किसानों के समर्थन में हरियाणा में हो रहीं पंचायतें, बॉर्डर पर पहुंचेंगे कई गांवों के लोग

किसान आंदोलन को तेजी देने के लिए हरियाणा में पंचायतें हो रही हैं. (फाइल फोटो)

किसान आंदोलन को तेजी देने के लिए हरियाणा में पंचायतें हो रही हैं. (फाइल फोटो)

जींद में हुई महापंचायत में फैसला लिया गया है कि जब तक कृषि कानूनों को रद्द नहीं किया जाएगा, तब तक हर परिवार के एक सदस्य का बॉर्डर पर रहना जरूरी है. रोहतक, चरखी दादरी, नारनौंद में भी किसानों को अधिक समर्थन देने को लेकर कई गांवों की बैठकें बुलाई गई हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 29, 2021, 5:28 PM IST
  • Share this:
कृषि कानूनों (New Farm Laws) के खिलाफ गाजीपुर बॉर्डर (Ghazipur Border) पर चल रहे धरने को खत्‍म कराए बिना धरना स्‍थल को खाली कराए जाने के बीच किसान आंदोलन (Kisan Andolan) को तेजी देने के लिए हरियाणा (Haryana) में पंचायतें हो रही हैं. कई गांवों में आज हो रही पंचायतों में किसानों (Farmers) को अधिक समर्थन दिए जाने की बात हो रही है. जींद में हुई महापंचायत में फैसला लिया गया है कि जब तक कृषि कानूनों को रद्द नहीं किया जाएगा, तब तक हर परिवार के एक सदस्य का बॉर्डर पर रहना जरूरी है. रोहतक, चरखी दादरी, नारनौंद में भी किसानों को अधिक समर्थन देने को लेकर कई गांवों की बैठकें बुलाई गई हैं.

-हिसार जिले के पाबड़ा गांव से सिंघु-टीकरी बॉर्डर के लिए दूध का टैंकर भेजा जा रहा है. यहां ग्रामीणों का कहना है कि अब पहले से अधिक किसानों का समर्थन रहेगा.

-जींद महापंचायत में फैसला लिया गया है कि जब तक कृषि कानून रद्द नहीं होते, तब तक हर परिवार के एक सदस्य का बॉर्डर पर रहेगा.

Youtube Video

-रोहतक में किसान मुद्दे को लेकर भी मीटिंग बुलाई गई है.

-हरियाणा के चरखी दादरी में बाबा स्वामी दयाल धाम में सुबह 11 बजे से फोगाट 19 की एक आम सभा की महापंचायत बुलाई गई है. इस बैठक में किसान आंदोलन को और गति देने के लिए विचार-विमर्श किया जाए रहा है. फ‍िलहाल यहां तय किय गया है कि किसानों का साथ देने के लिए बॉर्डर पर और ड्यूटियां लगाई जाएंगी. सभी से कहा गया है कि वे बॉर्डर पर धरनास्थल पर पहुंचें और किसानों को सहयोग दें.

-नारनौंद में भी 12 खाप किसानों के समर्थन में आई हैं और किसानों को और अधिक समर्थन देने का फैसला लिया है.



-रोहतक के मदीना गांव में किसान आंदोलन को लेकर बड़ी मीटिंग की सूचना है. गांव के पास रोड पर आज पूरा गांव धरना देगा. गांव वालों ने आंदोलन को खुलकर समर्थन करने का ऐलान किया है और कहा है कि वे टोल नहीं खुलने देंगे.

-भिवानी के कितलाना टोल पर भी आसपास के गांवों के लोगों ने सरकार और प्रशासन को आगाह किया है और उपायुक्‍त से कहा है कि वे किसानों पर अनावश्यक दवाब न बनाएं.

-संयुक्त किसान संगठनों की सुबह 11:30 बजे हिसार में मीटिंग हो रही है. आंदोलन को तेज करने के लिए रणनीति तैयार हो रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज