दो साल से पेंशन मांग रहे हैं सीआरपीएफ-बीएसएफ के जवान, चिठ्ठी का भी नहीं आता जवाब
Delhi-Ncr News in Hindi

दो साल से पेंशन मांग रहे हैं सीआरपीएफ-बीएसएफ के जवान, चिठ्ठी का भी नहीं आता जवाब
फाइल फोटो.

2004 से सीआरपीएफ, बीएसएफ, सीआईएसएफ, आईटीबीपी और असम राइफल्स में भर्ती होने वाले जवानों को अब रिटायर्ड होने या नौकरी के दौरान वीरगति को प्राप्त होने पर पेंशन का लाभ नहीं मिलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 20, 2019, 4:50 PM IST
  • Share this:
वैसे तो देशभर में किसी एक नहीं दर्जनों विभाग में पेंशन बंद कर दी गई है. लेकिन 2004 से सीआरपीएफ, बीएसएफ, सीआईएसएफ, आईटीबीपी और असम राइफल्स में भर्ती होने वाले जवानों को अब नई पेंशन स्कीम के तहत रिटायर्ड होने या नौकरी के दौरान वीरगति को प्राप्त होने पर पेंशन का लाभ नहीं मिलेगा.

पेंशन दोबारा से चालू हो जाए. पहले की तरह ही पुरानी पेंशन का लाभ मिलता रहे इसके लिए सीआरपीएफ के आईजी रिटायर्ड वीपीएस पनवर इसके लिए लगातार आवाज़ उठा रहे हैं. नेशनल कोआर्डिनेशन ऑफ एक्स पैरामिलिट्री पर्सनल वेलफेयर एसोसिएशन के वो चेयरमेन हैं.

वीपीएस पनवर ने बताया, “मैं पिछले दो साल से पुरानी पेंशन बहाल करने, वीरगति को प्राप्त होने वाले जवानों को शहीद का दर्जा दिए जाने और वन रैंक वन पेंशन की मांग कर रहा हूं. इस बारे में गृह मंत्रालय और पीएमओ सहित सभी संबंधित विभागों को दर्जनों चिठ्ठी लिखी जा चुकी हैं.




लेकिन हैरत की बात ये है कि पीएमओ को छोड़कर किसी ने भी आजतक एक भी चिठ्ठी का जवाब नहीं दिया है. पीएमओ से आई चिठ्ठी में भी सिर्फ इतना ही लिखा था कि आपकी चिठ्ठी को हमने संबंधित विभाग को आगे की कार्रवाई के लिए भेज दिया है.

पूर्व गृह मंत्री पी. चिदम्बरम अपने समय में इस मामले की एक रिपोर्ट बनाकर कार्रवाई के लिए छोड़ गए थे. लेकिन अब गृह मंत्रालय उस रिपोर्ट पर भी कार्रवाई नहीं कर रहा है.मैं इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में भी केस लड़ रहा हूं.”

वहीं इस बारे में गृह राज्यमंत्री हंसराज गंगाराम अहीर का कहना है, वैसे तो मंत्रालय में आने वाले हर एक पत्र का जवाब देते हैं. जो हमसे संबंधित नहीं होता है तो उसे संबंधित विभाग में भेज देते हैं. अगर चाहें तो  नेशनल कोआर्डिनेशन ऑफ एक्स पैरामिलिट्री पर्सनल वेलफेयर एसोसिएशन के लोग सीधे भी मेरे से मुलाकात कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें- 'बेटा CRPF जवान और सुकमा में तैनात है, यह सुनते ही लड़की वाले शादी से कर देते हैं मना'

ये भी पढ़ें- विदेशी सिपाही ‘वाकोस’ ने नक्सलियों की नाक में किया दम, अब तक 200 हमले किए नाकाम

ये भी पढ़ें- सरकारी रिकॉर्ड में 'शहीद' नहीं होते सीआरपीएफ और बीएसएफ के जवान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज