दिल्ली दंगों के बाद अब भी डर के साये में जी रहे हैं लोग, आशियाना छोड़ने को हैं मजबूर
Delhi-Ncr News in Hindi

दिल्ली दंगों के बाद अब भी डर के साये में जी रहे हैं लोग, आशियाना छोड़ने को हैं मजबूर
मनोज तिवारी ने इलाके के लोगों से मुलाकात की.

इलाके में रह रहे परिवारों का कहना है कि वह दहशत में जी रहे हैं. आए दिन उन्हें धमकियां मिलती हैं. जिससे उनका जीना मुश्किल हो गया है. यही कारण है कि ऐसे लोगों ने अपने घरों के बाहर पोस्टर चिपका दिया है कि यह मकान बिकाऊ है.

  • Share this:
नई दिल्ली. पिछले दिनों दिल्ली में हुई हिंसा (Delhi Violence) की फिलहाल पुलिस जांच (Police Investigation) चल रही है. लेकिन उस इलाके में रहने वाले कई लोग अब अपना आशियाना छोड़कर दूसरी जगहों पर जाने के लिए मजबूर हैं. हिंदू परिवार दंगाग्रस्त इलाकों से पलायन के लिए मजबूर है, क्योंकि हिंसा के 4 महीने बीत जाने के बाद भी वह अपने को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं.

आपको बता दें कि दंगों में पकड़े गए कुछ परिवार हिंदू समुदाय के भी हैं. इन परिवारों का कहना है कि वह दहशत में जी रहे हैं. आए दिन उन्हें धमकियां मिलती हैं. डराया जाता है. जिससे उनका जीना मुश्किल हो गया है. यही कारण है कि ऐसे लोगों ने अपने घरों के बाहर पोस्टर चिपका दिया है कि यह मकान बिकाऊ है.

पुलिस से भी शिकायत करने से डर रहे लोग



हाल यह है कि ये लोग पुलिस में शिकायत करने से भी डर रहे हैं और खुलकर बात भी नहीं करना चाहते. 24 फरवरी को जिस तरीके से वहां दंगे हुए इससे कई लोगों को संपत्ति का नुकसान उठाना पड़ा. कई लोगों की जान भी गई. मोहनपुरी, मधुबन मोहल्ला, मौजपुर जैसे इलाकों में लोग डर-डर कर जी रहे हैं. आपको बता दें कि इन इलाकों में 15 से 16 परिवार रहते थे, जिनको आरोप में जेल भेजा गया था, ये लोग दंगे के वक्त उस इलाके में नहीं थे. अपने घरों में थे या बहुत से लोग खुद पुलिस की मदद कर रहे थे. अब यह परिवार इस इलाके से पलायन करने को मजबूर है.
डर के साथ आर्थिक तंगी भी

मोहल्ले में रहने वाले एक परिवार ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि उनका बेटा जेल में डाल दिया गया, जिसका कोई कसूर नहीं था. बल्कि वह पुलिस की मदद ही कर रहा था. अब हालत यह है कि आसपास के लोग उनके परिवार को धमकियां दे रहे हैं और कहते हैं कि उन्हें यहां नहीं रहने दिया जाएगा. एक ही साथ इन परिवारों को आर्थिक तंगी का भी सामना करना पड़ रहा है. रिश्तेदारों से पैसे मांग कर गुजारा करना पड़ रहा है, इसीलिए घर के बाहर पोस्टर लगा दिए गए हैं कि यह मकान बिकाऊ है.



डरने की जरूरत नहीं : मनोज तिवारी

दिल्ली बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने भी ट्वीट कर जानकारी दी कि यह मामला अभी उनके संज्ञान में कल रात आया था, जो बेहद गंभीर है. उन्होंने आज दंगा पीड़ित कई इलाकों का दौरा किया. लोगों से मुलाकात की. उनसे हालचाल जाना. उन्हें भरोसा दिलाया कि निर्दोषों को कुछ नहीं होगा. उन्होंने कहा है कि किसी भी परिवार को डरने की जरूरत नहीं है. पलायन के लिए भी मजबूर होने की जरूरत नहीं है.

मामला न्यायालय में है, विश्वास रखें : संघ

विश्व हिंदू परिषद ने भी कहा है कि इनलोगों को डरने की कोई जरूरत नहीं है और न ही पलायन करने की जरूरत. उन्होंने कहा कि उनके परिवार की सुरक्षा का प्रबंध भी किया जाएगा और बेकसूर लोगों को जल्द छुड़ाया जाएगा. मामला न्यायालय में है. न्याय पर विश्वास रखें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading