PNB घोटाला मामले में फरार कारोबारी मेहुल चोकसी को जल्द ही लाया जा सकता है भारत

पीएनबी घोटाले का आरोपी मेहुल चौकसी. ( File pic)

पीएनबी घोटाले का आरोपी मेहुल चौकसी. ( File pic)

पीएनबी स्कैम (PNB Scam) मामले में देश से फरार आरोपी मेहुल चोकसी मामले में एक बड़ी कार्रवाई हुई है. मेहुल चौकसी जो पिछले कुछ दिनों पहले अचानक एंटीगुआ से लापता हो गया था.

  • Share this:

नई दिल्ली. पीएनबी स्कैम (PNB Scam) मामले में देश से फरार आरोपी मेहुल चोकसी मामले में एक बड़ी कार्रवाई हुई है. मेहुल चोकसी जो पिछले कुछ दिनों पहले अचानक एंटीगुआ से लापता हो गया था. अब बीते मंगलवार को (भारतीय समय के मुताबिक ) को उसे तलाश कर लिया गया है. मेहुल चोकसी को कैरिबियाई देश डॉमिनिका में देखा गया, जहां से वो क्यूबा देश भागने की फिराक में था , लेकिन उसके वहां से फरार होने के पहले ही डॉमिनिका आइलैंड की पुलिस ने उसे हिरासत में लेने के बाद उससे कई घंटों तक पूछताछ करने के बाद  उसे गिरफ्तार करके वापस एंटीगुआ भेजने के लिए डिप्लोमेटिक तरीके से बातचीत में जुट गई है. इसके लिए इंटरपोल की भी मदद ली जा रही है.

इस मसले भारत देश की एजेंसी इंटरपोल की टीम को ये बताने का प्रयास कर रही है कि मेहुल चोकसी भारत से फरार आरोपी है, जिसके खिलाफ इंटरपोल द्वारा भारत ने रेड कॉर्नर नोटिस (Red corner notice ) जारी करवा चुकी है. लिहाजा भारत को उसे सौंप दिया जाए.

सीबीआई टीम हो सकती है रवाना

सीबीआई के वरिष्ठ सूत्रों की अगर मानें तो मेहुल चोकसी को जल्द ही भारत देश लाया जा सकता है. इसके लिए अगली रणनीति सीबीआई की टीम बना रही है. इस विशेष ऑपरेशन के लिए सीबीआई की टीम इंटरपोल (Interpol ) और भारतीय विदेश मंत्रालय के अधिकारी (MEA ) सहित खुफिया एजेंसी के अधिकारी के साथ संपर्क में जुटी हुई है. खुफिया एजेंसी के सूत्रों की अगर मानें तो विशेष विमान से जल्द ही लाने के लिए सीबीआई की टीम विदेश रवाना होने वाली है.
सीबीआई के मौजूदा निदेशक (CBI Directar) खुद कुछ सालों पहले पहले खुफिया एजेंसी रॉ में रह चुके हैं. ऐसे आरोपियों के हर दांव पेंच को बखूबी जानते हैं. इसके साथ ही उसका समाधान निकालने के लिए भी उचित कानूनी प्रक्रिया से भी वाकिफ हैं. खुफिया एजेंसी के सूत्रों की अगर मानें तो इस ऑपरेशन में भारत सरकार के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA ) अजीत डोवल (Ajit Doval) का गुप्त ऑपरेशन भी पिछले कुछ समय से चल रहा था ,शायद इसी का तकाजा है कि सुबोध कुमार जायसवाल के निदेशक बनते ही इस ऑपरेशन को अंजाम में जुट गए.

आखिर क्यों फरार हुआ था मेहुल चौकसी

दरअसल मेहुल चोकसी पिछले रविवार को यानी 23 मई शाम साढ़े पांच बजे अचानक अपने आवास से अपने कार से बाहर निकला था, लेकिन कुछ देर के बाद उसकी कार वहीं आसपास लावारिस हालात में पाया गया था. उसके बाद उसके परिजनों और मेहुल चोकसी के भारत में स्थित वकील विजय अग्रवाल के द्वारा मीडिया सहित अन्य एजेंसियों को बताया गया कि वो एंटीगुआ से लापता हो गया है, जिसके लिए वो सभी बेहद परेशान हैं. हालांकि उस घटना के बाद वहां की रॉयल पुलिस फोर्स तत्काल प्रभाव से सबसे पहले  मेहुल चोकसी को तलाशने के लिए उसके एक स्टील तस्वीर के साथ एक बयान जारी करके उसको तलाशने  में जुट गई थी. एंटीगुआ के जॉली हार्बर इलाके में भारत देश से फरार कारोबारी मेहुल चोकसी पिछले काफी समय से रह रहा है. साल 2018 में मेहुल चोकसी भारत देश को छोड़कर चोरी - चुपके फरार हुआ था. उसके बाद से भारत देश की जांच एजेंसी सीबीआई (CBI) और ईडी (ED) की टीम उसे वापस भारत में प्रत्यर्पित कराने के लिए प्रयत्नशील है.



घोटाले का आरोपी लापता होने में है उस्ताद

देश से फरार एक अन्य चर्चित कारोबारी नीरव मोदी का रिश्ते में मामा लगता है, आरोपी मेहुल चोकसी , जांच एजेंसी CBI के सूत्रों के मुताबिक कई बैंकों को ये करीब 13 ,500 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा करके फरार इस विलफुल डिफॉल्टर की सूची में ये सबसे ऊपर स्थान पर है. एंटीगुआ की नागरिकता प्राप्त कारोबारी मेहुल चोकसी उस आइलैंड को छोड़कर क्यों गया या क्यों फरार हुआ ? ,इस मामले की पड़ताल भारत देश की जांच एजेंसी CBI और ईडी कर ही रही थी कि कुछ दिनों के अंदर ही 26 मई को इस मामले की जानकारी डॉमिनिका आइलैंड की पुलिस टीम को इस बात की जानकारी मिली कि उसे हिरासत में लेने के बाद उसके बारे में इंटरपोल (Interpol) और एंटीगुआ की रॉयल पुलिस फोर्स को इस जानकारी को औपचारिक तौर पर साझा किया गया, लेकिन सबसे बड़ा सवाल है कि जब एंटीगुआ से दूसरा अन्य आइलैंड डॉमिनिका क्यों गया था ,ये फिलहाल अभी तक औपचारिक तौर पर जानकारी भारत की  केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई (CBI ) द्वारा नहीं मिल सकी है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज