लाइव टीवी

नई गाड़ी पर साल भर तक जरूरी नहीं प्रदूषण सर्टिफिकेट, पुलिस नहीं कर सकती चालान!
Delhi-Ncr News in Hindi

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: September 11, 2019, 3:04 PM IST
नई गाड़ी पर साल भर तक जरूरी नहीं प्रदूषण सर्टिफिकेट, पुलिस नहीं कर सकती चालान!
दिल्ली ट्रैफिक पुलिस को जब अपनी गलती का अहसास हुआ तो यह फरमान वापस ले लिया

आरटीआई (RTI) के जवाब में दिल्ली (DELHI) के ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने दिया जवाब, वाहन कितना प्रदूषण (Pollution) फैला रहे हैं इसका कोई रिकॉर्ड नहीं!

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 11, 2019, 3:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. एक सितंबर से नया मोटर व्हीकल एक्ट  (New Motor vehicle Act) लागू होने के बाद ट्रैफिक पुलिस (Traffic Police) एक्शन में आ गई है. नियम पालन न करने वालों के चालान काट रही है. लेकिन इससे जुड़ी मनमानी भी कम नहीं हो रही. उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में एक कार चालक का 500 रुपये का चालान (Challan) इसलिए काट दिया क्योंकि उसने कार के अंदर हेलमेट नहीं पहन रखा था. पीयूसी (पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल) सर्टिफिकेट (PUC) को लेकर भी ऐसी मनमानी जारी है. आपकी नई गाड़ी को पुलिस रोक रही है लेकिन धुंआ उगलते भार वाहनों पर ध्यान नहीं. ऐसे में आपको यह जानना चाहिए कि पुलिस कब पीयूसी नहीं होने पर भी चालान नहीं काट सकती. आरटीआई के सवाल पर दिल्ली (Delhi) के ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट (Transport Department) ने इस बारे में जवाब दिया है.

ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने कहा है कि नई गाड़ी पर साल भर तक इसकी जरूरत नहीं. यह अवधि पहले रजिस्ट्रेशन से मान्य होगी. फरीदाबाद निवासी आरटीआई एक्टिविस्ट अनुभव सुखीजा ने आरटीआई लगाकर यह जानकारी हासिल की है. तो अगर आपकी नई गाड़ी पर पीयूसी न होने के आरोप में चालान कट जाए तो मामले की पहले पुलिस उच्चाधिकारियों और ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट में शिकायत करिए. वहां से सुनवाई न हो तो पुलिस के खिलाफ कोर्ट में जाईए. पुलिस पर कार्रवाई होगी और चालान भी कैंसिल होगा. दरअसल, जानकारी के अभाव में कई वाहन चालकों को पुलिस परेशान करती है. पुलिसवाले नई गाड़ी पर भी इसकी मांग करने लग जाते हैं.

 मोटर व्हीकल एक्ट, New Motor vehicle Act, no challan for new car, नई कार के लिए चालान नहीं, no challan for new bike, नई बाइक के लिए चालान नहीं, pollution certificate not required, प्रदूषण नियंत्रण सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं, car pollution certificate, कार प्रदूषण सर्टिफिकेट, bike pollution certificate, बाइक प्रदूषण सर्टिफिकेट, puc, पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल, traffic police, ट्रैफिक पुलिस, new road safety rules
कोई भी पुलिसवाला नई बाइक का साल भर तक नहीं मांग सकता पीयूसी


आरटीआई के जवाब में बताया गया है कि प्रदूषण नियंत्रण सर्टिफिकेट को लेकर यदि पीयूसी वेंडर मनमानी करे तो उसके खिलाफ दिल्ली में 42-400-400 नंबर पर शिकायत कर सकते हैं.

वाहनों से कितना प्रदूषण? सरकार के पास रिकॉर्ड नहीं!

सरकार वाहनों को प्रदूषण फैलाने का जिम्मेदार मानती है, इसके लिए चालान भी काट रही है, लेकिन उसके पास इसका कोई आंकड़ा नहीं है कि दिल्ली में होने वाले प्रदूषण में वाहनों का कितना हिस्सा है. आरटीआई के सवाल पर दिल्ली के ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने कहा है कि उसके पास ऐसा कोई आंकड़ा नहीं है. लेकिन यह जरूर कहा कि दिल्ली का पीयूसी सर्टिफिकेट पूरे देश में मान्य है.

ये भी पढ़ें:चेकिंग का वीडियो बनाते वक्त आपके मोबाइल को हाथ भी नहीं लगा सकती ट्रैफिक पुलिस!

भारी-भरकम चालान काट चुके ट्रैफिक वाले ही अब बताएंगे बचने का भी तरीका!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 12:28 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर