प्रियंका गांधी ने बैरिकेडिंग के पार कूदकर धक्का-मुक्की के बीच अपने कार्यकर्ता को पुलिस से छुड़ाया - देखें Video

दिल्ली-नोएडा फ्लाईवे पर पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच हाथापाई के दौरान बैरिकेडिंग लांघती प्रियंका गांधी.
दिल्ली-नोएडा फ्लाईवे पर पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच हाथापाई के दौरान बैरिकेडिंग लांघती प्रियंका गांधी.

अचानक प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) बैरिकेडिंग पर चढ़कर दूसरी ओर कूद गईं. वहां हो रही हल्की धक्का-मुक्की का सामना उन्होंने किया लेकिन अपने कार्यकर्ता को पुलिस के कब्जे से छुड़ाने में वह कामयाब रहीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2020, 8:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. हाथरस कांड (Hathras case) को लेकर पूरे देश में उबाल है. सभी राजनीतिनक पार्टियों ने अपने स्तर से सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है. शनिवार को राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) भी हाथरस जा रहे थे. वहां कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ वे पीड़ित परिवार के घर की तरफ जाने की योजना थी. इस बीच दिल्ली-नोएडा फ्लाईवे पर पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच हाथापाई हो गई. बैरिकेड लगाकर बैठी पुलिस ने कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को पकड़ना शुरू कर दिया. तभी अचानक प्रियंका गांधी बैरिकेडिंग पर चढ़कर दूसरी ओर कूद गईं. वहां हो रही हल्की धक्का-मुक्की का सामना उन्होंने किया लेकिन अपने कार्यकर्ता को पुलिस के कब्जे से छुड़ाने में वह कामयाब रहीं. इस पूरे प्रकरण का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है. आपको बता दें कि दो दिन पहले भी राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने हाथरस में पीड़िता के परिजनों से मुलाकात की कोशिश की थी, लेकिन गांव से काफी दूर ही उन्हें पुलिस प्रशासन ने रोक लिया था. इस दौरान राहुल और अन्य नेताओं के साथ धक्कामुक्की भी देखने को मिली थी. पुलिस ने राहुल गांधी को हिरासत में भी लिया था.



पीड़ित परिवार से मुलाकात के लिए लेनी होगी प्रशासन की इजाजत



शनिवार को अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा कि हाथरस गैंगरेप कांड में पीड़िता के परिवार से मुलाकात करने के लिए राजनीतिक दलों को अब जिला प्रशासन से इजाजत लेनी पड़ेगी. हाथरस गैंगरेप पीड़ित परिवार से शीर्ष अधिकारी डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी व अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी शनिवार को मिले. जिसके बाद प्रेस वार्ता की गई. अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा-जिस भी दल या प्रतिनिधिमंडल इत्यादि के लोग परिवारों से मिलना चाहे वे अपने आधार कार्ड एवं एक फोटो के साथ उप जिलाधिकारी सदर के नाम से तहसील सदर में एक दिन पहले आवेदन करें. आवेदन के पश्चात उप जिलाधिकारी सदर द्वारा अनुमति पत्र जारी किए जाएंगे. उन्होंने बताया कि वह अनुमति पत्र तहसील सदर से प्राप्त कर गांव में बैरिकेडिंग गेट पर दिखाकर पांच व्यक्ति तक जाकर परिवारों से मिल सकते हैं.
अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि हाथरस में जो हुआ वो अत्यंत दुखद है. जो भी दोषी होगा, उसके विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाएगी. एसआईटी ने अपना काम शुरू कर दिया है. पीड़ित परिवार को जल्द मिलेगा न्याय. दोनों आला अधिकारियों ने बड़ी कार्रवाई के संकेत भी दिए हैं. वहीं परिवार का कहना है कि उन्होंने अपनी शिकायतें अधिकारियों को दी हैं. उन्होंने डीएम की शिकायत भी की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज