जासूसी कांड: Pak Army के जवान हैं दिल्ली में तैनात तीनों कर्मचारी  
Delhi-Ncr News in Hindi

जासूसी कांड: Pak Army के जवान हैं दिल्ली में तैनात तीनों कर्मचारी  
(सांकेतिक तस्‍वीर)

सेना में भर्ती होने के बाद 2013 से उन्हें उच्चआयोग में तैनात कर दिया गया था. जहां वो भारतीय सेना (Indian Army) से जुड़ी खुफिया जानकारियां हासिल करने में लगे हुए थे.

  • Share this:
नई दिल्ली. आर्मी की मिलिट्री इंटेलीजेंस (MI), आईबी (IB) और दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्पेशल सेल लगातार पाकिस्तानी जासूस कांड (Spying Case) की परतें खोल रही हैं. इसी कड़ी में एक और खुलासा हुआ है. पाक उच्चआयोग में तैनात और रविवार को पकड़े गए तीनों कर्मचारी पाकिस्तान आर्मी (Pak Army) के जवान हैं. सेना में भर्ती होने के बाद 2013 से उन्हें उच्चआयोग में तैनात कर दिया गया था. जहां वो भारतीय सेना (Indian Army) से जुड़ी खुफिया जानकारियां हासिल करने में लगे हुए थे.

आईएसआई के सीक्रेट प्लान के दो को बतौर वीजा सेक्शन में तैनात किया गया तो एक ड्राइवर बन गया. यह लोग खुद को भारतीय सेना का क्लर्क बताकर सेना के दूसरे कर्मचारियों से मिलते थे. और खुद की पोस्टिंग दिल्ली स्थित भारतीय आर्मी के पोस्ट ऑफिस में बताते थे. प्लान को सफल बनाने के लिए आईएसआई हर महीने एक मोटी रकम इन तीनों को पहुंचाती थी. यह लोग देश के सभी संवेदनशील बोर्डर पर फोर्स की तैनाती और इंडियन आर्मी में हथियारों की खेप से जुड़ी गोपनीय जानकारी हासिल करना चाहते थे. यह भी आशंका जताई जा रही है कि यह लोग भारतीय सेना के लोअर ग्रेड के कुछ जवानों के घर तक मे घुसपैठ कर चुके हैं.

MI ने जासूसों को पकड़ने के लिए ऐसे बिछाया जाल



MI और स्पेशल सेल ने पिछले महीने लगातार पाकिस्तान हाई कमीशन के इन दोनों कर्मचारियों और उनके ड्राइवर पर नजर बनाना शुरू किया और फिर रविवार की शाम करौल बाग इलाके में सुरक्षा एजेंसियों के एक अधिकारी ने भारतीय सेना का एक कर्मचारी बनकर आबिद और ताहिर से एक मीटिंग फिक्स की.



प्लान के तहत भारतीय सेना के डमी कर्मचारी ने अपने लिए एक स्मार्ट फोन औऱ 15 हजार कैश की डिमांड की. जिसे देने जैसे ही पाकिस्तान हाई कमीशन का ड्राइवर जावेद, ताहिर और आबिद को लेकर करोल बाग पाकिस्तान हाई कमीशन की कार से पहुचा. स्पेशल सेल ने तीनों को मौके से रंगे हाथ मोबाइल फोन और कैश के साथ हिरासत में ले लिया.

डमी सेना के कर्मचारी से तीनो पाकिस्तान नागरिकों ने भारतीय सेना से जुड़ी गोपनीय जानकारी में भारतीय सेना के हथियारों की खेप की जानकारी और सेना की तैनाती की जानकारी हासिल करने की डील की थी.

भारतीय रेलवे के कर्मचारी भी हो सकते हैं शामिल

भारतीय रेलवे के कुछ कर्मचारी भी आर्मी इंटेलीजेंस, आईबी और स्पेशल सेल के रडार पर आ गए हैं. कुछ कर्मचारियों के पाकिस्तानी जासूसों के साथ मिले होने की आशंका जताई जा रही है. सोमवार को 3 से 4 कर्मचारियों को पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है. इन कर्मचारियों से क्या जानकारी या डॉक्यूमेंटस लिए गए थे और कब कब इनकी मुलाकात हुई थी यह पूछताछ हो सकती है.

ऐसी आशंका जताई जा रही है कि रेलवे के यह कर्मचारी मूवमेंट डिपार्टमेंट से जुड़े हो सकते हैं. रेलवे का यह डिपार्टमेंट ही सेना की यूनिट को ट्रेन से एक जगह से दूसरी जगह भेजने का काम करती है. वैसे दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल इन जासूसों के मोबाइल फोनों को खंगाल कर डेटा और जानकारी ले चुकी है. साथ ही इन जासूसों की मूवमेंट इंडिया में कहां कहां हुई यह भी पता लगा लिया गया है.

ये भी पढ़ें:-

Lockdown Diary: पैदल घर जा रहे मजदूर को लूटने आए थे, तकलीफ सुनी और 5 हजार रुपए देकर चले गए

Lockdown Diary: दिल्ली से पैदल जा रहा था बिहार, रास्ते में हुआ कुछ ऐसा-बहू लेकर पहुंचा घर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading