निर्भया गैंगरेप केस: कोर्ट का डेथ वारंट जारी करने से इनकार, अदालत में ही छलके मां के आंसू
Delhi-Ncr News in Hindi

निर्भया गैंगरेप केस: कोर्ट का डेथ वारंट जारी करने से इनकार, अदालत में ही छलके मां के आंसू
दिल्ली सरकार ने उप राज्यपाल के पास सिफारिश भेज दी है. (News18 Creative)

तिहाड़ जेल प्रसाशन ने पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) में स्टेटस रिपोर्ट दायर करते हुए कहा कि दोषी विनय ने राष्ट्रपति के पास मर्सी पिटीशन (दया याचिका) दायर की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2019, 3:50 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. पिछले एक साल से निर्भया गैंगरेप केस (Nirbhaya Gang Rape Case) के दोषियों को फांसी दिलाने की मांग को लेकर पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) की चक्कर काट रहीं निर्भया की मां उस वक्त अपने आंसूओं को नहीं रोक पाईं, जब अदालत ने कहा कि फिलहाल चारों दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी नहीं कर सकते. दरअसल, आज तिहाड़ जेल प्रसाशन ने पटियाला हाउस कोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट दायर करते हुए कहा कि दोषी विनय ने राष्ट्रपति के पास मर्सी पिटीशन (दया याचिका) दायर की है. मर्सी पीटिशन पर फैसला नहीं होने तक दोषियों की डेथ वॉरंट जारी नहीं हो सकती है.

निर्भया के माता-पिता पिछले एक साल से पटियाला हाउस कोर्ट के चक्कर लगा रहे हैं. एक साल पहले इन्होंने निर्भया गैंगरेप के चारों दोषियों को जल्द से जल्द फांसी देने की याचिका कोर्ट में दायर की थी. शुक्रवार को याचिका पर सुनवाई करते हुए जज सतीश कुमार अरोड़ा ने कहा कि निर्भया के दोषियों के खिलाफ फिलहाल कोर्ट डेथ वारंट जारी नहीं कर सकता, क्योंकि एक दोषी विनय राष्ट्रपति के सामने मर्सी पिटीशन दायर कर चुका है. साथ ही एक दूसरे दोषी पवन ने खुद को जुवेनाइल होने को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की है. नियम के मुताबिक एक मामले में सभी दोषियों को एक साथ फांसी पर लटकाया जाता है. जज साहब की यह बात सुनते ही निर्भया की मां की आंखों से आंसू छलक गए.

13 दिसंबर को मामले में अगली सुनवाई
निर्भया की मां का कहना है कि वह काफी दुखी हैं. उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि आखिर कब तक पटियाला हाउस कोर्ट आना होगा. बहरहाल, 13 दिसंबर को मामले में अगली सुनवाई होनी है. कोर्ट ने उस दिन चारों दोषियों को हाजिर होने का निर्देश दिया है. कोर्ट ने चारों दोषियों को नोटिस जारी कर खुद पेश होकर अपना पक्ष 13 दिसंबर को रखने को कहा है. लेकिन, कानून के जानकार ये बताते हैं कि जब तक राष्ट्रपति का मर्सी पिटीशन पर फैसला नहीं आता है तब तक निर्भया के दोषियों को फांसी पर नहीं लटकाया जा सकेगा.






(रिपोर्ट- अमित कुमार सिंह)

ये भी पढ़ें-

निर्भया केस : ये है इंसाफ़ के इंतजार की कहानी और जमीनी हकीकत?

निर्भया के हत्‍यारों को दो हफ्तों में फांसी देने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार
First published: November 29, 2019, 2:59 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading