Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    Pollution meter: दिल्ली-एनसीआर नहीं ये है आज का सबसे प्रदूषित शहर

    सीपीसीबी के आंकड़ों के अनुसार आज लखनऊ शहर का एक्‍यूआई सबसे ज्‍यादा 328 दर्ज किया गया है.   (File Photo)
    सीपीसीबी के आंकड़ों के अनुसार आज लखनऊ शहर का एक्‍यूआई सबसे ज्‍यादा 328 दर्ज किया गया है. (File Photo)

    कोरोना महामारी (Covid Pandemic) के दौरान प्रदूषण (Pollution) का यह स्‍तर और भी ज्‍यादा खतरनाक होता जा रहा है. सीपीसीबी (CPCB) के आंकड़ों के अनुसार फरीदाबाद में आज एक्यूआई (AQI) 302, लखनऊ में 328, भिवाड़ी में 308 और बागपत में 325 दर्ज किया गया है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 21, 2020, 8:01 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्‍ली. देश में प्रदूषण अब अपनी जगह बदल रहा है. दिल्‍ली-एनसीआर के लोगों की सांसों में जहर भरने के बाद अब प्रदूषण ने अन्‍य शहरों की ओर रुख कर लिया है. पिछले हफ्ते जहां दिल्‍ली-एनसीआर के सभी शहरों में हवा की गुणवत्‍ता बहुत खराब स्थिति में पहुंच गई थी, वहीं आज के आंकड़े बताते हैं कि अब एनसीआर के प्रमुख शहरोंं में कुछ राहत दिखाई दी है जबकि देश के बाकी हिस्‍सों में प्रदूषण का स्‍तर बढ़ गया है.

    सेंट्रल पॉल्‍यूशन कंट्रोल बोर्ड की ओर से जारी किए गए आज के आंकड़े बताते हैं कि दिल्‍ली-गुरुग्राम और नोएडा का एयर क्‍वालिटी इंडेक्‍स आज बहुत खराब से खराब स्थिति की ओर लौटा है. पिछले हफ्ते जहां इन शहरों में एक्‍यूआई 300 से ऊपर दर्ज किया जा रहा था वहीं अब यह तीन सौ से नीचे आ गया है. जबकि बागपत, लखनऊ, भिवाड़ी, मेरठ, पानीपत और फरीदाबाद की हवा सबसे खराब श्रेणी में दर्ज की गई है.

    कोरोना महामारी के दौरान प्रदूषण का यह स्‍तर और भी ज्‍यादा खतरनाक होता जा रहा है. सीपीसीबी के आंकड़ों के अनुसार फरीदाबाद में आज एक्यूआई 302, लखनऊ में 328, भिवाड़ी में 308 और बागपत में 325, मेरठ में 339 और पानीपत में 350 दर्ज किया गया है. ऐसे में बुधवार को लखनऊ और मेरठ में हवा की गुणवत्‍ता बहुत खराब दर्ज करने के साथ ही पानीपत को सबसे ज्‍यादा प्रदूषित शहर मापा गया है.




    वहीं दिल्‍ली में एक्‍यूआई 256 के अलावा आगरा में 268, गाजियाबाद में 254, गुरुग्राम में 263 दर्ज करने के साथ ही हवा की गुणवत्‍ता में पहले से सुधार देखा गया है. हालांकि कोरोना महामारी के चलते यहां की हवा में सांस लेना अभी भी स्‍वास्‍थ्‍य के लिए नुकसानदायक ही है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज