दिल्ली में ओम माथुर से मिले 'नाराज' सचिन पायलट, क्या कांग्रेस का 'हाथ' छोड़ BJP में जाएंगे?

सचिन पायलट के बीजेपी उपाध्यक्ष ओम माथुर के साथ हुई मुलाकात से कयासों का बाजार गर्म है (फाइल फोटो)
सचिन पायलट के बीजेपी उपाध्यक्ष ओम माथुर के साथ हुई मुलाकात से कयासों का बाजार गर्म है (फाइल फोटो)

बदलते राजनीतिक घटनाक्रम के बीच सचिन पायलट (Sachin Pilot) और ओम माथुर (Om Mathur) के बीच रविवार को दिल्ली में हुई मीटिंग को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक दोनों नेताओं ने ताजा हालात पर चर्चा की. बीजेपी (BJP) अभी इस मामले में हस्तक्षेप नहीं कर रही है. वो वेट एंट वॉच की पॉलिसी अपनाए हुई है

  • Share this:
नई दिल्ली. राजस्थान (Rajasthan) के डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने रविवार को दिल्ली (Delhi) में बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर (Om Mathur) से मुलाकात की है. राज्य के बदलते राजनीतिक घटनाक्रम के बीच दोनों के बीच हुई इस मीटिंग को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. हालांकि सूत्रों के मुताबिक दोनों नेताओं ने ताजा हालात पर चर्चा की. बीजेपी (BJP) अभी इस मामले में हस्तक्षेप नहीं कर रही है. वो वेट एंट वॉच की पॉलिसी अपनाए हुई है.

सचिन पायलट इस वक्त राजस्थान से बाहर है. राज्य की ताजा राजनीतिक घटनाक्रम के तहत वो दिल्ली में डेरा जमाए हुए हैं. उनके सोमवार को जयपुर लौटने की संभावना है. उनके सोमवार को जयपुर वापस लौटने की अटकलें लगाई जा रही हैं लेकिन सूत्रों के मुताबिक वो सोमवार को जयपुर नहीं जा रहे.

बताया जा रहा है कि पायलट खुद को नोटिस भेजे जाने से काफी नाराज हैं. दरअसल कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि हाल में बीते राज्यसभा चुनाव के दौरान बीजेपी के केंद्रीय और राज्य नेता कांग्रेस के विधायकों को पाला बदलने के लिए प्रलोभन दे रहे थे. इसी सिलसिले में पुलिस की तरफ से ही सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट को पूछताछ के लिए नोटिस भेजा गया था.



सचिन पायलट का दावा है कि उन्हें कांग्रेस के तीस विधायकों का समर्थन हासिल है. यदि ऐसा होता है तो अशोक गहलोत सरकार अल्पताल में आ जाएगी और कांग्रेस के लिए सरकार बचाना मुश्किल हो जाएगा.
बता दें कि 200 सदस्यों वाले राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस को 123 विधायकों का समर्थन हासिल है. यदि 30 विधायक सचिन पायलट के साथ जाते हैं तो अशोक गहलोत के लिए सरकार बचाना मुश्किल हो जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज