कोरोना दे रहा है डायबिटीज, कोविड की दूसरी लहर में बढ़े मामले   

कोरोना से ठीक होने के बाद लोग डायबिटीज की गिरफ्त में आ रहे हैं. (कॉन्सेप्ट इमेज.)

कोरोना से ठीक होने के बाद लोग डायबिटीज की गिरफ्त में आ रहे हैं. (कॉन्सेप्ट इमेज.)

देशभर में ऐसे सैकड़ों मामले सामने आए हैं जबकि लोगों को डायबिटीज की समस्‍या नहीं थी लेकिन कोरोना होने और फिर ठीक होने के बाद उनको डायबिटीज ने जकड़ लिया. आईसीएमआर में कोविड ऑपरेशन हेड डॉ. एन के अरोड़ा बताते हैं कि दूसरी लहर के बाद देश के लगभग सभी हिस्‍सों से मरीजों में डायबिटीज की शिकायतें सामने आई हैं.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. साल 2020 में कोरोना आने के साथ ही डायबिटीज (Diabetes) और ब्‍लड प्रेशर (BP)के  मरीजों को सावधान किया गया था. इस दौरान विशेषज्ञों ने कहा था कि कोरोना इन बीमारियों से पीड़ि‍त लोगों को जल्‍दी चपेट में ले रहा है लेकिन कोरोना की दूसरी लहर में चौंकाने वाले मामले सामने आ रहे हैं.

इस बार कोरोना (Corona) ठीक होने के बाद डायबिटीज (Diabetes) होने के मामलों में तेजी से बढ़ोत्‍तरी हुई है. जिसे देखकर स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ भी चिंता जाहिर कर रहे हैं. बता दें कि इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के अनुसार 2021 में शुरू हुई दूसरी लहर में कोरोना से बीमार पड़े लोगों के ठीक होने के बाद उनमें शुगर लेवल बढ़ने की समस्‍याएं सामने आ रही हैं.

देशभर में ऐसे सैकड़ों मामले सामने आए हैं जबकि लोगों को डायबिटीज की समस्‍या नहीं थी लेकिन कोरोना होने और फिर ठीक होने के बाद उनको डायबिटीज ने जकड़ लिया. आईसीएमआर में कोविड ऑपरेशन हेड डॉ. एन के अरोड़ा बताते हैं कि दूसरी लहर के बाद देश के लगभग सभी हिस्‍सों से मरीजों में डायबिटीज की शिकायतें सामने आई हैं.

डॉ. अरोड़ा कहते हैं कि इसे पोस्‍ट कोविड इफैक्‍ट (Post Covid Effect) )के रूप में भी देखा जा रहा है. हालांकि यह बहुत खतरनाक है. डायबिटीज होने के साथ ही शुगर लेवल भी 400 के पार पहुंच रहा है जो शरीर में और भी परेशानियां पैदा कर रहा है. ऐसे में कोरोना से ठीक हुए लोगों से शुगर की जांच नियमित कराते रहने की अपील भी की जा रही है.
कोरोना से उबरने के बाद शरीर में शुगर लेवल बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं हालांकि इसे नजरअंदाज करना सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है. ऐसे में कोरोना ठीक हो गया है तो भी रूटीन चेकअप कराने की बड़ी जरूरत है. इससे पोस्‍ट कोविड इफैक्‍ट का पता चलते ही इलाज लेने में आसानी होगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज