Assembly Banner 2021

यमुना में गंदा पानी छोड़ रही है हरियाणा सरकार, दिल्लीवासी परेशान, हो कार्रवाई: राघव चड्ढा

राघव चड्ढा पंजाब ने हरियाणा सरकार पर की कार्रवाई की मांग, (file)

राघव चड्ढा पंजाब ने हरियाणा सरकार पर की कार्रवाई की मांग, (file)

दिल्ली जल बोर्ड (Delhi Water Board) के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा (Raghav Chadha)  का कहना है कि हरियाणा सरकार यमुना में लगातार गंदा पानी छोड़ रही है. इसे लेकर कार्रवाई की जानी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 7, 2021, 8:26 PM IST
  • Share this:
दिल्ली. दिल्ली जल बोर्ड (Delhi Water Board) के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा (Raghav Chadha) ने केंद्र सरकार से हरियाणा सरकार पर कार्रवाई करने की मांग की है. दरअसल, राघव चड्ढा ने गुरुवार को केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र शेखावत से मुलाकात पर अपनी बात रखी. राघव चड्ढा का कहना है कि हरियाणा सरकार बार-बार यमुना नदी में गंदा पानी डाल रही है. इसके लेकर कार्रवाई होनी चाहिए. राघव चड्ढा ने दावा किया कि इस गंदे पानी से यमुना में अमोनिया का लेवल बढ़कर 40 पीपीएम तक हो गया है.

राघव चड्ढा का कहना है कि दिल्ली में पानी अमोनिया से मुक्त होना चाहिए, लेकिन हरियाणा सरकार यमुना में गंदा पानी छोड़ रही है. इससे नदी में अमोनिया का लेवल काफी बढ़ गया है. गंदे पानी की वजह से दिल्ली के कई कारखानों को मजबूरी में बंद करना पड़ गया है.





ये भी पढ़ें:  500 लोगों के सामने एक ही मंडप में दो प्रेमिकाओं से की शादी, बोला- धोखा नहीं दे सकता
सरकार का बड़ा फैसला

इधर, दिल्‍ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने कोरोना वायरस के मामले कम होने के साथ अपने अंतर्गत आने वाले मेडिकल कॉलेज दोबारा खोलने का ऐलान कर दिया है. यही नहीं, दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने इससे संबंधित आदेश भी जारी कर दिया है जो कि तत्काल प्रभाव से लागू होगा. हालांकि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग और SOPs का पालन करना जरूरी होगा. इस आदेश के साथ अब मौलाना आजाद मेडिकल कालेज, यूनिवर्सिटी कालेज ऑफ मेडिकल साइंस समेत दिल्ली सरकार के अस्पतालों से जुड़े सभी मेडिकल कालेज खुल जाएंगे.

दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, पहले चरण में एमबीबीएस (MBBS) और बीडीएस (BDS) के फर्स्ट ईयर के बैच को इस तरीके से बुलाया जाए, ताकि एक समय मे ज़्यादा भीड़ इकठ्ठी न हो. कॉलेज दोबारा खुलने की तारीख से डेढ़ से 2 महीने के अंदर पढ़ाई और प्रैक्टिकल पूरे करा लिये जायेंगे. इसके बाद फाइनल ईयर स्टूडेंट्स को कॉलेज आने की अनुमति दी जायेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज