Analysis: इस कारण PM मोदी के जन्‍मदिन को 'सेवा सप्‍ताह' के रूप में मना रही है BJP
Delhi-Ncr News in Hindi

Analysis: इस कारण PM मोदी के जन्‍मदिन को 'सेवा सप्‍ताह' के रूप में मना रही है BJP
PM Narendra Modi Birthday:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) अपने 69वें जन्मदिन (69th Birthday) की शुरुआत अपनी मां से आशीर्वाद लेकर करेंगे. जबकि भाजपा (BJP) का मानना है कि जिस तरह पीएम मोदी का पूरा जीवन और उनकी सरकार की कार्यशैली रही है, वो पूरी तरह से गरीब-किसान-मजदूर को समर्पित है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2019, 5:38 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) अपने 69वें जन्मदिन (69th Birthday) के मौके पर मंगलवार सुबह छह बजे अपनी मां का आशीर्वाद लेकर दिन की शुरुआत करेंगे. जबकि उनकी पार्टी इस अवसर पर पूरे हफ्ते को सेवा सप्ताह के रूप में मना रही है. भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) का मानना है कि जिस तरह का पीएम मोदी का पूरा जीवन रहा है और जिस तरह की उनकी सरकार की अब तक की कार्यशैली रही है, वो पूरी तरह से गरीब-किसान-मजदूर को समर्पित है. 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले विपक्ष खासतौर से तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने मोदी सरकार को सूट-बूट की सरकार बताने की कोशिश की थी, लेकिन चुनाव नतीजों ने बता दिया कि देश की जनता ने इस आरोप को स्वीकार नहीं किया.

पीएम मोदी ने कही थी ये बात
2014 के लोकसभा चुनाव जीतने के बाद पीएम मोदी ने कहा था कि उनकी सरकार गरीबों, किसानों और मजदूरों की सरकार रहेगी. उनकी प्राथमिकता रहेगी कि सरकार इन लोगों को फायदा पहुंचाने की दिशा में ज्यादा से ज्यादा काम कर सके. 5 साल बीते तो विपक्ष ने उनकी सरकार पर सूट-बूट की सरकार और चंद उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने वाली सरकार बताने की कोशिश की, लेकिन 2019 के चुनाव नतीजों ने नरेंद्र मोदी को 2014 से भी बड़ी जीत दिलवाई. चुनाव जीतने के बाद एक बार फिर पीएम मोदी ने 2022, जब देश स्वतंत्रता के 75 साल मना रहा होगा, तब तक गांव और गरीबों तक कई नई सुविधाएं पूर्ण रूप से पहुंचाने का लक्ष्य रखा है. शौचालय को लेकर देश में आई क्रांति हो या किसानों की आय दुगनी करना हो या हर घर तक गैस और बिजली कनेक्शन पहुंचाने का मामला. सरकार ने 2022 तक पीएम ग्रामीण आवास योजना के तहत 1.95 करोड़ घर बनाने के साथ साथ हर घर में नल से जल पहुंचाने के लिए महत्वाकांक्षी जल जीवन मिशन शुरू किया है. सरकार का मानना है कि ये सभी ऐसी योजनाएं हैं जो सीधे तौर पर गरीबों से जड़ी हुई हैं.

इस कारण पीएम के जन्‍मदिन को मिला ये शब्‍द



यही कारण है कि जब पीएम मोदी के जन्मदिन के मौके को आयोजित करने के लिए पार्टी ने विचार करना शुरू हुआ, तो सबसे पहला जो शब्द पार्टी नेताओं के जेहन में आया, वो था सेवा. पार्टी का मानना था कि पीएम मोदी के जन्मदिन के मौके को सेवा सप्ताह के रूप में मनाने से बेहतर कोई और विकल्प नहीं हो सकता. इसके तहत देश भर में राज्य, जिला और मंडल स्तर तक पार्टी कार्यकर्ताओं की ओर से कार्यक्रम किए जा रहे हैं,जिनसे आम लोगों की सीधी भागीदारी की गई है. फिर चाहे रक्तदान शिविर लगाना हो या आंखों के ऑपरेशन के कैंप लगाना. स्वच्छता को लेकर जागरुकता फैलाना हो, एक बार उपयोग होने वाले प्लास्टिक के प्रयोग से बचने की सलाह हो या फिर जल संरक्षण का मुद्दा हो. पार्टी को लगा कि जनता को इन मुद्दों से सीधे तौर पर जोड़ने के लिए पीएम मोदी के जन्मदिन से अच्छा कोई दिन नहीं हो सकता. कई सर्वे ये बताते हैं कि पीएम मोदी ना सिर्फ बीजेपी बल्कि देश के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता है और उनकी ये लोकप्रियता लगातार बनी हुई है. इसी लोकप्रियता के सहारे बीजेपी सरकार के इन अभियानों को जनता के बीच लोकप्रिय बनाने में जुटी है.



भाजपा ने दी सफाई
आने वाले समय में चार राज्यों के विधानसभा चुनाव भी हैं. वैसे तो बीजेपी का साफ कहना है कि इन कार्यक्रमों का चुनावों से कोई लेना-देना नहीं है. पीएम मोदी के जीवन को लेकर पार्टी की ओर से प्रदर्शनियां लगाई गई हैं, पुस्तकें छापी गई हैं. इसके जरिए बताया जा रहा है कि पीएम मोदी ने अपने पूरे जीवन जनता की सेवा के लिए समर्पित किया है. जाहिर है कि जब पार्टी के कार्यकर्ता इन कार्यक्रमों के माध्यम से जनता के बीच जाएंगे, तो उनका फायदा चुनावों में भी मिलेगा. इन कार्यक्रमों के जरिए पार्टी नेता और कार्यकर्ता जनता से सीधे तौर पर संवाद कर रहे हैं. सरकार की योजनाओं की जानकारी दे रहे हैं. चुनाव प्रचार के लिए जनता से संपर्क करने से ज्यादा जुड़ाव इस तरह के कार्यक्रमों से पार्टी को होने की उम्मीद है, जिसका फायदा चुनावों में भी मिल सकता है.

ये भी पढ़ें-PM मोदी के हिसाब से होगा केदारनाथ-बद्रीनाथ का विकास, सरकार ने तैयार किया ब्लू प्रिंट

UNHRC से खाली लौटने पर पाक को भारत की सलाह- कई बार दोहराने से झूठ सच नहीं होता
First published: September 16, 2019, 6:33 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading