Kisan Aandolan: भाकियू नेता राकेश टिकैत बोले- सरकार नहीं मानी तो 40 लाख ट्रैक्टरों के साथ निकालेंगे रैली

बीकेयू के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने जींद महापंचायत में कृषि कानूनों के बहाने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को चुनौती दी है

Kisan Andolan: भाकियू नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि सरकार को अक्टूबर तक का समय देने के लिए किसान तैयार हैं. अगर सरकार ने तब भी बात नहीं मानी तो देशव्यापी ट्रैक्टर रैली निकाली जाएगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों और सरकार के बीच दूरियां और बढ़ती ही जा रही हैं. दिल्ली में सिंघू, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों को रोकने के लिए किए गए भारी-भरकम सुरक्षा इंतजामों की खबरों के बीच किसान नेताओं ने सरकार को चेतावनी दी है. गाजीपुर बॉर्डर पर लाखों किसानों के साथ आंदोलन कर रहे भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने सरकार से मांग की है कि वह किसानों की बात मान ले.

    मीडिया के साथ बातचीत में टिकैत ने कहा कि सरकार को अक्टूबर तक का समय देने के लिए किसान तैयार हैं. अगर सरकार ने तब भी बात नहीं मानी तो देशव्यापी ट्रैक्टर रैली निकाली जाएगी. भाकियू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर के किसान 40 लाख ट्रैक्टरों के साथ रैली निकालेंगे. भाकियू नेता ने साफ तौर पर कहा कि सरकार को किसानों की मांग मान लेनी चाहिए.



    इससे पहले मंगलवार को किसानों से मुलाकात करने देश के अलग-अलग राज्यों के विपक्षी दलों के बड़े नेता पहुंचे. दिन में जहां शिवसेना के संजय राउत गाजीपुर बॉर्डर पर आकर किसानों से मिले, वहीं देर शाम झारखंड के कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने भी राकेश टिकैत से मुलाकात की. इस मौके पर पत्रलेख ने कहा कि किसानों के आंदोलन को समर्थन देने वह गाजीपुर बॉर्डर पर आए हैं.



    आंदोलन स्थल पर इंटरनेट पर लगी है रोक

    इंटरनेट पर रोक से किसानों की परेशानी में और इजाफा हुआ है. वे बाहरी दुनिया से कटा हुआ महसूस कर रहे हैं.पंजाब के अमृतसर के पलविंदर सिंह ने कहा, ' सरकार ने इंटनेट प्रतिबंधित कर दिया और कंक्रीट के डिवाइडर से सडक़ों को बंद कर दिया ताकि लोगों को प्रदर्शन के बारे में जानकारी न मिले और वे यहां न आएं.'