Home /News /delhi-ncr /

profit and lose of bjp on joining shivpal singh yadav after uttar pradesh assembly election results 2022 upns

UP Politics: शिवपाल सिंह यादव के BJP में आने से क्या होगा नफा नुकसान, पढ़िए ये खबर

UP News: यूपी में आठ फीसदी यादव मतदाता है जो किसी भी चुनाव में निर्णायक भूमिका अदा करते हैं. (File photo)

UP News: यूपी में आठ फीसदी यादव मतदाता है जो किसी भी चुनाव में निर्णायक भूमिका अदा करते हैं. (File photo)

UP News: जब उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ और उनकी टीम अच्छा प्रदर्शन कर रही है तो आखिर शिवपाल यादब को बीजेपी शामिल करवाकर क्या हासिल करने जा रही है. 2024 में लोकसभा चुनाव है, और ये चुनाव बीजेपी के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण कही जा सकती है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश के सहारे तीसरी बार बड़ी जीत के साथ केंद्र की सत्ता में काबिज होना चाहते है.

अधिक पढ़ें ...

अनूप कुमार

दिल्ली/लखनऊ. प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के चीफ शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) के उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) से मुलाकात के बाद से ही चर्चाओं का बाज़ार गरम है कि क्या शिवपाल यादव ने अपना नया ठिकाना खोज लिया है. क्या शिवपाल यादव जल्द भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने जा रहे है. हालांकि ये ऐसे सवाल है जिसका जवाब अतीत में छुपा हुआ है. लेकिन ये चर्चा का विषय जरूर है कि आखिर शिवपाल यादव के बीजेपी में शामिल होने पर बीजेपी को क्या फायदा होने जा रहा है और शिवपाल को इससे क्या हासिल होगा.

अब बात करते है अभी खत्म हुई यूपी विधानसभा चुनाव की. इस चुनाव में बीजेपी ने बड़ी जीत दर्ज कराई है. पूरी चुनाव में केवल समाजवादी पार्टी विपक्ष के तौर पर बीजेपी को चुनौती देते दिखी है. विपक्ष का चेहरा केवल पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव दिखे थे. चुनाव से पहले अखिलेश यादव ने अपने चाचा शिवपाल यादव को मनाकर अपने खेमे को मजबूत किया था. चुनाव परिणाम सबके सामने है. समाजवादी पार्टी के गटबंधन से उनको बड़ा फायदा मिला. सपा ने ना केवल अपने सीटों में बढ़ोतरी की बल्कि वोट प्रतिशत को भी बढ़ाया. हालांकि सपा जीत से कोसो दूर अटक गई.

सपा और गठबंधन में चीर फाड़ जारी
अब चुनाव परिणाम के बाद सपा और गठबंधन में चीर फाड़ जारी है, हालांकि इसकी शुरुआत अखिलेश के चाचा शिवपाल यादव ने की है. शिवपाल यादव ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष से मुलाकात की. कहा ये भी जा रहा है कि शिवपाल यादव बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व से भी संपर्क में है, हालांकि इसपर कोई खुलकर नहीं बोल रहा है.

समझिए बीजेपी का गणित
जब उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ और उनकी टीम अच्छा प्रदर्शन कर रही है तो आखिर शिवपाल यादब को बीजेपी शामिल करवाकर क्या हासिल करने जा रही है. 2024 में लोकसभा चुनाव है, और ये चुनाव बीजेपी के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण कही जा सकती है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश के सहारे तीसरी बार बड़ी जीत के साथ केंद्र की सत्ता में काबिज होना चाहते है. ऐसे में उत्तर प्रदेश में बीजेपी पिछले चुनाव से अच्छा प्रदर्शन करना चाहेगी. उत्तर प्रदेश में बीजेपी की असली चुनौती राज्य के यादव मतदाताओं को अपने पाले में लाने की है.

यूपी में आठ फीसदी यादव मतदाता!
बता दें कि यूपी में आठ फीसदी यादव मतदाता है जो किसी भी चुनाव में निर्णायक भूमिका अदा करते हैं. यादव मतदाता का ही करिश्मा है कि राज्य में अब तक यूपी की आबादी में महज आठ फीसदी होने के बावजूद यादव समाज पांच बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर काबिज हुआ. इसमें चार बार एक ही परिवार से सीएम बने. इटावा, एटा, मैनपुरी, फर्रुखाबाद, आजमगढ़, कन्नौज, बलिया, अयोध्या, संत कबीर नगर और कुशीनगर जिले यादव बहुल माने जाते हैं. यहां यादव वोटर चुनाव के दौरान किसी भी कैंडिडेट की हार जीत में अहम भूमिका निभाते हैं. करीब 44 जिलों में यादव मतदाताओंं की संख्या 8 प्रतिशत से अधिक है. वहीं 8 जिलों में करीब 15 प्रतिशत यादव वोटर हैं.

क्या बीजेपी में शामिल होंगे शिवपाल?
हालांकि सूत्रों से मिली जानकारी के मूताबिक शिवपाल यादव को बीजेपी में तत्काल शामिल कराने का फैसला बीजेपी नहीं लेने जा रही है. क्योंकि अगर शिवपाल इस चुनाव के खत्म होने ही बीजेपी में शामिल हुए तो शिवपाल पर बीजेपी के एजेंट के तौर पर तोहमत लग सकता है. अखिलेश यादव उनपर आरोप लगा सकते है कि सपा गठबंधन में रहते हुए शिवपाल यादव ने गठबंधन को कमजोर करने की कोशिश की, जिसका खामियाजा सपा को भुगतना पड़ा. साथ ही तुरंत शिवपाल यादव को बीजेपी में शामिल कराने से बीजेपी को कोई फायदा नहीं हो सकता क्योंकि लोकसभा चुनाव में भी अभी लंबा वक़्त बचा है.

Tags: Akhilesh yadav, CM Yogi, CM Yogi Aditya Nath, Lucknow News Today, Samajwadi Party समाजवादी पार्टी, Shivpal singh yadav, UP news, UP Politics Big Update, Uttar pradesh assembly election result

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर