होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /Sidhu Moose Wala: दिल्ली पुलिस ने बताया, सिद्धू मूसेवाला की हत्या को कैसे दिया गया अंजाम?

Sidhu Moose Wala: दिल्ली पुलिस ने बताया, सिद्धू मूसेवाला की हत्या को कैसे दिया गया अंजाम?

दिल्ली पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया है कि सिद्धू मूसेवाला मर्डर केस का मास्टरमाइंड प्रियव्रत उर्फ फौजी (बीच में) है.

दिल्ली पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया है कि सिद्धू मूसेवाला मर्डर केस का मास्टरमाइंड प्रियव्रत उर्फ फौजी (बीच में) है.

Siddu Moose Wala Murder Case: दिल्ली पुलिस ने बड़ा खुलासा करते हुए बताया है कि प्रियव्रत उर्फ फौजी ही सिद्धू मूसेवाला क ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस ने बड़ा खुलासा करते हुए बताया है कि प्रियव्रत उर्फ फौजी ही सिद्धू मूसेवाला की हत्या का मास्टरमाइंड है. इसी ने हत्या की साजिश, और पूरी प्लानिंग की थी. प्रियव्रत गोल्डी बराड़ के संपर्क में था और हत्या से पहले फतेहगढ़ के एक पेट्रोल पंप के सीसीटीवी में नज़र आ रहा था. ये भी शूटर है, जिसने किलिंग की थी. इनके पास से पुलिस ने हैंडग्रेनेड बरामद किया है. दिल्ली पुलिस ने विस्तार से बताया है कि मूसेवाला की हत्या को कैसे अंजाम दिया गया.

सिद्धू मूसेवाला मर्डर मामले में गिरफ्तार शूटर फ़ौजी को स्पेशल सेल ने पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया. फौजी को 4 जुलाई तक पुलिस कस्टडी में भेजा गया है. फौजी, कशिश और केशव को दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में पेश किया. 14 दिन की कस्टडी दी गई.

पुलिस ने दो शूटर को गुजरात मुद्रा पोर्ट से किया गिरफ्तार
इधर, दिल्ली पुलिस ने सिद्धू मूसेवाला को गोली मारने वाले 2 शूटर गुजरात मुद्रा पोर्ट से गिरफ्तार किये हैं. दिल्ली पुलिस 4 बजे प्रेस वार्ता में जानकारी देगी. बताया जा रहा है कि दोनों शूटर्स से भारी मात्रा में हथियार भी बरामद किए गए हैं. इनमें से एक शूटर की पहचान प्रियव्रत फौजी के रूप में हुई है. यह सोनीपत हरियाणा का रहने वाला है. पंजाब पुलिस ने अभी तक इस मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार किया है. जबकि गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नाई को दिल्ली से पूछताछ के लिए पंजाब लाया गया है. उसका कल पुलिस रिमांड खत्म हो जाएगा और उसे दोबारा मानसा कोर्ट में पेश किया जाएगा.

ये भी पढे़ें… सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड: प्रियव्रत उर्फ फौजी आर्मी छोड़ बन गया शार्प शूटर, मां ने बताई पूरी कहानी

दिल्ली पुलिस ने बताया… कैसे की गई मूसेवाला की हत्या
स्पेशल सीपी धालीवाल ने बताया कि पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या 29 मई को हुई थी. उसी समय से स्पेशल सेल की टीम को पता लगा. हमारी टीम ने काम करना शुरू किया सभी रेंज की टीम लगाई गईं. जेल, राज्यों, सिंडिकेट सरगनाओं पर काम किया. पंजाब के क्रिमिनल पर काम किया. विक्की के नजदीकी को अरेस्ट किया गया. चैलेंजिंग टास्क था. क्राइम अलग जगह पर था, हम उन तक पहुंचना चाहते हैं. हमारी टीम कई दिनों से काम कर रही थी. 6 शूटर्स की पहचान की गई थी. कैसे क्राइम हुआ था, पिस्टल किसने चलाई थी.

ये भी पढ़ें… सिद्धू मूसेवाला मर्डर केस: हरियाणा पुलिस का बड़ा एक्शन, गैंगस्टर प्रियव्रत उर्फ फौजी पर रखा 25 हजार का इनाम

उस दिन की घटना में 2 मॉड्यूल थे. गोल्डी बराड़ से दोनों संपर्क में थे, एक गाड़ी को कशिश चला रहा था. प्रियव्रत हैंडल कर रहा था. कुल 4 लोग थे, मनप्रीत मन्नू बैठा था. जब सिद्धू मूसेवाला अपने घर से निकले थे तो उनकी रेकी करने वाले ने बताया था. कई दिन से रेकी चल रही थी. कोरोला गाड़ी ने ओवरटेक करते हुए मन्नू ने गोली चलाई. सिद्धू को गोली लगी और उनकी थार रुक गई. तब 6 लोगों ने फायर किये. गिरफ्तार आरोपियों के नाम प्रियव्रत उर्फ फौजी, कशिश उर्फ कुलदीप और केशव कुमार है.

ये भी पढ़ें… सिद्दधू मूसेवाला हत्याकांड: तस्वीरों में जानिये मूसेवाला को गोली मारने वाले 5 कातिलों की कहानी

स्पेशल सीपी धालीवाल स्पेशल के मुताबिक…

  • प्रियव्रत उर्फ फौजी ही सिद्धू मूसेवाला की हत्या का मास्टरमाइंड था. इसी ने हत्या की साजिश, और पूरी प्लानिंग की थी. प्रियव्रत गोल्डी बराड़ के संपर्क में था. और हत्या से पहले फतेहगढ़ के एक पेट्रोल पंप के सीसीटीवी में नज़र आ रहा था. ये भी शूटर है जिसने किलिंग की थी.
  • कशिश उर्फ कुलदीप झज्जर का रहने वाला है. ये भी सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल था. ये उन शूटर्स में शामिल था. कशिश भी फतेहगढ़ की सीसीटीवी में नज़र आ रहा था.
    केशव कुमार… इसने हत्या के बाद सभी शूटर्स को भागने में मदद की थी. इसने सभी को ऑल्टो गाड़ी में भगाने में मदद की थी.
  • इन्हें हमने मकोका में अरेस्ट किया था. A-94 सीरीज का पता लगाया जा रहा है. एक AK सीरीज की. 8 हैंड ग्रेनेड मिले हैं. ये फतेहबाद में रुके थे जिन्हें पता था कि पुलिस तलाशेगी. कई जगह छिपे थे.
  • प्रियव्रत ने मारने के बाद गोल्डी से बोला था कि काम हो गया. हिसार हरियाणा में बाकी हथियार रखे गए थे. 8 से 9 बार रेकी की थी. बोलेरो कशिश चला रहा था. जगरूप कोरोला चला रहा था. 6 शूटर्स में 2 को अरेस्ट किया गया.
  • जब इन्होंने देखा कि मूसेवाला काफी बुरी तरह से जख्मी हो गया है तो वे वहां से भाग गए. वारदात के बाद मन्नू और रूपा अलग-अलग गए.
  • उसके बाद 4 की केशव ने मदद की. 19 को सुबह सेल ने खारी मिट्ठी रोड मुंद्रा से अरेस्ट किया. किराए का घर लेकर रह रहे थे. हमने जो सस्पेक्ट किए थे उनमें से रूपा, मन्नू और फौजी थे. एक हैंड ग्रेनेड, इस्तेमाल किए हुए लॉन्चर, जो AK 47 में भी इस्तेमाल होता है, 3 पिस्टल, 36 राउंड गोली मारी गई.

Tags: Delhi Police Special Cell, Lawrence Bishnoi, Sidhu Moose Wala

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें