Assembly Banner 2021

New Delhi: राजनीति सेवा का काम है, राबर्ट वाड्रा पहले उन किसानों के बारे में सोचें, जिनकी जमीन हड़पीं: अलका गुर्जर

राबर्ट वाड्रा ने जयपुर में गुरुवार को गणेश मंदिर में विधि-विधान से पूजा की थी, जिस पर भाजपा ने तंज कसा है.

राबर्ट वाड्रा ने जयपुर में गुरुवार को गणेश मंदिर में विधि-विधान से पूजा की थी, जिस पर भाजपा ने तंज कसा है.

भाजपा नेता अलका गुर्जर ने राबर्ट वाड्रा को नसीहत देते हुए कहा है कि राजनीति सेवा का काम है और वाड्रा इसे नहीं कर पाएंगे. बीजेपी की राष्ट्रीय मंत्री ने कहा कि वाड्रा को पहले उन किसानों की भलाई के बारे में सोचना चाहिए, जिनकी उन्होंने जमीनें हड़पीं हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2021, 12:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बीजेपी की राष्ट्रीय मंत्री अलका गुर्जर ने रॉबर्ट वाड्रा को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि राबर्ट वाड्रा राजनीति में आएं, लेकिन उन्हें ये समझना होगा कि राजनीति सेवा का काम है और उन्हें उन किसानों की भलाई करने के बारे में कुछ सोचना चाहिए, जिनकी जमीनें हड़प लीं. असल में, बीकानेर जमीन घोटाला मामले में राबर्ट वाड्रा पेशी पर राजस्थान आए हैं और इस बीच में उन्होंने वहां के एक मंदिर भी गए. बता दें कि गुरुवार को पेशी पर जयपुर पहुंचे रॉबर्ट वाड्रा ने गणेश मंदिर में दर्शन कर विधि विधान से पूजा अर्चना की और भगवान से आशीर्वाद लिया था.

अलका गुर्जर ने कहा कि 'यह अच्छी बात है कि रॉबर्ट वाड्रा को परेशानी के समय देव दर्शन का समय मिल
गया. जहां तक राजनीति में आने की बात कर रहे हैं तो राजनीति सेवा का काम है. उनको यह बात समझनी चाहिए. राजस्थान पेशी के लिए आए हैं और वह उस पेशी के लिए आए हैं. जिसमें बीकानेर के किसानों की जमीन हड़प लिये हैं. पहले उन किसानों की भलाई के बारे वाड्रा को कुछ सोचना चाहिए. राजनीति सेवा का काम है, परिवार को आगे बढ़ाने के लिए और जो गलत काम किए हैं. उसको बचाने के लिए राजनीति में आना चाहते है तो जनता सब देख रही है. कांग्रेस ने देश को बर्बाद किया है इसे देश की जनता देख रही है'.

राजस्थान सरकार के तरफ से मथुरा के रेप पीड़िता को दी जा रही सहायता पर अलका गुर्जर ने कहा कि राजस्थान में कानून व्यवस्था नही है. अपराधियों की शरणस्थली है. महिला अपराध में राजस्थान नम्बर एक पर है. राजस्थान में पीड़ित-मां बेटी ने राष्ट्रपति से इच्छा मृत्यु की मांग करती है. सरकार उनकी कोई सुध नहीं ले रही है.
अशोक गहलोत आप पड़ोसी राज्य में सहायता भेजकर राजनीति कर रहे है. अशोक गहलोत यह घृणित काम है. जो राजनीति का विषय नही उसमें भी राजनीति करना गलत है, जनता सब कुछ समझ रही है. उन्होंने बजट में सिर्फ घोषणाएं की हैं, चार उप चुनाव होने है वहां घोषणाओं का अंबार लगा दिए हैं. इसे जनता अच्छे से समझ रही है और वह उपचुनाव में दिख जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज