होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /Power Peak demand in Delhi: गर्मी का सितम, इस बार टूटेंगे पावर डिमांड के सभी रिकॉर्ड, कंपनियों ने कह डाली बिजली सप्लाई को लेकर ये बड़ी बात

Power Peak demand in Delhi: गर्मी का सितम, इस बार टूटेंगे पावर डिमांड के सभी रिकॉर्ड, कंपनियों ने कह डाली बिजली सप्लाई को लेकर ये बड़ी बात

गर्मियों में इस बार बिजली खपत के पिछले सारे रिकॉर्ड टूट जाएंगे और बिजली की पीक डिमांड 8,000 मेगावाट तक पहुंचने की संभावना है. (File photo)

गर्मियों में इस बार बिजली खपत के पिछले सारे रिकॉर्ड टूट जाएंगे और बिजली की पीक डिमांड 8,000 मेगावाट तक पहुंचने की संभावना है. (File photo)

Power Peak demand in Delhi: दिनोंदिन बढ़ रही बिजली की मांग को पूरा करने के लिए बीएसईएस (BSES) पूरी तरह तैयार है. बढ़ती डि ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. दिल्ली में इस बार अभी से ही गर्मी (Summer Season) अपने तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं. मार्च माह में ही मई की पड़ रही गर्मी ने लोगों के लिए अभी से ही मुश्किल खड़ी कर दी है. ऐसे में लोगों ने गर्मी से बचने के लिए अपने एसी, कूलर भी अभी से ही चलाने शुरू कर दिए हैं. इसके चलते अब बिजली कंपनियों (Power Companies) ने अनुमान लगाया है कि गर्मियों में इस बार बिजली खपत के पिछले सारे रिकॉर्ड टूट जाएंगे और बिजली की पीक डिमांड 8,000 मेगावाट तक पहुंचने की संभावना है. पिछले साल शहर में पीक डिमांड 7,323 मेगावॉट रही थी.

पिछले साल गर्मियों में बीआरपीएल (BRPL) क्षेत्र में बिजली की मांग 3118 मेगावॉट थी, जो इस साल 3500 मेगावॉट पहुंच सकती है. बीवाईपीएल इलाके (BYPL) में पिछले साल बिजली की पीक डिमांड 1656 मेगावॉट पहुंची थी, जो इस बार गर्मियों में 1800 मेगावॉट तक जा सकती है.

ये भी पढ़ें: Drainage Master Plan: दिल्ली में दूर होगी वाटर लॉगिंग समस्या, केजरीवाल सरकार तैयार कर रही ये बड़ा प्लान 

दिनोंदिन बढ़ रही बिजली की मांग को पूरा करने के लिए बीएसईएस (BSES) पूरी तरह तैयार है. बढ़ती डिमांड को देखते हुए बिजली की पर्याप्त व्यवस्था कर ली गई है, ताकि आने वाली गर्मियों में दक्षिण, पश्चिम, मध्य और पूर्वी दिल्ली के 1.80 करोड़ निवासियों को पूरी बिजली मिले.

BSES को पावर बैंकिंग सिस्टम से मिलेगी 690 मेगावॉट बिजली 
लंबी अवधि के समझौतों के तहत केंद्र व राज्यों के पावर प्लांटों से मिलने वाली बिजली के अलावा, बीएसईएस को पावर बैंकिंग सिस्टम से भी 690 मेगावॉट बिजली मिलेगी. पावर बैंकिंग के तहत, हिमाचल प्रदेश, मेघालय, सिक्किम, गोवा, अरूणाचल प्रदेश और तमिलनाडु से बीएसईएस को बिजली मिलेगी.

बीएसईएस के पास अच्छी मात्रा में हरित ऊर्जा भी उपलब्ध है. सेकी की 600 मेगावॉट सौर ऊर्जा के अलावा, 300 मेगावॉट पवन ऊर्जा और कचरे से बनी 31 मेगावॉट बिजली बीएसईएस के पास उपलब्ध है.

रूफटॉप सोलर प्लांटों से मिली 126 मेगावॉट सौर ऊर्जा भी उपलब्ध 
बीएसईएस उपभोक्ताओं के घरों की छतों पर लगे रूफटॉप सोलर प्लांटों से मिलने वाली 126 मेगावॉट सौर ऊर्जा भी बीएसईएस के पास उपलब्ध है.

उपरोक्त के अलावा, जल्द ही सेकी की ओर से ही 210 मेगावॉट अतिरिक्त सौर ऊर्जा और 150 मेगावॉट अतिरिक्त पवन ऊर्जा भी बीएसईएस को मिलने लगेगी.

Tags: Delhi Government, Delhi news, Power consumers

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें