Opinion: सुशांत राजपूत आत्महत्या मुद्दे को आखिर क्यों उठा रही बीजेपी, बिहार चुनाव से क्या है कनेक्शन?

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या का मुद्दा राजनीतिक दलों में भी अहम हो चला है.
सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या का मुद्दा राजनीतिक दलों में भी अहम हो चला है.

बिहार में कुछ महीने बाद चुनाव होना है. सुशांत सिंह राजपूत मामले को लेकर पूरे बिहार में जैसा माहौल है, उसको देखकर ये कहा जा सकता है कि सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) मुद्दा बिहार विधानसभा चुनाव में एक बड़ा राजनीतिक मुद्दा बनने जा रहा है.

  • News18India
  • Last Updated: July 22, 2020, 11:43 PM IST
  • Share this:
नोएडा. बॉलीवुड स्टार सुशांत सिंह राजपूत के आत्महत्या (Sushant Singh Rajput suicide case) के मसले को बीजेपी संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने उठाकर सबको चौंका दिया है. पहले भाजपा के लोनी विधायक नंद किशोर गुर्जर ने गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) को चिट्ठी लिखकर CBI जांच की मांग की, फिर बीएल संतोष ने Tweet करके कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की दुखद आत्महत्या के बाद कई सवाल उठ रहे हैं. सब खुलकर सामने आ रहा है. सभी लॉबी एक्सपोज हो रही हैं. ऐसे में राजनीतिक पंडित इसे बिहार के आगामी विधानसभा चुनाव से भी जोड़ कर देख रहे हैं.



बीजेपी चिंतित है?
बीएल संतोष ने ये भी लिखा है कि अच्छा है ये बहस हो रहा है लेकिन दुख की बात यह है कि यह सब होने के लिए हमें एक प्रतिभा को खो दिया. मीडिया, इंटरटेनमेंट और पब्लिशिंग सबकी लॉबी एक्सपोज हो गई हैं. उनके ट्वीट से लग रहा है कि वह इस मुद्दे पर अपनी राय आगे भी जारी रखेंगे. ये पहली बार है कि बीजेपी के एक बड़े पदाधिकारी ने बॉलीवुड के इस तरह के मसले को बड़े स्तर पर उठाया है. आखिर इसके पीछे की वजह क्या है, क्या बॉलीवुड में फैले परिवारवाद और लॉबिंग से बीजेपी चिंतित है?



हालांकि आपको बता दें कि बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने तो सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मसले पर तो मोर्चा खोल रखा है. यहां तक कि बीजेपी सांसद और फायर ब्रांड नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने तो ये भी कह डाला है कि कि अगर इस मसले पर सीबीआई जांच नही हुई तो वे सुनंदा पुष्कर मामले की तरह कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे.

सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामला बिहार में बन सकता है बड़ा चुनावी मुद्दा!
बिहार में कुछ महीने बाद चुनाव होना है. सुशांत सिंह राजपूत मामले को लेकर पूरे बिहार में जैसा माहौल है, उसको देखकर ये कहा जा सकता है कि सुशांत सिंह राजपूत मुद्दा बिहार विधानसभा चुनाव में एक बड़ा राजनीतिक मुद्दा बनने जा रहा है. सुशांत सिंह राजपूत के मौत के बाद से ही बिहार मे उनके फैन्स आक्रामक रवैया अपनाए हुए है और उन फैन्स के निशाने में लगातार बॉलीवुड के खेमेबाज एक्टर और फिल्मकार हैं. जनता की इस गुस्से को समझते हुए बिहार की सभी राजनीतिक पार्टीयां इस मसले को अपने अपने तरीके से जोर शोर से उठा रही है. आरजेडी (RJD), बीजेपी (BJP), जेडीयू (JDU),पप्पू यादव की पार्टी ने अपने तरीके से इस मसले को उठाया है.

सबसे पहले बात करते है आरजेडी की. विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने तो बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) से इस मसले पर सीबीआई जांच की मांग की है. बाकायदा तेजस्‍वी यादव, तेज प्रताप यादव और आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह खुद सुशांत सिंह राजपूत के घर भी गए और ये भी मांग की है कि बिहार में बनने वाली फ़िल्म सिटी का नाम सुशांत सिंह राजपूत के नाम पर हो. आरजेडी ही नही बीजेपी के बड़े नेता रवि शंकर प्रसाद, मनोज तिवारी, खेसारी लाल यादव और पवन सिंह भी उनके घर पहुचे और मामले पर गंभीर जांच की मांग की. पप्पू यादव भी सुशांत सिंह राजपूत राजपूत के मसले को जोर-शोर से उठा रहे है और सीबीआई जांच की मांग कर रहे है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी इस मामले को गंभीरता से लिया है.

सुशांत सिंह राजपूत का बिहार कनेक्शन
सुशांत सिंह राजपूत मूल रूप से पूर्णिया के बड़हरा कोठी के मलडीहा के रहने वाले थे. बिहार की राजनीति से सुशांत सिंह राजपूत का एक खास कनेक्शन था. सुशांत सिंह राजपूत सुपौल के छातापुर से बीजेपी विधायक नीरज कुमार बबलू के चचेरे भाई थे. उनकी भाभी नूतन सिंह एलजेपी से बिहार विधान परिषद की सदस्य हैं. बिहार के युवा लोगो मे सुशांत सिंह राजपूत का गहरा प्रभाव रहा है, बिहार में फिलहाल सुशांत सिंह राजपूत के आत्महत्या का मुद्दा युवाओं में काफी गहरे से छाया हुआ है, हर तरफ आत्महत्या के जिम्मेदार लोगों पर करवाई की आवाज़ बुलंद हो रही है. बॉलीवुड के परिवारवाद और कैम्प के खिलाफ विरोध शुरू हो गया है.
ये भी पढ़ें- सुशांत राजपूत आत्महत्या मामले की CBI जांच के लिए MLA ने गृहमंत्री को लिखा पत्र

ऐसे में सियासी पार्टियां युवा मतदाताओं के मन को टटोलते हुए इस मुद्दे से खुद को अलग नही रखा पा रही हैं. जाहिर सी बात है कि इस मुद्दे पर बीजेपी कैसे दूर रह सकती है, जबकि बिहार का चुनाव सर पर है. बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून को मुंबई के बांद्रा स्थित अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. इसके बाद आरोप लगे थे बॉलीवुड के कुछ लोगों ने उनका करियर खराब करने की कोशिश की जिसके बाद डिप्रेशन में जाकर सुशांत ने आत्महत्या कर ली. सुशांत की आत्महत्या के बाद से ही बॉलीवुड में नेपोटिज्म (Nepotism) को लेकर बड़ी बहस शुरू हो गई है. इसमें करण जौहर के अलावा कई बड़े नाम निशाने पर हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज