होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /

कहीं आपके घर ऑक्‍सीटोसिन इंजेक्‍शन से निकाला गया दूध तो नहीं आ रहा, दिल्‍ली बॉर्डर पर फैक्‍टरी पकड़ी

कहीं आपके घर ऑक्‍सीटोसिन इंजेक्‍शन से निकाला गया दूध तो नहीं आ रहा, दिल्‍ली बॉर्डर पर फैक्‍टरी पकड़ी

दिल्‍ली बॉर्डर पर नकली इंजेक्‍शन की फैक्‍टरी पकड़ी गई है. सांकेतिक फोटो

दिल्‍ली बॉर्डर पर नकली इंजेक्‍शन की फैक्‍टरी पकड़ी गई है. सांकेतिक फोटो

Oxytocin Injection Ghaziabad News: औषधि विभाग गााजियाबाद ने लोनी दिल्‍ली बॉर्डर में चल रही नकली ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन बनाने वाली फैक्टरी का खुलासा किया है. इस मामले में अधिकारियों ने एफआईआर दर्ज कराई है. पुलिस ने फैक्टरी मालिक को गिरफ्तार कर लिया है. आरोपियों ने बताया कि इंजेक्‍शन की सप्‍लाई दिल्‍ली और आसपास में होती थी.

अधिक पढ़ें ...

    गाजियाबाद. कहीं आपके घर पर पशु को ऑक्‍सीटोसिन इंजेक्‍शन (Oxytocin Injection) लगाकर निकाला गया दूध तो नहीं आ रहा है. क्‍योंकि गाजियाबाद (Ghaziabad) दिल्‍ली बॉर्डर पर नकली इंजेक्‍शन की फैक्‍टरी पकड़ी गई है, जिससे माल दिल्‍ली और आसपास के इलाकों में सप्‍लाई होता था, इस इंजेक्‍शन के लगाकर जानवरों का दूध निकाला जा रहा था. चिकित्‍सकों के अनुसार ऑक्‍सीटोसिन से निकाला गया दूध (Milk) स्‍वास्‍थ्‍य के लिए खतरनाक हो सकता है.

    औषधि विभाग गाजियाबाद ने लोनी के एक घर में चल रही नकली ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन बनाने वाली फैक्टरी का खुलासा किया है. इस मामले में अधिकारियों ने एफआईआर दर्ज कराई है. पुलिस ने फैक्टरी मालिक को गिरफ्तार कर लिया है. विभाग को पिछले काफी दिनों से लोनी में ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन की बिक्री की शिकायत मिल रही थी. इसके बाद विभाग ने जांच शुरू की तो लक्ष्मी गार्डन में नकली इंजेक्शन तैयार करने वाली फैक्टरी का पता चला. पुलिस के साथ मिलकर अधिकारियों ने छापा मारा. मौके से फैक्टरी मालिक धर्मवीर सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

    जिला औषधि निरीक्षक अनुरोध कुमार भारती ने बताया कि ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन तैयार करने के लिए धर्मवीर ने लाइसेंस भी नहीं लिया है. मौके से 150, 100 और 70 एमएल की इंजेक्शन की दो हजार वॉयल को बरामद किया है. इसके अलावा पैकिंग मैटेरियल, मशीन खाली बोतल, कैप और मापने वाला सिलिंडर को अधिकारियों ने सीज किया है. गाजियाबाद जिला अस्‍पताल के वरिष्‍ठ जनरल फिजीशियन डा. आरपी सिंह के अनुसार इंजेक्‍शन लगाकर निकाला गया दूध स्‍वास्‍थ्‍य के लिए खतरनाक हो सकता है.

    ऑक्‍सीटोसिन इंजेक्‍शन लगाकर निकाला गया दूध खराब कर सकता है सेहत 

    . इस दूध में सोडियम व नमक की मात्रा बढ़ जाती है.

    .छोटे बच्‍चे यानी 5 साल तक बच्‍चों का पाचन तंत्र खराब हो सकता है और आंखें कमजोर हो सकती हैं.

    .5 से 15 साल के बच्चों का अप्रत्याशित विकास, लड़कियों की किशोरावस्था के दौरान युवावस्था के लक्षण दिख सकते हैं.

    .15 से 30 साल युवाओं में हार्मोनल असंतुलन का खतरा हो सकता है.

    .30 से 45 साल महिलाओं में गर्भपात, स्तन कैंसर का खतरा, रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो सकती है.

    .45 से अधिक उम्र के लोगों की पाचन तंत्र पर खराब हो सकता है और एसिडिटी हो सकती है.

    Tags: Ghaziabad Loni Case, Ghaziabad News, Health

    अगली ख़बर