लाइव टीवी

जिनके लिए मेधा पाटकर ने लड़ी थी लड़ाइयां अब उन्हीं ने खदेड़ा, लगे 'पाकिस्तान जाओ' के नारे
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: December 19, 2019, 7:09 PM IST
जिनके लिए मेधा पाटकर ने लड़ी थी लड़ाइयां अब उन्हीं ने खदेड़ा, लगे 'पाकिस्तान जाओ' के नारे
मेधा पाटकर भाटी माइंस में इन पाकिस्तानी शरणार्थियों के कैंप में सुविधाओं को लेकर पहले संघर्ष करती रही हैं

दिल्ली के राजघाट में संशोधित नागरिकता कानून (Citizenship Amended Act) के पक्ष में गुरुवार को प्रदर्शन और सभा की गई. पाकिस्तान, बांग्लादेश और अन्य देशों से आए हिंदू (Hindu) तथा दूसरे धर्मों के शरणार्थियों ने इस कानून के पक्ष में समर्थन किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2019, 7:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नर्मदा बचाओ आंदोलन चलाने वाली सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर (Medha Patkar) को पाकिस्तान (Pakistan) से आए हिंदू शरणार्थियों ने राजघाट (Rajghat) पर घेराव किया. मेधा पाटकर भाटी माइंस में इन पाकिस्तानी शरणार्थियों के कैंप में सुविधाओं को लेकर पहले संघर्ष करती रही हैं, लेकिन गुरुवार को जब राजघाट पर मेधा पाटकर ने जेएनयू में छात्रों पर पुलिस की कार्रवाई को गलत बताया तो तमाम शरणार्थी भड़क गए और 'पाटकर पाकिस्तान जाओ' के नारे लगाने लगे. मेधा पाटकर को इन लोगों ने न केवल घेराव किया बल्कि उन्हें राजघाट से दूर तक खदेड़ भी दिया.

राजघाट पर मेधा पाटकर का विरोध

बता दें कि दिल्ली के राजघाट में संशोधित नागरिकता कानून (Citizenship Amended Act) के पक्ष में गुरुवार को प्रदर्शन और सभा की गई. पाकिस्तान, बांग्लादेश और अन्य देशों से आए हिंदू (Hindu) तथा दूसरे धर्मों के शरणार्थियों ने इस कानून के पक्ष में समर्थन किया. प्रदर्शन कर रही एक हिंदू शरणार्थी महिला, ‘पाकिस्तान ने निकाला है, भारत ने संभाला है’ लिखी हुई तख्ती लिए हुए थी.



पाकिस्तान, बांग्लादेश और अन्य देशों से आए हिंदू (Hindu) तथा दूसरे धर्मों के शरणार्थियों ने इस कानून के पक्ष में समर्थन किया
पाकिस्तान, बांग्लादेश और अन्य देशों से आए हिंदू (Hindu) तथा दूसरे धर्मों के शरणार्थियों ने इस कानून के पक्ष में समर्थन किया




दूसरी तरफ कुछ लोग इस संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के अस्तित्व में आने के बाद से इसका विरोध कर रहे हैं. सबसे पहले नई दिल्ली के जामिया नगर और जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में इस कानून का विरोध किया गया जो हिंसक हो गया. उसके बाद दिल्ली के सीलमपुर इलाके में विरोध प्रदर्शन किया गया. इस कानून का देश भर में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. देश के कई राज्यों में प्रदर्शन के दौरान हिंसा की खबर है.

ये भी पढ़ें: 

जामिया हिंसा: HC में याचिकाकर्ता का सवाल- दिल्ली पुलिस बताए कि मस्जिद, लाइब्रेरी और टॉयलेट में घुसने के लिए किसने कहा था
First published: December 19, 2019, 6:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading