निर्भया केस के चारों गुनहगारों का सुबह 8 बजे यहां होगा पोस्टमॉर्टम

चारों दोषियों को सुबह 5.30 बजे फांसी दी गई.
चारों दोषियों को सुबह 5.30 बजे फांसी दी गई.

सुबह 8 बजे उनका पोस्टमॉर्टम (Postmortem) किया जाएगा. दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल की टीम उनका पोस्टमॉर्टम किया जाएगा. साथ ही पोस्टमॉर्टम की वीडियोग्राफी (Videography) भी कराई जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2020, 8:59 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Gangrape) के चारों गुनहगारों को फांसी (Hanging) दे दी गई है. आधा घंटे बाद डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित भी कर दिया है. अब सुबह 8 बजे उनका पोस्टमॉर्टम (Postmortem) किया जाएगा. दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल की टीम उनका पोस्टमॉर्टम किया जाएगा. साथ ही पोस्टमॉर्टम की वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी. थोड़ी देर बाद ही उनके शव तिहाड़ जेल (Tihar Jail) से अस्पताल के लिए रवाना कर दिए जाएंगे. जानकारों का कहना है कि अस्पताल में भी पोस्टमॉर्टम की सभी तैयारी कर ली गई हैं. सुबह ठीक 5.30 बजे उन्हें फांसी दे दी गई.

न्यायपालिका पर हमारा विश्वास बरकरार- आशा देवी

दोषियों को फांसी दिये जाने के बाद निर्भया के मां आशा देवी ने कहा कि 'आखिरकार उन्हें फांसी पर लटका दिया गया. आज का दिन हमारी बच्चियों के नाम, हमारी महिलाओं के नाम, क्योंकि आज के दिन निर्भया को न्याय मिला. मैं न्यायपालिका, राष्ट्रपति, अदालत और सरकारों का आभार व्यक्त करती हूं.'  आशा देवी ने कहा कि इस मामले के बाद कानून की खामियां भी बाहर आईं. फिर भी न्यायपालिका पर हमारा विश्वास बरकरार है. बताया गया कि चारो दोषियों को फांसी देने वाले पवन जल्लाद को 60,000 रुपये दिये जाएंगे.



आज के दिन की व्याख्या नहीं की जा सकती- निर्भया के पिता
मीडिया से बातचीत में आशा देवी ने कहा कि चारों दोषियों को फांसी अपराधियों के लिए सबक है. उन्होंने कहा कि 'सुप्रीम कोर्ट से लौटते ही मैंने अपनी बेटी की तस्वीर को गले लगाया. उन्होंने कहा कि मैं अपनी बेटी को बचा नहीं पाई मुझे इसका दुःख है. एक मां के तौर पर मेरा धर्म आज पूरा हुआ. आशा देवी ने कहा कि किसी की बच्ची के साथ अन्याय हो तो उसका साथ देना चाहिए.'

वहीं निर्भया के पिता ने कहा कि 'आज का दिन सिर्फ निर्भया का ही नहीं बल्कि हर महिला, बच्ची का दिन है. आज के दिन की व्याख्या नहीं की जा सकती.'

ये भी पढ़ें. Delhi Violence: घनी आबादी और तंग गलियों के चलते समय से मौके पर नहीं पहुंच सकी पुलिस

फांसी घर में यह बात कहना चाहता था पवन जल्लाद, लेकिन इसलिए रहा खामोश
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज