केजरीवाल सरकार ने कहा- जैसे Oxygen मिला, उसी तरह क्रायोजेनिक टैंकर भी दिलाएं

दिल्ली को 976 मीट्रिक टन ऑक्सीजन के लिए केंद्र सरकार 187 क्रायोजेनिक टैंकर मुहैया कराए- दिल्ली सरकार

दिल्ली को 976 मीट्रिक टन ऑक्सीजन के लिए केंद्र सरकार 187 क्रायोजेनिक टैंकर मुहैया कराए- दिल्ली सरकार

Oxygen Crisis in Delhi: दिल्ली सरकार ऑक्सीजन बुलेटिन जारी करते हुए कहा है कि देश में 1631 टैंकर 8500 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उठा रहे हैं. इस हिसाब से दिल्ली को 976 मीट्रिक टन ऑक्सीजन के लिए केंद्र सरकार 187 क्रायोजेनिक टैंकर (Cryogenic Tankers) मुहैया कराए.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली हाईकोर्ट (High Court) की फटकार के बाद केंद्र सरकार ने मंगलवार को दिल्ली को अब तक सबसे ज्यादा 555 मिट्रिक टन ऑक्सीजन (Oxygen) दी है. दिल्ली सरकार (Delhi Government) अब मांग कर रही है कि उसे 976 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत है. दिल्ली सरकार का दावा है कि केंद्र सरकार ने अभी तक दिल्ली को आवंटित निर्धारित ऑक्सीजन प्लांटों से 555 मीट्रिक टन ऑक्सीजन नहीं दी है, बल्कि जुगाड़ के जरिए दूसरे राज्यों की ऑक्सीजन पहुंचाई है.

ऐसे में दिल्ली सरकार चाहती है कि केंद्र सरकार अस्थायी तरीकों के बजाए दिल्ली को आवंटित प्लांटों से स्थायी तौर पर अधिक ऑक्सीजन मुहैया कराए. बुधवार को दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष और राजेंद्र नगर से आम आदमी पार्टी के विधायक राघव चड्ढा ने ऑक्सीजन बुलेटिन जारी करते हुए कहा है कि देश में 1631 टैंकर 8500 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उठा रहे हैं. इस हिसाब से दिल्ली को 976 मीट्रिक टन ऑक्सीजन के लिए केंद्र सरकार 187 क्रायोजेनिक टैंकर मुहैया कराए.

Youtube Video

केंद्र सरकार क्रायोजेनिक टैंकर मुहैया कराए
राघव चड्ढा ने कहा कि क्रायोजेनिक टैंकर से जुड़ा हुआ महत्वपूर्ण विषय है. इस समय लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन को एक विशेष क्रायोजेनिक टैंकर में लाया जाता है. इस समय हिंदुस्तान में 1631 क्रायोजेनिक टैंकर हैं. देश में 8500 मीट्रिक टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन का उत्पादन होता है. यानी कि 1631 क्रायोजेनिक टैंकर 8500 हजार मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन को ला रहे हैं. टैंकरों की संख्या हमारे देश की ऑक्सीजन जरूरत से 3 गुना ज्यादा है. 1631 टैंकर कुल 23 हजार मैट्रिक टन ऑक्सीजन को भी कहीं पर ले जा सकते हैं. जबकि, आज इनका उपयोग मात्र 8500 मीट्रिक टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन को लाने ले जाने में किया जा रहा है.

oxygen crisis in delhi, central govt, cryogenic tankers, Raghav Chadha , Supreme Court, high court, distributing oxygen, Delhi Government, oxygen supply, दिल्ली सरकार, ऑक्सीजन बुलेटिन दिल्ली का, दिल्ली हाईकोर्ट, केजरीवाल सरकार, अरविंद केजरीवाल, केंद्र सरकार, 555 मिट्रिक टन ऑक्सीजन, दिल्ली सरकार, दिल्ली को 976 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत है, आम आदमी पार्टी, राघव चड्ढा, अरविंद केजरीवाल
दिल्ली सरकार के मुताबिक, ‘दिल्ली को कल यानी मंगलवार को 555 मिट्रिक टन ऑक्सीजन मिली है.

मंगलवार को दिल्ली को 555 मिट्रिक टन ऑक्सीजन मिली



दिल्ली सरकार के मुताबिक, ‘दिल्ली को कल यानी मंगलवार को 555 मिट्रिक टन ऑक्सीजन मिली है, जबकि हमारी जरूरत 976 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की है. मंगलवार को ही केजरीवाल सरकार ने एसओएस कॉल से मिलने वाली दिक्कतों को दूर करने के लिए वरिष्ठ और योग्य आईएएस अधिकारियों की टीम बनाई थी. यह टीम दिन-रात एसओएस कॉल से जुड़ी दिक्कतों को दूर कर रही है. दिल्ली सरकार ने एसओएस कॉल के जरिए 48 अस्पातलों में ऑक्सीजन पहुंचाई है. ऑक्सीजन के सहारे इलाज करा रहे 4036 लोगों की जान बचाने का काम किया है.

4036 लोगों की जान बचाने का दिल्ली सरकार का दावा

दिल्ली सरकार का दावा है कि मंगलवार को वार रूम में कल 48 एसओएस कॉल कई अस्पतालों से आई. इनमें कहीं पर ऑक्सीजन खत्म हो रही थी, कहीं पर सिलेंडर नहीं पहुंचे थे और कहीं पर 1 घंटे की ऑक्सीजन बची थी. दिल्ली सरकार की हेल्पलाइन पर आई 48 एसओएस कॉल से जुड़ी सभी दिक्कतों को दूर किया. हमने कल लगभग 36.40 मीट्रिक टन ऑक्सीजन एसओएस कॉल से जुड़ी दिक्कतों को दूर करने के लिए इस्तेमाल की है. जिन अस्पतालों में ऑक्सीजन खत्म हो रही थी वहां पर 4036 मरीज ऑक्सीजन के सहारे अपना इलाज करा रहे थे. पर्याप्त ऑक्सीजन पहुंचाकर लगभग 4036 लोगों की जान बचाने का काम किया है.

Mission Oxygen 1-2
दिल्ली के कॉमनवेल्थ गेम्स विलेज में मिनी ऑक्सीजन प्लॉट स्थापित किया गया है.

ये भी पढ़ें: Lockdown News: कोरोना ने छीना रोजगार तो दिल्ली से 5 दिन में ऑटो लेकर सुपौल पहुंचा परिवार

दिल्ली सरकार क्रायोजेनिक टैंकरों को लेकर मांग की है कि जिस प्रकार से केंद्र सरकार इस समय ऑक्सीजन का नियंत्रण कर रही है और वितरण कर रही है, उसी हिसाब से देशभऱ में क्रायोजेनिक टैंकर का नियंत्रण और वितरण जरूरत के अनुसार करना चाहिए. सभी राज्यों को जरूरत के हिसाब से क्रायोजेनिक टैंकर दिया जाए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज