लाइव टीवी

शरद पवार पर भड़के राकेश सिन्हा, कहा- अंतिम समय सिर चढ़ी सत्ता की भूख, कर रहे हैं वोट बैंक की राजनीति
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 20, 2020, 1:28 PM IST
शरद पवार पर भड़के राकेश सिन्हा, कहा- अंतिम समय सिर चढ़ी सत्ता की भूख, कर रहे हैं वोट बैंक की राजनीति
शरद पवार के दिए बयान के बाद राजनीति गर्माई हुई है. (फाइल फोटो)

राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा (Rakesh Sinha) ने आरोप लगाया कि एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) मंदिर-मस्जिद के समानता की बात कर सांप्रदायिकता फैलाने की कोशिश कर रहे हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 20, 2020, 1:28 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के अध्यक्ष शरद पवार (Sharad Pawar) के दिए बयान पर राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा (Rakesh Sinha) ने पटलवार किया है. सिन्हा ने कहा कि शरद पवार वोट बैंक की राजनीति से बाहर निकलने को तैयार नहीं हैं. वो पुरानी राजनीति को आगे बढ़ाने में लगे हैं. उन्होंने कहा कि ट्रस्ट का निर्माण (Ram Mandir Trust) पीएम मोदी ने स्वेच्छा से नहीं किया है, इसके लिए खुद सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था. राकेश सिन्हा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने मस्जिद के लिए जमीन की बात की थी, ना कि किसी ट्रस्ट की.

राकेश सिन्हा ने आरोप लगाया कि मंदिर-मस्जिद के समानता की बात कर शरद पवार सांप्रदायिकता फैलाने की कोशिश कर रहे हैं. बता दें कि एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने लखनऊ में एक कार्यक्रम के दौरान केंद्र सरकार पर धार्मिक आधार पर भेदभाव का आरोप लगाया था. इस बयान के बाद बीजेपी नेता पवार पर लगातार निशाना साध रहे हैं.

'जिंदगी के आखिरी चरण में सत्ता की भूख सता रही है'
राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा इतने पर ही नहीं रुके उन्होंने कहा कि जिंदगी के आखिरी चरण में उन्हें (शरद पवार) सत्ता की भूख इतनी सता रही है, दिल्ली की कुर्सी महत्वकांक्षा पैदा कर रही है. सिन्हा ने समाजवादी पार्टी के नेता अबू आजमी पर भी टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट की अवहेलना कर रहे हैं. राकेश सिन्हा ने आजमी से सवाल पूछा कि वो अफजल गुरू और मेनन पर क्या राय रखते हैं? सिन्हा ने कहा कि उनके पास पंथनिरपेक्षता पर बोलने का अधिकार नहीं है.



केंद्र सरकार पर लगाया था भेदभाव का आरोप


बता दें कि लखनऊ में एक कार्यक्रम में शरद पवार ने केंद्र सरकार पर धार्मिक आधार पर भेदभाव करने का आरोप लगाया था. उन्होंने कहा था कि जब अयोध्या में भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर बनाने के लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट बन सकता है तो मस्जिद के लिए कोई ट्रस्ट क्यों नहीं बनाया गया. उन्होंने इस पर सवाल उठाया था. इस बयान पर बीजेपी नेताओं ने जमकर पलटवार किया है.



नहीं करनी चाहिए थी राम मंदिर से बाबरी मस्जिद की तुलना
इससे पहले महाराष्ट्र बीजेपी के नेता किरीट सौमैया ने शरद पवार के बयान पर कहा था कि उन्होंने राम मंदिर की बाबरी मस्जिद से तुलना की है, उसका खेद है. सौमैया ने कहा कि यह देश की भावना है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो.

ये भी पढ़ें: 

कर्नाटक: पहली बार किसी मुस्लिम युवक को बनाया जाएगा लिंगायत मठ का मुख्य पुजारी

'हैप्‍पीनेस क्‍लास' में शामिल होंगी मेलानिया, सीखेंगी तनाव भगाने के गुर!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 20, 2020, 12:30 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading