DELHI-NCR में प्रदूषण बढ़ा, प्रचंड गर्मी से अभी नहीं मिलेगी राहत
Delhi-Ncr News in Hindi

DELHI-NCR में प्रदूषण बढ़ा, प्रचंड गर्मी से अभी नहीं मिलेगी राहत
दिल्ली एनसीआर में प्रचंड गर्मी पड़ रही है

दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) समेत उत्तरी भारत के मैदानी इलाकों में तापमान 45 डिग्री के आसपास रह रहा है. यहां गर्म और शुष्क हवाएं (Hot and Dry Wave) चल रही हैं. मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले कुछ दिनों तक इसमें कोई राहत नहीं मिलेगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आप दिल्ली-एनसीआर (Delhi-Ncr) में रहते हैं तो आप यह सोच रहे होंगे कि यहां के तापमान में अचानक बढ़ोतरी का कारण क्या है? तापमान (Temprature) में सिर्फ दिल्ली और एनसीआर में ही नहीं बल्कि उत्तर भारत के मैदानी राज्यों के अधिकांश इलाकों में भीषण गर्मी (Scorching Heat) का सामना करना पड़ रहा है. उत्तर पश्चिमी भारत के कई हिस्सों का तापमान 45 डिग्री रिकॉर्ड किया जा रहा है. मानसून सीजन के दौरान या यूं कहें कि 2020 में दिल्ली और एनसीआर में लू का यह पहला झटका लगा है. ​एनसीआर के लोग आमतौर पर अप्रैल के दूसरे पखवाड़े से ही लू चलने लगती है. अप्रैल के आखिर तक उत्तर भारत के मैदानी राज्यों में लू का प्रकोप शुरू हो जाता है.

आठ-नौ दिनों से दिल्ली का मौसम शुष्क बना हुआ है

प्री मानसून सीजन में अचानक मौैसम बदलने यानि आंधी-तूफान और गरजते बादलों के साथ अचानक बारिश या दो-तीन दिन लगातार बादल छाए रहने की घटना देखी जाती रही हैं. इस साल ये घटनाएं बढ़ती गर्मी से राहत भी दिलाती रही. 2020 के अप्रैल और मई में बादलों और बारिश की राहत काफी लंबे समय तक एनसीआर के लोगों को गर्मी से राहत पहुंचाती रही और मई के शुरूआती तीन हफ्ते दिल्ली-एनसीआर लोगों को ज्यादा गर्मी नहीं झेलनी पड़ी है. बीते आठ-नौ दिनों से दिल्ली का मौसम लगातार शुष्क बना हुआ है और पिछले चार दिनों से दिल्ली में गर्म और शुष्क हवाओं के चलने के कारण तापमान में लगातार बढ़ोतरी होती जा रही है और गर्मी बर्दाश्त से बाहर होती जा रही है.



दिल्ली और एनसीआर में प्रदूषण भी बढ़ा



देश में मार्च के आखिरी सप्ताह से लागू लॉकडाउन के चलते दिल्ली में प्रदूषण के स्तर में कमी आई है. इसके चलते आबोहवा जितनी साफ हुई थी, उतनी पिछले एक-दो दशक में नहीं देखी गई थी. लॉक डाउन 4.0 में छूट देने के बाद यातायात में बढ़ोतरी हुई है. कल कारखानों में काम शुरू हो गया. भवन निर्माण आदि जैसे कार्य शुरू हुए जिसके चलते दिल्ली में प्रदूषण का स्तर फिर से बढ़ने लगा है. प्रदूषण के स्तर में वृद्धि का एक कारण राजस्थान से आने वाली धूलभरी हवाएं भी हैं. स्काई मेट का अनुमान है कि अगले 3 से 4 दिनों तक मौसम इसी तरह शुष्क और हरम हवाओं भरा रहेगा जिससे न लू में कोई राहत मिलेगी और न ही प्रदूषण में कोई कमी आएगी बल्कि आने वाले दिनों में प्रदूषण बढ़ेगा ही.

मई के आखिर में मिल सकती है राहत

भीषण गर्मी और बढ़ते प्रदूषण में 29 से 30 मई तक कुछ कमी आने की उम्मीद की जा सकती है. इस दौरान उत्तर भारत के पहाड़ों में एक सक्रीय पश्चिमी विक्षोभ आएगा और उत्तरी मैदानी भागों पर चक्रवाती हवाओं का एक क्षेत्र बनेगा जिससे दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सहित उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में धूल भरी आंधी के साथ बारिश होने की संभावना है.

ये भी पढ़ें: दिल्ली: रोहणी जेल के बाद अब तिहाड़ में कोरोना की दस्तक, सहायक अधीक्षक संक्रमित

COVID-19: CRPF जवानों पर कहर बनकर टूटा कोरोना, संक्रमितों को आंकड़ा पहुंचा 359
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading