अपना शहर चुनें

States

गणतंत्र दिवस का परेड मार्ग छोटा और आमंत्रितों की संख्या कम कर दी गई : दिल्ली पुलिस

मनीष के अग्रवाल ने कहा कि गणतंत्र दिवस परेड के सुचारू संचालन को सुनिश्चित करना दिल्ली पुलिस का काम है और हम इसके पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.
मनीष के अग्रवाल ने कहा कि गणतंत्र दिवस परेड के सुचारू संचालन को सुनिश्चित करना दिल्ली पुलिस का काम है और हम इसके पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

दिल्ली पुलिस के संयुक्त पुलिस आयुक्त (यातायात) मनीष के अग्रवाल (Manish K Agrawal) ने कहा कि गणतंत्र दिवस परेड मार्ग छोटा कर दिया गया है और आमंत्रितों की संख्या कम हो कर दी गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2021, 6:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नए कृषि कानूनों (New agricultural law) का विरोध कर रहे किसानों ने गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर परेड (Tractor parade) निकाने की घोषणा कर दी है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने भी इस पर सुनवाई करते हुए इसे रोकने से इनकार कर दिया और कहा कि ट्रैक्टर परेड को दिल्ली में आने देना है या नहीं यह सुरक्षा व्यवस्था का मामला है और इसका फैसला दिल्ली पुलिस को करना है. गुरुवार को दिल्ली पुलिस के संयुक्त पुलिस आयुक्त (यातायात) मनीष के अग्रवाल (Manish K Agrawal) ने कहा कि गणतंत्र दिवस परेड मार्ग छोटा कर दिया गया है और आमंत्रितों की संख्या कम हो कर दी गई है. COVID19 प्रोटोकॉल बनाए रखने के लिए मेडिकल टीमें तैनात की जाएंगी और टिकट या निमंत्रण कार्ड के बिना किसी को प्रवेश नहीं मिलेगा.

किसानों के ट्रैक्टर परेड के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में मनीष के अग्रवाल ने कहा कि गणतंत्र दिवस परेड के सुचारू संचालन को सुनिश्चित करना दिल्ली पुलिस का काम है और हम इसके पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं. हम अभी भी किसी विशेष उपाय की बात नहीं कर सकते. ये सारी जानकारी समाचार एजेंसी एएनआई ने दिल्ली पुलिस के संयुक्त आयुक्त (यातायात) मनीष के अग्रवाल के हवाले से ट्वीट कर दीं.

समाचार एजेंसी एएनआई ने दिल्ली पुलिस के संयुक्त आयुक्त (यातायात) मनीष के अग्रवाल के हवाले से बताया.
समाचार एजेंसी एएनआई ने दिल्ली पुलिस के संयुक्त आयुक्त (यातायात) मनीष के अग्रवाल के हवाले से बताया.





आपको याद दिला दें कि 26 जनरी के समारोह की तैयारियों के बीच केंद्र सरकार नए कृषि कानून के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन को भी संभालने के कोशिश में लगी है. किसानों ने के आंदोलन को रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट में भी याचिका लगाई गई थी, पर सुप्रीम कोर्ट ने इससे इनकार कर दिया. सीजेआई जस्टिस शरद ए बोबड़े ने कहा कि ट्रैक्टर परेड को दिल्ली में आने देना है या नहीं, ये सुरक्षा व्यवस्था से जुड़ा मामला है और इसका फैसला दिल्ली पुलिस को करना है. आपको बता दें कि इस रैली को लेकर दिल्ली पुलिस और किसान नेताओं के बीच तीन बार बातचीत हो चुकी है. दिल्ली पुलिस चाहती है कि किसानों की परेड दिल्ली के बाहर ही हो, जबकि किसान संगठन दिल्ली में परेड निकालने पर अड़े हैं.

दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के साथ बैठक में शामिल रहे किसान नेता राजिंदर सिंह दीपसिंहवाला ने कहा था कि हमने दिल्ली पुलिस को स्पष्ट कर दिया है कि ट्रैक्टर परेड दिल्ली में दाखिल होगी, कोई बैरिकेड किसानों के ट्रैक्टरों को रोक नहीं पाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज