• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • राकेश अस्थाना मामले पर सुनवाईः हाईकोर्ट से बोली केंद्र सरकार- PIL फाइल करना कारोबार बन चुका है

राकेश अस्थाना मामले पर सुनवाईः हाईकोर्ट से बोली केंद्र सरकार- PIL फाइल करना कारोबार बन चुका है

उन्होंने कहा कि नियुक्ति करने का अधिकार सरकार के पास है और यदि प्रक्रिया का पालन किया गया है, तो उसकी न्यायिक समीक्षा का कोई स्कोप नजर नहीं आता.(File Photo)

उन्होंने कहा कि नियुक्ति करने का अधिकार सरकार के पास है और यदि प्रक्रिया का पालन किया गया है, तो उसकी न्यायिक समीक्षा का कोई स्कोप नजर नहीं आता.(File Photo)

Rakesh Asthana case: दिल्ली पुलिस के आयुक्त IPS राकेश अस्थाना की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका पर हाईकोर्ट में हुई सुनवाई. CPIL ने इसके जवाब में कहा- नियुक्ति से पहले संघ लोकसेवा आयोग से संपर्क न करना सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का उल्लंघन है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. चर्चित आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना (Rakesh Asthana) की दिल्ली पुलिस के आयुक्त पद पर नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका पर आज केंद्र सरकार की ओर से दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) में सख्त प्रतिक्रिया दी गई. केंद्र की तरफ से पेश वकीलों ने कहा, ‘कई लोगों के लिए जनहित याचिकाएं दायर करना एक कारोबार या करियर बन चुका है.’ गुजरात कैडर के वरिष्ठ आईपीएस राकेश अस्थाना से जुड़े इस मामले में केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बहस की.

    केंद्र सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की खंडपीठ के समक्ष इस मामले में PIL दायर करने वालों पर तंज कसा. उन्होंने कहा, ‘पीआईएल एक उद्योग है, यहां तक कि करियर है, जिसकी कल्पना संविधान में नहीं की गई थी. कुछ लोग चाहते हैं कि वे सरकार चलाएं, लेकिन लोकतांत्रिक तरीके से इसमें सफल नहीं हो पाते हैं तो अपनी अधूरी इच्छाएं पीआईएल दायर करके पूरी करते हैं. वही लोग कहते रहते हैं कि यह नियुक्ति गलत है, वह नीति गलत है….’टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित एक खबर के अनुसार, मेहता ने कहा कि अस्थाना की नियुक्ति प्रक्रियाओं का पालन करते हुए की गई थी.

    समीक्षा का कोई स्कोप नजर नहीं आता
    उन्होंने कहा कि नियुक्ति करने का अधिकार सरकार के पास है और यदि प्रक्रिया का पालन किया गया है, तो उसकी न्यायिक समीक्षा का कोई स्कोप नजर नहीं आता. उन्होंने दावा किया, ‘यह तथ्य है कि यही प्रक्रिया इससे पहले भी आठ बार अपनाई गई थी और इस पर कभी सवाल नहीं उठे. यह मेरी इस दलील को स्वीकार करने के लिए पर्याप्त आधार है कि इस याचिका में जनहित के अलावा कुछ और मंशा है.’ अस्थाना की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने कहा कि याचिकाकर्ता किसी और की छद्म लड़ाई लड़ रहा है, जो सामने नहीं आना चाहता और उसका कोई पर्सनल इंटरेस्ट है.

    सुप्रीम कोर्ट के फैसले का उल्लंघन है
    केंद्र और अस्थाना दोनों ने ही सेंटर फॉर पब्लिक इंटरेस्ट लिटिगेशन (CPIL) की हस्तक्षेप याचिका का विरोध किया. सीपीआईएल ने केंद्र के 27 जुलाई के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पहले ही एक याचिका दायर की हुई है. सीपीआईएल की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने दावा किया कि नियुक्ति से पहले संघ लोक सेवा आयोग से संपर्क नहीं किया गया और यह सुप्रीम कोर्ट के फैसले का उल्लंघन है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज