• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Modi Cabinet : मीनाक्षी लेखी की एक सलाह ने पीएम मोदी का जीत लिया था दिल, फिर झटपट उठाया ये बड़ा कदम

Modi Cabinet : मीनाक्षी लेखी की एक सलाह ने पीएम मोदी का जीत लिया था दिल, फिर झटपट उठाया ये बड़ा कदम

सुप्रीम कोर्ट की तेजतर्रार वकील मीनाक्षी लेखी ने 2010 में बीजेपी में एंट्री ली थी.

सुप्रीम कोर्ट की तेजतर्रार वकील मीनाक्षी लेखी ने 2010 में बीजेपी में एंट्री ली थी.

PM Narendra Modi Cabinet Expansion 2021: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल विस्‍तार में नई दिल्‍ली से बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी (MP Meenakshi Lekhi) को भी शामिल किया गया है. हालांकि उन्‍हें राज्यमंत्री का पद दिया गया है. वैसे पीएम मोदी ने उनकी सलाह पर ही रेसकोर्स रोड का नाम बदला था, तो लेखी की ही वजह से 'चौकीदार चोर है' बयान देने पर राहुल गांधी को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर माफी मांगनी पड़ी थी.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की नई टीम ऐलान हो गया है, जिसमें पहली बार सांसद मीनाक्षी लेखी (MP Meenakshi Lekhi) को केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह मिली है. हालांकि नई दिल्ली लोकसभा क्षेत्र से लगातार दो बार यूपीए सरकार में मंत्री रहे अजय माकन को हराकर संसद वाली इस तेजतर्रार नेता को राज्यमंत्री का पद दिया गया है, जो कि दिल्ली से नुकसान है. बता दें कि अब तक दिल्ली से डॉ. हर्षवर्धन कैबिनेट मंत्री थे, लेकिन अब मीनाक्षी लेखी राज्यमंत्री बनी हैं. वैसे सांसद लेखी पीएम मोदी को एक सलाह देने की वजह से भी जानी जाती हैं, जिसे न सिर्फ उन्‍होंने माना बल्कि उसके बाद कई ताबड़तोड़ एक्‍शन भी ले डाले थे.

    बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की तेजतर्रार वकील मीनाक्षी लेखी की बीजेपी में 2010 में एंट्री महिला मोर्चा के उपाध्यक्ष के तौर पर हुई थी, लेकिन हिन्दी और अंग्रेजी भाषा पर समान अधिकार रखने के कारण उन्‍हें 2013 में पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता बना दिया गया. फिर 2014 के लोकसभा चुनाव में उनका सामना नई दिल्‍ली लोकसभा सीट पर दो बार के मंत्री और कांग्रेस नेता अजय माकन से हुआ, जिसमें वह बीस साबित हुईं. इसके बाद उन्‍होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. वहीं, 2017 में लेखी को बेस्‍ट डेब्‍यू वूमेन पार्लियामेंटेरियन के रूप में पार्लियामेंट लोकमत अवार्ड से सम्‍मानित किया गया, तो 2019 में भी नई दिल्‍ली सीट से सांसद बनकर संसद पहुंची.

    मीनाक्षी लेखी की वजह से बदला पीएम का पता
    वैसे तो मीनाक्षी लेखी ने संसद में तीन तलाक से लेकर हर महत्वपूर्ण मुद्दे पर अपने ही अंदाज में सरकार का पक्ष रखा है, लेकिन खास बात उनकी पीएम मोदी को एक सलाह है जिसके बाद देश के प्रधानमंत्री का पता ही बदल गया. दरअसल उन्होंने ही प्रधानमंत्री निवास वाली सड़क रेसकोर्स का नाम बदलकर लोक कल्याण मार्ग रखने का सुझाव दिया था. जबकि पीएम को उनका ये सुझाव न सिर्फ पसंद आया बल्कि रेसकोर्स मार्ग के साथ दिल्‍ली के कई और मार्गों के नाम भी बदल दिये गए.

    राहुल गांधी पर पड़ीं भारी
    बता दें कि 2019 में कांग्रेस के 'चौकीदार चोर है' अभियान को झटका देने में मीनाक्षी लेखी की अहम भूमिका रही. दरअसल राहुल गांधी ने राफेल सौदे को लेकर चौकीदार चोर है अभियान चलाने के साथ कहा था कि सुप्रीम कोर्ट भी उनकी बात मान चुका है. इसके बाद लेखी ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर राहुल गांधी को न सिर्फ बिना शर्त माफी मांगनी पड़ी बल्किबयान वापस लेना पड़ा था.

    दिल्‍ली में जन्‍म और यहां से की पढ़ाई
    नई दिल्‍ली में 30 अप्रैल 1967 को जन्‍मी मीनाक्षी लेखी ने दिल्‍ली के हिंदू कॉलेज से बॉटनी में बीएससी करने के बाद डीयू के लॉ सेंटर से एलएलबी की. 1990 में लेखी ने बार काउंसिल ऑफ दिल्‍ली में रजिस्‍ट्रेशन के साथ ही दिल्‍ली हाईकोर्ट, देश के कई हिस्‍सों में बने ट्रिब्‍यूनल और सुप्रीम कोर्ट में प्रेक्टिस शुरू की. जबकि मीनाक्षी लेखी के पति का नाम अमन लेखी है जो खुद भी सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया में वकील हैं और एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया भी हैं. इन्‍होंने दिल्‍ली के सेंट जेवियर्स स्‍कूल से पढ़ाई की है. इन दोनों के दो बच्‍चे हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज