अपना शहर चुनें

States

दिल्ली: CAA के खिलाफ शाहीन बाग में विरोध प्रदर्शन अब भी है जारी

सीएए के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शन चल रहा है. (फोटो साभार: ANI)
सीएए के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में प्रदर्शन चल रहा है. (फोटो साभार: ANI)

दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहा प्रदर्शन अब भी जारी है. यहां पर प्रदर्शनकारी नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ धरना दे रहे हैं. इनमें महिलाओं की संख्या सबसे ज्यादा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 16, 2020, 11:14 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (CoronaVirus) के खतरे को देखते हुए दिल्ली के किसी भी इलाके में 50 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने की मनाही हो गई है. वहीं, दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहा प्रदर्शन अब भी जारी है. यहां पर प्रदर्शनकारी नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ धरना दे रहे हैं. इनमें महिलाओं की संख्या सबसे ज्यादा है. यह प्रदर्शन 15 दिसंबर से हो रहा है.

बता दें कि शाहीनबाग प्रदर्शन के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने वार्ताकार भी नियुक्त किया था. इन वार्ताकारों ने अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी है. वार्ताकारों ने तीन बार यहां पर आकर प्रदर्शनकारियों से मुलाकात की.


एक साथ इकट्ठा होने का नियम सभी पर होगा लागू: केजरीवाल
सीएम केजरीवाल ने सोमवार को यह साफ कर दिया. कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के बीच सोमवार को सचिवालय में अधिकारियों के साथ एक बैठक के बाद सीएम ने यह बात कही. सीएम ने कहा कि साफ कहा कि कहीं भी किसी भी हालत में 50 लोगों से ज्यादा लोगों को एक साथ इकट्ठा होने की इजाजत नहीं मिलेगी, चाहे वो प्रदर्शन हो या कुछ और. जब मीडिया ने सीएम केजरीवाल से शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों को लेकर सवाल पूछा तो उस पर उन्होंने कहा कि यह नियम सभी पर लागू होगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इसके लिए जिले के डीएम के पास इससे संबंधित कार्रवाई करने का अधिकार है.



31 मार्च तक बंद रहेंगे दिल्ली के जिम, क्लब और स्पा
दिल्ली सरकार ने यहां के सारे जिम, नाइट क्लब और स्पा को 31 मार्च तक बंद रखने का आदेश जारी किया है. इसके साथ ही सीएम केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों से 31 मार्च तक होने वाले शादी समारोहों को टालने की और डेट बढ़ाने की अपील भी की.

वार्ताकारों ने सौंप दी है रिपोर्ट
बता दें कि इस मामले में नियुक्त वार्ताकारों ने अपनी सीलबंद रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में जमा कर दी है. सीलबंद लिफाफे में तीनों मध्यस्थों ने रिपोर्ट दी है. इन प्रदर्शनों के कारण सड़क बंद होने है. जिसे खुलवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी. इसपर सुप्रीम कोर्ट ने मामले को सुलझाने के लिए संजय हेगड़े और साधना रामचंद्र को वार्ताकार नियुक्त किया था.

ये भी पढ़ें:

निर्भया केस: दोषियों का फांसी से बचने का नया पैंतरा, अंतरराष्‍ट्रीय कोर्ट में लगाई गुहार

AAP के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन को कोर्ट ने 4 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज