इन अस्‍पतालों में शुरू हो गया है मोबाइल OPD, यहां जानें कैसे उठा सकते हैं फायदा

Demo Pic.

Demo Pic.

दिल्ली में जामिया यूनिवर्सिटी (Jamia University) के बाद अब अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज ने भी मोबाइल पर OPD सेवा शुरू कर दी है. इससे मरीजों को काफी मदद मिलने की उम्‍मीद है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 20, 2020, 12:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मार्च से इंतज़ार करते-करते आधा अगस्त भी बीत गया, लेकिन सरकारी अस्पतालों (Government Hospital) में अभी तक ओपीडी (OPD) चालू नहीं हो पाई है. कोरोना (Corona) और लॉकडाउन (Lockdown) के चलते अस्पतालों की ओपीडी पर ताले लटके हुए हैं. पुराने तो छोड़िए नए मरीज भी हलकान हो रहे हैं. अब डॉक्टरों और सरकार ने इसका भी हल निकाल लिया है. मरीजों की सुविधा के लिए मोबाइल पर ओपीडी शुरू कर दी गई है. व्हाट्सएप पर मरीजों के एक्सरे और लैब रिपोर्ट देखी जा रही हैं. दिल्ली में जामिया यूनिवर्सिटी के बाद अब अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज ने भी मोबाइल पर ओपीडी शुरू कर दी है.

रायपुर, जयपुर, झांसी मेडिकल कॉलेज, एएमयू मेडिकल कॉलेज, कानपुर का हैलट समेत जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी का डेंटल कॉलेज भी मोबाइल पर आ चुका है. आगरा का एसएन अस्पताल भी मोबाइल पर ओपीडी शुरू करने की तैयारी कर रहा है. इसके साथ ही एम्स, सैफई मेडिकल कॉलेज और लखनऊ में भी मेडिकल कॉलेज के कुछ विभागों ने मोबाइल पर ओपीडी की सुविधाएं देना शुरू कर दी हैं.

ये भी पढ़ें- अल्पसंख्यक युवक-युवतियों के साथ मिलकर मंत्रालय ने Corona से लड़ने को बनाई यह रणनीति

Online Fraud करने को इस महिला से किराए पर अकाउंट लेते थे इंटरनेशनल गैंग
मोबाइल पर इन विभागों की चालू है ओपीडी

न्यूरोसर्जरी, सर्जरी, सायकियाट्री, ऑर्थोपेडिक, डर्मेटोलॉजी, डायबिटीज़, आब्सटेट्रिक्स एंड गायनकोलॉजी, ऑप्‍थोमोलॉजी, कार्डियोवस्कुलर एंड थोरासिक सर्जरी, रेडियोथेरेपी, मेडीसिन, पेडियाट्रिक सर्जरी, ईएनटी, टीबी एंड चेस्ट, प्लास्टिक सर्जरी और पेन क्लीनिक में मरीज किसी भी कार्य दिवस में सुबह से दोपहर तक बीमारियों के बारे में सलाह ले सकते हैं.

ज़िला अस्पताल में लग रहे डॉग बाइट के इंजेक्शन



ज़िला अस्पताल हों या मेडिकल कॉलेज की इमरजैंसी गंभीर मरीजों के लिए खुली हुई हैं. इसके साथ ही डॉग बाइट के आने वाले केसों को भी डॉक्टर देख रहे हैं. ऐसे मरीजों का इलाज किया जा रहा है. उन्हें डॉग बाइट के इंजेक्शन लगाए जा रहे हैं. डॉग बाइट के मरीज को एक बार इंजेक्शन लगाने के बाद दोबारा भी अस्पताल आने की सुविधा दी जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज