अपना शहर चुनें

States

Big Breaking: भड़के टिकैत, कहा- कोई गिरफ्तारी नहीं होगी, ऐसा हुआ तो गोली चल जाएगी

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवकता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार किसानों को गिरफ्तार करने के लिए दमनकारी नीतियां अपना रही है.  (फाइल फोटो)
भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवकता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार किसानों को गिरफ्तार करने के लिए दमनकारी नीतियां अपना रही है. (फाइल फोटो)

भारतीय किसान यूनियन (Bhartiy kisan union) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने एक बार फिर भड़काऊ भाषण देते हुए गाजीपुर बॉर्डर खाली करने से मना कर दिया है. पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने उन्हें रास्ता खाली करने को कहा तो वे गुस्सा गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 29, 2021, 5:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय किसान यूनियन (Bhartiy kisan union) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने गाजीपुर बॉर्डर (Ghazipur border) पर शाम को एक सभा को संबोधित किया और भड़काऊ भाषण दिया. उन्होंने कहा कि यहां से कोई गिरफ्तारी नहीं होगी. यदि कोई गिरफ्तारी होगी तो पता नहीं हमारे साथ क्या होगा. साथ ही उन्होंने एक बार फिर भड़काऊ बयान देते हुए कहा कि अगर यदि ऐसा हुआ तो गोली चल जाएगी और उसका प्रशासन ही जिम्मेदार होगा.

राकेश टिकैत के इस भड़काऊ भाषण के बाद गाजीपुर बॉर्डर खाली करवाने आई पुलिस भी वापस लौटती दिखी. साथ ही प्रशासन के अधिकारी भी लौट गए. इससे पहले पुलिस और प्रशासन के लोग राकेश टिकैत को समझाने के लिए मंच पर भी चढ़े थे और उनसे आग्रह किया था कि वे रास्ता खोल दें. लेकिन, वे नहीं माने. इसके साथ ही टिकैत भड़काऊ भाषण देने लगे. साथ ही प्रशासनिक अधिकारियों और पुलिस पर चिल्लाने लगे.





फांसी पर चढ़ जाऊंगा
राकेश टिकैत ने इसके साथ ही मंच से ऐलान कर दिया कि उनकी गिरफ्तारी की कोशिश की तो वे फांसी चढ़ जाएंगे. उनके साथ ही बाकि लोग भी फांसी लगा लेंगे. हालांकि उनको समझाने गए पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने कहा कि उन्हें बॉर्डर से हटने के लिए बोला गया था. लेकिन, वे इस बात को नहीं माने और भड़क गए.

इसके पहले धरना स्थल पर बिजली और पानी की सप्लाई रोकने पर टिकैत ने कहा था कि सरकार ऐसा क्यों कर रही है. इसके पीछे की मंशा को जाहिर करे. टिकैत ने कहा था कि किसानों को गिरफ्तार करने के लिए सरकार दमककारी नातियों को अपना रही है. बता दें कि आज गाजीपुर बॉर्डर पर धरना स्थल पर प्रशासन ने बिजली और काटी की सप्लाई बंद कर दी है.

Kisan Andolan: बागपत, मथुरा के बाद गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों का धरना खत्म कराने की तैयारी

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी को बनाया आधार
टिकैत ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय भी शांतिपूर्ण तरीके से धरने को जायज ठहराया है. उत्तर प्रदेश गाजीपुर बॉर्डर पर कोई हिंसा नहीं हुई है. इसके बावजूद सरकार दमनकारी नीति अपना रही है. यह उत्तर प्रदेश सरकार का चेहरा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज