UP Panchayat Chunav 2021: पहले चरण के लिए कल से नामांकन, राकेश टिकैत ने धरने पर बैठे किसानों को दिए निर्देश

सांकेतिक फोटो.

सांकेतिक फोटो.

गाजियाबाद में पंचायत चुनाव के लिए प्रशासन (Administration) ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं. शनिवार से नामांकन शुरू हो जाएंगे. भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता राकेश टिकैत ने कहा है कि पंचायत चुनाव में उनका कोई हस्‍तक्षेप नहीं है.

  • Share this:
गाजियाबाद. जिले में पंचायत चुनाव (Panchayat elections) के लिए प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं. शनिवार से सभी ब्‍लॉकों पर नामांकन शुरू हो जाएंगे. इसके लिए आरओ और एआरओ की नियुक्ति कर दी गई है. दूसरी ओर भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता राकेश टिकैत ने धरने पर बैठे किसानों से स्‍पष्‍ट कहा है कि पंचायत चुनाव में उनका कोई हस्‍तक्षेप नहीं है. किसान जिनको चाहें, उसे वोट दें.

जिले के डीएम अजय शंकर पांडेय ने बताया कि पंचायत चुनाव के लिए जिले में 311 मतदान केंद्र और 958 बूथ बनाए गए हैं. जनपद को 21 जोन में बांटा गया है. 21 जोन में 78 सेक्टर बनाए गए हैं. जिले में 57 बूथ संवेदनशील, 144 बूथ अतिसंवेदनशील और 132 अतिसंवेदनशील प्लस हैं. पंचायत चुनाव में 3832 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है. 20 प्रतिशत स्टाफ को रिजर्व में रखा गया है. उन्होंने निर्देश दिए कि नामांकन के दौरान प्रत्याशियों को किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होनी चाहिए.

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि गुरुवार को पांचवें दिन तक जिला पंचायत सदस्य के लिए 285 नामांकन पत्रों की बिक्री हुई. भोजपुर ब्‍लॉक में प्रधान पद के लिए 511 क्षेत्र पंचायत के 533 ग्राम पंचायत के 336 फार्म बिके. मुरादनगर ब्‍लॉक में प्रधान पद के लिए 431 क्षेत्र पंचायत के लिए 246 ग्राम पंचायत के लिए 360 रजापुर ब्लाक में प्रधान पद के लिए 421 क्षेत्र पंचायत के लिए 460 ग्राम पंचायत के लिए 348 फार्म बिके. लोनी ब्लाक में प्रधान पद के लिए 357 क्षेत्र पंचायत सदस्य के लिए 396 ग्राम पंचायत के लिए 197 फार्म बिके हैं.

दूसरी ओर भारतीय किसान यूनियन ने पंचायत चुनाव से दूरी बना ली है. किसानों से मुलाकात के दौरान राकेश टिकैत ने कहा कि भाकियू गैरराजनीतिक संगठन है, जिनका उद्देश्‍य देश की कृषि और किसानों को बचाने के लिए संघर्षरत रहना है. सभी किसानों का उद्देश्य तीनों कानून वापस कराना और एमएसपी पर कानून बनवाना है. उन्होंने कहा कि चुनावों में वोट देने का अधिकार हर नागरिक को है. वे स्वेच्छा से मतदान करने का अधिकार रखते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज