लाइव टीवी

लाइब्रेरी में घुसकर छात्रों की पिटाई बर्दाश्त से बाहर, पुलिस पर करेंगे FIR : जामिया यूनिवर्सिटी VC

News18Hindi
Updated: December 16, 2019, 2:13 PM IST
लाइब्रेरी में घुसकर छात्रों की पिटाई बर्दाश्त से बाहर, पुलिस पर करेंगे FIR : जामिया यूनिवर्सिटी VC
रविवार को जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई हिंसा के बारे में वीसी नजमा अख्तर ने विश्वविद्यालय का पक्ष रखा है.

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान रविवार को जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय (Jamia Millia Islamia University) में हुई हिंसा के बारे में वीसी नजमा अख्तर (VC Najma Akhtar) ने विश्वविद्यालय का पक्ष रखा है. उन्होंने छात्रों से अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 16, 2019, 2:13 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय (Jamia Millia Islamia University) की कुलपति नजमा अख्तर (VC Najma Akhtar) ने प्रदर्शन के बाद हुई हिंसा की घटना के बारे में सोमवार को मीडिया को विस्तार से जानकारी दी. गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान रविवार को जामिया नगर और जामिया विश्वविद्यालय दोनों जगह हिंसा की घटनाएं हुई थीं.

जबरन कैंपस में घुसने के मामले में पुलिस के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराएंगे
कुलपति नजमा अख्तर ने कहा, 'पुलिस बिना पूछे कैंपस में घुस आई. जबरन कैंपस में घुसने के मामले में हम पुलिस के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराएंगे. छात्रों को डराने के लिए मारपीट की गई.
उन्होंने कहा कि, पुलिस ने लाइब्रेरी में छात्रों पर लाठीचार्ज किया. जामिया में हुई हिंसा की उच्चस्तरीय जांच हो क्योंकि इसमें बाहरी लोग शामिल थे.

छात्र अफवाहों पर न करें भरोसा
वीसी ने बताया, 'पुलिस की कार्रवाई से जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय का विश्वास हिल गया है. पुलिस की कार्रवाई से विश्वविद्यालय के दो छात्रों के मरने की खबर गलत है. पुलिस कार्रवाई में लगभग 200 लोग घायल हुए हैं, इसमें विश्वविद्यालय के कई छात्र भी शामिल हैं. यूनिवर्सिटी को बहुत नुकसान पहुंचा है. उन्होंने अपील की है कि, छात्र अफवाहों पर भरोसा न करें.

जामिया विश्वविद्यालय को टारगेट न किया जाए
कुलपति नजमा अख्तर ने कहा कि, जामिया को टारगेट न किया जाए. विश्वविद्यालय के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि रविवार को प्रदर्शन में बाहरी और विश्वविद्यालय के पड़ोस में रहने वाले लोग भी शामिल थे, लेकिन जब दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश की तो उसके बाद हिंसा हो गई.

पुलिस ने कैंपस में नहीं किया फायर
पुलिस ने परिसर में फायर किया या नहीं इस सवाल के जवाब में, जामिया मिल्लिया विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार एपी सिद्दीकी ने कहा, 'हमने इस पर पुलिस के संयुक्त आयुक्त और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से बात की, और उन्होंने इस अफवाह का जोरदार खंडन किया है. पुलिस ने परिसर में स्थित मस्जिद में प्रवेश किया और छात्राओं पर यौन हमला किया के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'सोशल मीडिया पर बहुत सारी अफवाहें उड़ रही हैं, हम उन सभी की पुष्टि या खंडन नहीं कर सकते.'

यह भी पढे़ं - हाड़ कंपाने वाली ठंड में शर्ट उतारकर जामिया के छात्रों ने किया प्रदर्शन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 16, 2019, 1:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर