दिल्ली में कोविड की डरावनी रफ्तार, सत्येंद्र जैन बोले- संक्रमण की दर 13 फीसद से नीचे

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन  (File Photo)
दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन (File Photo)

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Delhi Health Minister Satyendra Jain) ने कहा कि संक्रमण की दर नीचे गिरने और त्योहारी सीजन बीतने से राजधानी में आने वाले दिनों में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) की स्थिति में सुधार आ सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2020, 5:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Delhi Health Minister Satyendra Jain) के मुताबिक राजधानी में कोरोना वायरस की तीसरी लहर का प्रकोप अब ढलने लगा है, लेकिन लहर जारी है. त्योहारी सीजन के खात्मे और प्रदूषण में कमी आने से आने वाले दिनों में राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) की स्थिति सुधरने की उम्मीद है.

जैन ने जोर देकर कहा कि आरटी-पीसीआऱ टेस्ट की संख्या दोगुनी करने और टेस्ट की संख्या 1 लाख या दो लाख करने के बावजूद संक्रमण की दर नीचे आ रही है. उन्होंने कहा, 'संक्रमण की दर नीचे आ रही है. निश्चित ट्रेंड दिख रहा है. सारे एक्सपर्ट्स की इस पर निगाह है. मैं एक्सपर्ट्स से बात कर रहा हूं. ट्रेंड दिख रहा है और इससे पता चलता है कि संक्रमण का प्रकोप (Peak) ढलान की ओर है. धीरे-धीरे संक्रमण की दर कम होगी. 15.33 के शीर्ष से ये नीचे आने लगी है. अब आप एक लाख टेस्ट करें या दो लाख, पॉजिटिविटी रेशियो नीचे ही जाएगा.'

ताजा आंकड़ों (जिसे सार्वजनिक किया गया है) का जिक्र करते हुए दिल्ली सरकार के मंत्री ने कहा कि 16 नवंबर को 50 हजार से ज्यादा टेस्ट किए गए और संक्रमण की दर 13 प्रतिशत के आसपास है. दिल्ली सरकार जल्द ही आंकड़े जारी करेगी.



स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि जब संक्रमण की दर 15 प्रतिशत के ऊपर चली गई तो एक्सपर्ट्स का अनुमान था कि ये 20 प्रतिशत के पार जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. सत्येंद्र जैन ने कहा, 'मैं एक चीज क्लियर कर देना चाहता हूं कि संक्रमितों की संख्या उतनी महत्वपूर्ण नहीं है, जितनी की संक्रमण की दर. एक हफ्ते पहले संक्रमण की दर 15 फीसदी से ज्यादा थी. 15.33 फीसद, अगर मैं सही हूं तो और सिर्फ एक हफ्ते का समय लगा संक्रमण की दर को 10 से 15 फीसदी पहुंचने में. फिर लगा कि संक्रमण की दर 20 फीसदी को छू सकती है. जून महीने में संक्रमण की दर 37 प्रतिशत से 40 प्रतिशत थी. विशेषज्ञों का कहना था कि दिल्ली में संक्रमण की दर 20 से 25 फीसदी तक जा सकती है.'
उन्होंने कहा, 'हालांकि संतुष्टि का मामला है कि पिछले एक सप्ताह से संक्रमण की दर 15.33 फीसद से नीचे गिरकर 13 फीसदी तक पहुंच गई है. अब निश्चित तौर पर कहा जा सकता है कि जब संक्रमण की दर नीचे जा रही है तो ये ऊपर नहीं जाएगी. संक्रमण की दर ढलने लगी है लेकिन दिल्ली में अब भी तीसरी लहर जारी है. प्रकोप का चरम पूरा हो चुका है और ये धीरे-धीरे कम होता जाएगा.'

दिल्ली में त्योहारी सीजन की समाप्ति और प्रदूषण में महत्वपूर्ण कमी को देखते हुए सत्येंद्र जैन ने कहा कि इसका प्रभाव भी कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति पर पड़ेगा. उन्होंने कहा, "एक साथ ही दिल्ली में बहुत सारे त्योहार थे, दिवाली, गोवर्धन पूजा और भैया दूज... लेकिन अब त्योहार बीत चुके हैं. प्रदूषण में भारी कमी आई है. मुझे विश्वास है कि इसका सकारात्मक प्रभाव भी दिखाई देगा.''

दिल्ली में कुछ जगहों पर फिर लग सकता है लॉकडाउन, CM केजरीवाल ने केंद्र को भेजा प्रस्ताव

सत्येंद्र जैन ने उन आरोपों को भी खारिज किया जिनमें कहा गया था कि बीते दो दिनों में कोविड टेस्ट की संख्या कम होने की वजह से दिल्ली में संक्रमण के मामले कम आ रहे हैं.

मंत्री ने कहा, 'अगर आरोप ये है कि दिल्ली में टेस्ट कम हो रहे हैं, तो हमें बताइए कि किस राज्य में टेस्ट ज्यादा हो रहे हैं. दिल्ली में प्रति दस लाख पर 2 लाख 88 हजार टेस्ट हो रहे हैं. इसका मतलब है कि दिल्ली में अभी तक 29 फीसद आबादी को टेस्ट किया जा चुका है. किसी भी दूसरे राज्य में इतने टेस्ट नहीं हो रहे. इसके आधे भी नहीं. इसलिए ये कहना कि दिल्ली में कम टेस्ट हो रहे हैं ये गलत है. हर दिन 50 से 60 हजार लोगों को टेस्ट किया जा रहा है.'

कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में बेड और इलाज के मुद्दे पर जैन ने कहा कि ये समस्या थी, लेकिन प्राइवेट अस्पतालों में. उन्होंने कहा कि दिल्ली में अभी 16,500 कोविड बेड्स हैं. अभी भी करीब 8 हजार बेड्स उपलब्ध हैं. निजी अस्पतालों में किल्लत बढ़ गई है.

जैन ने कहा कि इसके दो कारण है कि क्योंकि दिल्ली में बाहर के लोग भी हैं और दूसरे मिडिल क्लास, अपर मिडिल क्लास हैं, जो लोग इलाज के लिए प्राइवेट अस्पतालों में जाना पसंद करते हैं. गृहमंत्री से 750 आईसीयू बेड बढ़ाने को कहा गया था जिसे मान लिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज