केजरीवाल बोले- सड़कों पर मजदूरों को देखकर लगता है फेल हो गया हमारा सिस्टम
Delhi-Ncr News in Hindi

केजरीवाल बोले- सड़कों पर मजदूरों को देखकर लगता है फेल हो गया हमारा सिस्टम
सीएम केजरीवाल ने मंगलवार 12 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिल्ली की जनता से ये सुझाव मांगे थे.

मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने कहा कि इनमें से 1500 संक्रमितों का अस्‍पताल में इलाज चल रहा है, जबकि 27 मरीज वेंटिलेटर पर हैं.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. दिल्ली में कोरोना मामलों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है और प्रवासी मजदूरों का राज्य छोड़कर जाना भी जारी है. इस बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा कि सड़कों पर मजदूरों को देखकर लगता है कि सिस्टम फेल हो गया है. मेरा निवेदन है कि प्रवासी मजदूर दिल्ली छोड़कर ना जाएं. केजरीवाल ने कहा, 'अगर मजदूर फंसे ही हैं और जाना चाहते हैं तो हम ट्रेन का इंतजाम कर रहे हैं. बिहार, मध्य प्रदेश ट्रेनें गई हैं, थोड़ा इंतजार और करें, लेकिन पैदल मत निकलें.'


देश की राजधानी दिल्‍ली (Delhi) में कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित लोगों की संख्‍या तकरीबन 7000 तक पहुंच गई है. मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इनमें से 1500 संक्रमितों का अस्‍पताल में इलाज चल रहा है, जबकि 27 मरीज वेंटिलेटर पर हैं. वहीं, एंबुलेंस की कमी की समस्‍या पर उन्‍होंने कहा कि आपात परिस्थितियों में निजी एंबुलेंस का इस्‍तेमाल किया जा सकता है. इस बाबत दिल्‍ली सरकार ने आदेश जारी कर दिए हैं.

केजरीवाल ने कॉन्फ्रेंस में बताया कि अब तक कुल 73 लोगो की मौत हुई हैं. वहीं 2079 लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं. इसके अलावा 82 प्रतिशत लोग 50 साल से ज्यादा उम्र के थे. केजरीवाल ने कहा कि बुजुर्गों की मौत ज्यादा हो रही है. ऐसे में वो सभी बुजुर्ग घर में ही रहें.




उन्होंने कहा कि कुछ एसिम्टमैटिक, और माइल्ड है लगभग 75 प्रतिशत, उनका उनके घर पर ही इलाज करने का इंतजाम करने होगा. हमारी टीम जाती है उनके घर देखती है कि अगर अलग कमरा है, अलग टायलेट है तो घऱ में ही आइसोलेशन में रहेगे और हमारे डाक्टर और डेली फोन पर पेशेंट से कांटेक्ट में बने रहते हैं. जहां अलग कमरा नहीं है उन लोगो के लिये अलग कोविड सेंटर बनाए है. ऐसे कम लोग हैं जो सीरयस है और कम लोग जिनकी डेथ हो रही है.

वहीं केजरीवाल ने विपक्ष पर सवाल उठाते हुए कहा कि अगर हम कोविड वारियर के लिए एक करोड़ दे रहे हैं तो क्या दिक़्क़त है. पुलिसकर्मी अमित राणा जिनकी मौत हुई उन्हें एक करोड़ देने का ऐलान किया. इसमें विपक्ष को क्या दिक़्क़त है.

 

ये भी पढ़ें-

Lockdown: मालिक ने 6 मजदूरों को डेढ़ महीने तक खिलाया खाना, कोलकाता जाने के लिए नहीं मिला साधन तो गिफ्ट की नई साईकिल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज