pic)

सूखे मेवा के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह को नोएडा पुलिस ने जेल भेज दिया है. (Demo Pic)

नोएडा में दुबई ड्राई फ्रूट कंपनी के नाम से ऑनलाइन कारोबार के गोरखधंधे का खुलासा. सस्ता मेवा बेचने के नाम पर ग्राहकों से धोखाधड़ी करता था इनामी बदमाश. माल नहीं पहुंचने पर व्यापारी ऑफिस में आकर पूछता तो सत्तन उन्हें धमकाया करता था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 3, 2021, 10:48 AM IST
  • Share this:
नोएडा. ऑनलाइन (Online) 400 रुपये किलो अमेरिकन बादाम (American Almond) बेचे जा रहे थे. सबसे उम्दा माने जाने वाले कश्मीरी (Kashmir) अखरोट सिर्फ 550 रुपये किलो के दाम बिक रहे थे. इसी तरह दूसरे मेवा जैसे किशमिश, काजू, पिस्ता और अंजीर भी बाज़ार रेट से 200 से 300 रुपये किलो तक कम कीमत पर बेचने का दावा किया जा रहा था. दुबई ड्राई फ्रूट के नाम से ऑनलाइन कारोबार किया जा रहा था. नोएडा (Noida) के एक सेक्टर का पता दिया गया था. लेकिन जब खुलासा हुआ तो पता चला कि सस्ते मेवा बेचने के नाम पर धोखाधड़ी (Fraud) की जा रही थी. सौदा कैंसिल करने पर जबरन उगाही की जा रही थी.

गौरतलब रहे 25 हज़ार रुपये का फरार इनामी बदमाश ड्राई फ्रूट के नाम पर धोखाधड़ी कर रहा था. नेशनल गैंग का लीडर इस धोखाधड़ी को अंजाम दे रहा था. नोएडा पुलिस को शिकायत मिली कि एक गैंग नोएडा से ऑनलाइन ड्राई फ्रूट बेचने का काम कर रहा है. साथ ही देशभर में सबसे सस्ती मेवा का दावा भी किया जा रहा था.

ऐसे गिरफ्तार हुआ सरगना



ड्राई फ्रूट के नाम पर धोखाधड़ी की कई शिकायत मिलने के बाद नोएडा पुलिस ने चार लोगों को हिरासत में लेकर जेल भेज दिया था. आरोप था कि यह लोग करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी अब तक कर चुके हैं. लेकिन पीड़ितों से रुपयों की वसूली करने वाला गैंग का सदस्य सत्तन फरार चल रहा था. पुलिस का कहना है कि सत्तन ही जाल में फंसने वाले पीड़ितों से वसूली करता था. सस्ती मेवा खरीदने के लालच में लोग मेवा खरीदने के लिए सपंर्क करते थे. इसके बाद आरोपी पीड़ित से ऑर्डर लेकर कुछ एडवांस लेते थे.
क्या है फ्लैटेड फैक्ट्री कॅन्सेप्ट जिसके आधार पर UP में खुलेगा मेडिकल डिवाइस पार्क

लेकिन इसी तरह से माल न भेजकर लगातार कुछ न कुछ रुपये वसूलते थे. मोबाइल पर धमकी देकर रुपये वसूलने का काम सत्तन करता था. वसूली गई रकम पांच अलग-अलग बैंक अकाउंट में जमा की जाती थी. इसी दौरान पुलिस को खबर मिली कि सत्तन सेक्टर-62 में किसी से मिलने के लिए आने वाला है. मौका देख पुलिस ने सत्तन को गिरफ्तार कर लिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज