लाइव टीवी
Elec-widget

इस फिंगर टेस्ट से खुद पता लगाएं कहीं आप भी तो नही हो गए प्रदूषण के शिकार


Updated: November 28, 2019, 9:55 AM IST
इस फिंगर टेस्ट से खुद पता लगाएं कहीं आप भी तो नही हो गए प्रदूषण के शिकार
Shamroth Finger Test

इसे कहते हैं 'शैमरॉथ विंडो टेस्ट' (Schamroth Window Test). कैंसर रिसर्च यूके (Cancer Research UK) का दावा है कि इस फिंगर क्लबिंग टेस्ट (Finger Clubbing Test) के जरिए आप खुद ही लंग कैंसर के लक्षण का पता लगा सकते हैं.

  • Last Updated: November 28, 2019, 9:55 AM IST
  • Share this:
नईदिल्ली.  प्रदूषण की मार झेल रहे भारत में दिन (Pollution in India) प्रतिदिन फेफड़े की बीमारियों का खतरा (Respiratory Dieseases) बढ़ता जा रहा है. इनमें से सबसे घातक बीमारी है लंग कैंसर(Lung Cancer causes) . लेकिन क्या आप जानते हैं कि लंग कैंसर का पता लगाना (How to detect lung cancer) आपकी ऊंगलियों का खेल है. इसे कहते हैं 'शैमरॉथ विंडो टेस्ट' (Schamroth Window Test). कैंसर रिसर्च यूके (Cancer Research UK) का दावा है कि इस फिंगर क्लबिंग टेस्ट (Finger Clubbing Test) के जरिए आप खुद ही लंग कैंसर के लक्षण का पता लगा सकते हैं.

कैंसर रिसर्च यूके के मुताबिक यदि आपकी ऊंगलियों के नाखून मिलाने पर हीरे की आकृति का छेंद नहीं दिखता तो आपको लंग कैंसर का पता लगाने के लिए टेस्ट करवाने चाहिए. जब यह गैप नहीं होगा और आपके नाखून के ऊपर की चमड़ी आपस में मिल जाए तो समझ लीजिए कि आपको एक प्रकार से फेफड़े का कैंसर हो सकता है.

हालांकि वैज्ञानिकों ने यह साफ किया कि यह टेस्ट केवल 35 फीसदी मामलों में ही कैंसर की पुष्टि करता है. आपको अपनी विस्तृत रिपोर्ट के लिए कैंसर टेस्ट करवाना होगा. ऊंगलियों के नाखून के ऊपर तरल पदार्थ जमा हो जाने की वजह से नाखूनों के बीच गैप नहीं रहता. सामान्य टेस्ट के तौर पर मेडिकल प्रोफेशनल्स इसका इस्तेमाल करते हैं.

वैज्ञानिकों के मुताबिक ऊंगलियों पर जमने वाला तरल पदार्थ कैंसर ट्यूमर की देन है. उनके मुताबिक ट्यूमर से बनने वाला हार्मोन यह तरल पदार्थ बनाता है. जो बाद में ऊंगलियों के ऊपरी हिस्से में जाकर जमा हो जाता है.

कुछ वैज्ञानिक तो नाखूनों और उसके आसपास आने वाले बदलावों को भी कैंसर की स्टेज से जोड़ते हैं. जैसे अगर आपके पहले तो नाखून से जुड़ी चमड़ी कुछ नर्म पड़ती है. अगले स्टेज में नाखून सामान्य से अधिक मु़ड़ जाते हैं.

इस टेस्ट में दोनो हाथ के अंगूठे के बगल वाली ऊंगली के नाखूनों को एक दूसरे से लगाना होता है. अगर आपको दोनो के बीच हीरे की आकार का छेद नहीं दिखे तो समझ जाइए कि यह खतरे की घंटी है.

ये भी पढ़ें:
Loading...

अपने ही नवजात शिशुओं को कोका-कोला पिलाकर मार रहीं हैं माताएं!

क्यों पैदा होते हैं एक धड़ पर दो सिर वाले बच्चे, कैसे बचेंगे विदिशा में पैदा हुए जुड़वा!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 2:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...