रेलवे के सेंट्रल अस्पताल में दूर होगी Oxygen किल्लत, हर मिनट में होगा 500 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन

सेंट्रल अस्पताल में 500 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट का शुभारंभ किया है.

सेंट्रल अस्पताल में 500 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट का शुभारंभ किया है.

Indian Railways: उत्तर रेलवे केंद्रीय अस्पताल, नई दिल्ली में 500 लीटर प्रति मिनट (एलपीएम) वाले ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र को उपलब्‍ध कराने का काम डीएफसीसीआईएल को सौंपा गया था. डीएफसी द्वारा एक महीने से भी कम समय के रिकॉर्ड समय में यह संयंत्र उपलब्‍ध कराया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 10, 2021, 10:52 AM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की दूसरी लहर में सामने आई ऑक्सीजन की किल्लत (Oxygen Shortage) दूर करने के लिए अब लगातार ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen Plant) लगाए जा रहे हैं.

उत्तर रेलवे (Northern Railway) ने भी इस दिशा में बड़ी पहल करते हुए अपने सेंट्रल अस्पताल में 500 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट का शुभारंभ किया है. यह प्लांट सीएसआर पहल के तहत लगाया गया है.

ऑक्सीजन प्लांट को उत्‍तर रेलवे महाप्रबंधक आशुतोष गंगल, डीएफसी के एमडी/ रवींद्र कुमार जैन और उत्तर रेलवे केंद्रीय अस्पताल के अधिकारियों की मौजूदगी में चालू किया गया.

सीएसआर पहल के तहत उत्तर रेलवे केंद्रीय अस्पताल, नई दिल्ली में 500 लीटर प्रति मिनट (एलपीएम) वाले ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र को उपलब्‍ध कराने का काम डीएफसीसीआईएल को सौंपा गया था. डीएफसी द्वारा एक महीने से भी कम समय के रिकॉर्ड समय में यह संयंत्र उपलब्‍ध कराया गया है.
इस अवसर पर उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक ने डीएफसीसीआईएल के कार्य की सराहना की. उन्होंने कहा कि यह उत्तर रेलवे अस्पताल के लिए ऑक्सीजन की उपलब्धता में आत्मनिर्भरता की दिशा में एक बड़ी छलांग है और यह अस्‍पताल अब मरीजों की सेवा और बेहतर ढंग से करने के लिए तैयार है.

यह संयंत्र प्रेशर स्विंग एब्जॉर्प्शन तकनीक पर काम करता है जिसमें विशेष शोषक सामग्री का उपयोग गैसों को उनकी आणविक विशेषताओं के आधार पर अलग करने और उच्च दबाव और परिवेश के तापमान पर लक्ष्य गैस को अवशोषित करने के लिए किया जाता है. फिर गैस को कम दबाव पर अवशोषित किया जाता है.

सामान्य समय में अस्पताल की ऑक्सीजन की कुल आवश्यकता लगभग 1500 एलपीएम होती है. यह संयंत्र बेस लोड के 30% और चरम कोविड समय में लगभग 10% को पूरा करने में मदद करेगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज