दिल्‍ली अपोलो अस्‍पताल में भी बची है 10-12 घंटे की ऑक्‍सीजन, प्रबंधन ने सरकारों से की ये मांग

दिल्‍ली के अपोलो अस्‍पताल में भी ऑक्‍सीजन की कमी, 350 से ज्‍यादा मरीज भर्ती. Demo pic.

दिल्‍ली के अपोलो अस्‍पताल में भी ऑक्‍सीजन की कमी, 350 से ज्‍यादा मरीज भर्ती. Demo pic.

दिल्‍ली अपोलो अस्‍पताल के मैनेजिंग डायरेक्‍टर पी शिवकुमार की ओर से कहा गया है कि अस्‍पताल में मुख्‍य रूप से कोविड मरीजों के लिए ऑक्‍सीजन की रुकी हुई सप्‍लाई को तत्‍काल शुरू करने की जरूरत है. यहां 350 से ज्‍यादा ऑक्‍सीजन पर निर्भर कोरोना के मरीज भर्ती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 21, 2021, 4:30 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना के बढ़ते मामलों के साथ ही अस्‍पतालों में भर्ती मरीजों के लिए ऑक्‍सीजन (Oxygen) की कमी अब सबसे बड़ी समस्‍या बनकर सामने खड़ी हो गई है. दिल्‍ली के कई कोविड डेडिकेटेड अस्‍पतालों (Covid Dedicated Hospitals) में ऑक्‍सीजन की कमी को लेकर दिल्‍ली के डिप्‍टी सीएम मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) और स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सत्‍येंद्र जैन ने जानकारी दी थी जिसके बाद हड़कंप मच गया था. हालांकि अब अपोलो अस्‍पताल (Apollo Hospital) दिल्‍ली की ओर से भी ऐसी ही जानकारी दी गई है.

दिल्‍ली अपोलो अस्‍पताल के मैनेजिंग डायरेक्‍टर पी शिवकुमार की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि अस्‍पताल में सिर्फ 10 से 12 घंटे के लिए ही ऑक्‍सीजन सप्‍लाई उपलब्‍ध है. मरीजों के लिए इसका कोई और विकल्‍प भी मौजूद नहीं है. पिछले सप्‍ताह से सप्‍लाई चेन के बाधित होने और देरी के कारण ऑक्‍सीजन पर्याप्‍त रूप से मौजूद नहीं है. यह खतरनाक स्‍तर है.

शिवकुमार की ओर से कहा गया कि अस्‍पताल में मुख्‍य रूप से कोविड मरीजों (Covid Patients) के लिए ऑक्‍सीजन की रुकी हुई सप्‍लाई को तत्‍काल शुरू करने की जरूरत है. यहां 350 से ज्‍यादा ऑक्‍सीजन पर निर्भर कोरोना के मरीज भर्ती हैं. हम लोग राज्‍य और जिला प्रशासन के अलावा अपने स्‍पलाइयर्स के साथ लगातार बातचीत कर रहे हैं ताकि समय से ऑक्‍सीजन की पूर्ति हो सके.

उन्‍होंने कहा, हम सभी राज्‍य सरकारों और केंद्र सरकार से निवेदन कर रहे हैं कि वे हमें मदद करें और ऑक्‍सीजन सप्‍लाई को सुचारू होने में मदद करें. ताकि मरीज संबंधी किसी भी अप्रिय घटना को टाला जा सके.
गौरतलब है कि कल ही दिल्‍ली के डिप्‍टी सीएम मनीष सिसोदिया ने दिल्‍ली के करीब एक दर्जन से ज्‍यादा सरकारी और प्राइवेट अस्‍पतालों की सूची जारी की थी जिसमें उन्‍होंने बताया था कि दिल्‍ली के लगभग सभी अस्‍पतालों में बहुत कम ऑक्‍सीजन बची है. हालांकि मंगलवार देर रात ऑक्‍सीजन के कई टैंकर अस्‍पतालों में पहुंचे और उन्‍होंने राहत की सांस ली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज