Home /News /delhi-ncr /

Ramadan 2020: आज से रमजान का पाक महीना शुरू, धर्मगुरु बोले रोजे के दौरान करें लॉकडाउन का पालन, घर में करें इबादत

Ramadan 2020: आज से रमजान का पाक महीना शुरू, धर्मगुरु बोले रोजे के दौरान करें लॉकडाउन का पालन, घर में करें इबादत

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने कहा कि देश के कई हिस्सों में चांद नजर आया है और ऐसे में शनिवार को पहला रोजा होगा. उन्होंने कहा कि लोग इस बार अपने घर पर इबादत करें. अरबी कैलेंडर के मुताबिक 25 अप्रैल को पहला रोजा रखा जाएगा. सुबह 4:21 पर रोजा सहरी होगा और शाम को 6:52 पर इफ्तार कर रोजा खोला जाएगा.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. रमजान का पाक महीना शनिवार से शुरू हो रहा है. अरबी कैलेंडर के मुताबिक 25 अप्रैल को पहला रोजा रखा जाएगा. सुबह 4:21 पर रोजा सहरी होगा और शाम को 6:52 पर इफ्तार कर रोजा खोला जाएगा. कोरोना की आपदा के चलते हुए लॉकडाउन (Lockdown) के कारण रमजान के इस महीने में नमाज पढ़ने के लिए इकट्ठा होने पर भी पाबन्दी होगी. इसके लिए मुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी लोगों से लॉकडाउन का पालन करने की अपील की है.

    जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने कहा कि देश के कई हिस्सों में चांद नजर आया है और ऐसे में शनिवार को पहला रोजा होगा. उन्होंने कहा कि लोग इस बार अपने घर पर इबादत करें. इस्लामी कैलेंडर के रमजान महीने में मुस्लिम समुदाय के लोग रोजा रखते हैं. वे भोर के समय से लेकर सूर्यास्त के बीच कुछ भी खाते-पीते नहीं हैं. बता दें कि अरबी कैलेंडर के मुताबिक 12 में से 9वें महीने को रमजान कहा जाता है. इस पूरे महीने मुसलमान रोजे रखते हैं और एक महीना पूरा होने पर ईद मनाते हैं.

    'घर पर करें इबादत और इफ्तार'

    देश के प्रमुख मुस्लिम संगठनों और अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शनिवार से आरंभ हो रहे रमजान के पवित्र महीने में लॉकडाउन के मद्देनजर मुस्लिम समुदाय के लोगों से घर पर इबादत और इफ्तार करने की अपील की है. जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रमुख मौलाना अरशद मदनी ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लोग घरों पर इबादत करें, घर से बाहर नही निकलें, कोई आयोजन नहीं करें और सरकारी दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन करें.’’

    केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने लोगों की रमजान की मुबारकबाद देते हुए लोगों से लॉकडाउन का पालन करने की अपील की है. वह पिछले कुछ दिनों के भीतर लोगों से लॉकडाउन और सामाजिक दूरी का पालन करने की कई बार अपील कर चुके हैं. उन्होंने कहा, ‘‘कोई भी मुसलमान रमजान में मस्जिदों से दूर नहीं रहना चाहता. लेकिन कोरोना के कहर के कारण पूरी दुनिया और हिंदुस्तान के उलेमा एवं संगठनों ने तय किया है कि इस पाक महीने में मस्जिदों, अन्य धार्मिक स्थलों और सार्वजनिक स्थानों पर नमाज और इफ्तार का आयोजन नहीं करेंगे. यह अच्छी बात है.’’ नकवी ने मुस्लिम समुदाय से यह अपील भी की, ‘‘हमें इस महीने खुदा से दुआ करनी चाहिए कि हमारे मुल्क और पूरी दुनिया को कोराना से निजात मिले और इंसानियत की रक्षा हो.’’ राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद गयुरुल हसन रिजवी ने भी लोगों से रमजान में लॉकडाउन का पूरी तरह से पालन करने की अपील की है.

    'नमाज और तरावीह (रमजान में रात में पढ़ी जाने वाली विशेष नमाज) घरों में पढ़ें'

    दिल्ली की फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मुफ्ती मुकर्रम अहमद ने कहा, ‘मैं ऐलान करता हूं कि दिल्ली में कल पहला रोजा होगा’. उन्होंने कहा “दिल्ली में चांद नहीं दिखा है, लेकिन बिहार, कोलकाता, रांची और हरियाणा समेत कई स्थानों पर चांद दिखा है. “ मुफ्ती मुकर्रम ने कहा कि मुस्लिम समुदाय के सदस्य कोरोना वायरस को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन का पालन करें और नमाज और तरावीह (रमजान में रात में पढ़ी जाने वाली विशेष नमाज) घरों में ही पढ़ें.

    ये भी पढ़ें

    कॉन्स्टेबल ने गर्भवती को पहुंचाया अस्पताल, महिला ने नवजात को दिया उसी का नाम

    दिल्‍ली में कई जगह उड़ी सोशल डिस्‍टेंसिंग की धज्जियां, खरीदारी करते दिखे लोग

    Tags: Jama masjid, Mukhtar abbas naqvi, Ramadan, Roja

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर