IIM अहमदाबाद की प्रोफेसर बनीं नौकरी देने वाली University की पहली वाइस चांसलर

 मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बड़ा फैसला लिया है. (फाइल फोटो)
मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बड़ा फैसला लिया है. (फाइल फोटो)

जिन लोगों को बोर्ड में जिम्मेदारी दी गई है, वो सभी अपने क्षेत्र के जाने-माने लोग हैं. प्रो. निहारिका वोहरा इसकी पहली वाइस चांसलर (Vice chancellor) बनी हैं. आईआईएम (IIM), अहमदाबाद में 20 साल पढ़ाने का अनुभव है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2020, 1:42 PM IST
  • Share this:

  • नई दिल्ली. आज से दिल्ली कौशल और उद्यमिता विश्वविद्यालय (Delhi Skill and Entrepreneurship University) की शुरुआत हो गई है. इसकी पहली वीसी भी नियुक्त हो गई हैं. आज इसक बोर्ड सदस्यों की पहली मीटिंग थी. सबने एक ही बात कही कि इसकी एक ही विचारधारा होगी. इससे निकलने वाले हर बच्चे को नौकरी (Job) मिलनी ही चाहिए.


जो अपना  बिजनेस करना चाहता है, वह अपना काम शुरू कर सके. जिन लोगों को बोर्ड में जिम्मेदारी दी गई है, वो सभी अपने क्षेत्र के जाने-माने लोग हैं. प्रो. निहारिका वोहरा इसकी पहली वाइस चांसलर (Vice chancellor) बनी हैं. आईआईएम (IIM), अहमदाबाद में 20 साल पढ़ाने का अनुभव है.
ये भी पढ़ें-  राहुल मर्डर केस: लड़की ने Delhi Police पर लगाया यह बड़ा आरोप, मांगने पर भी नहीं की मदद

प्रेस कांफ्रेंस में भावुक होकर यह बोले सीएम केजरीवाल



सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में आज एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया. इस दौरान वो खासे भावुक दिखे. उन्होंन कहा, खुशी हो रही है कि आज उस यूनिवर्सिटी की शुरुआत हो चुकी है. आज इस यूनिवर्सिटी की पहली बोर्ड मेम्बर की मीटिंग थी. मैंने उनसे एक बात कही, इसका एक उद्देश्य होगा कि इस यूनिवर्सिटी से निकलने वाला हर बच्चा नौकरी और अपना बिजनेस करने वाला हो और उसे वो मिल सके. प्रोफेसर निहारिका बोहरा को इसकी पहली वीसी बनाया गया है.

यह होंगे यूनिवर्सिटी के मेम्बर

इसके बोर्ड मेम्बर में प्रमथ राज सिन्हा, अशोका यूनिवर्सिटी जैसे बड़े संस्थान शुरू किए. प्रमोद भसीन, जेनपैक्ट शुरू किया था. नौकरी डॉट कॉम के संजीव, श्रीकांत शास्त्री, केके अग्रवाल हैं और जी श्रीनिवासन हैं. इन सबके अनुभव से इस यूनिवर्सिटी को शुरू कर रहे हैं. अहम होगा कि ये यूनिवर्सिटी इंडस्ट्री के साथ के साथ ऐसे कोर्स डिज़ाइन करें जिससे कंपनी निकलते ही नौकरी दें. मुझे उम्मीद है कि दिल्ली में जैसे नए-नए गवर्नेंस के मॉडल तैयार किये. मोहल्ला क्लीनिक, डोर स्टेप डिलीवरी की तरह ये यूनिवर्सिटी भी एक मॉडल बनेगा.

 सीएम केजरीवाल ने बताईं यूनिवर्सिटी की खूबियां

सीएम अरिवंद केजरीवाल ने यूनिवर्सिटी के बारे में बताया, बोर्ड यहां जो भी कोर्स डिजाइन करें पहले कंपनी, इंडस्ट्री और बिजनेस वालों से पूछ बात कर लें, ताकि नौकरियां मिल सकें. कोरोना के समय हमने देखा कि एक तरफ लॉकडाउन में कई इंडस्ट्री बंद हो गई, बिजनेस बंद हो गए. लॉकडाउन खुलने पर नौकरी चाहने वालों को और देने वालों को जरूरत पड़ी. जॉब पोर्टल पर हजारों लोगों को नौकरियां मिलीं.

बहुत सारे सेक्टर में नया बिजनेस और सर्विस शुरू हो सकता है. बच्चों को ट्रैनिंग देंगे, तो उन्हें काम मिलेगा. मोहल्ला क्लिनिक बनाए, पूरी दुनिया में चर्चा है. डोर स्टैप डिलीवरी की चर्चा पूरी दुनिया में है. दिल्ली के युवाओं के लिए बड़ा अवसर है. बड़े सपने के साकार होने की उम्मीद है. पहले बैच में जब बच्चे निकलेंगे, तब कितनों को नौकरी मिलेगी? वह सही मायने में आकलन होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज