RIP Jarnail Singh: पत्रकार से राजनेता बने थे जरनैल सिंह, ऐसा रहा जिंदगी का सफर

उन्होंने राजौरी गार्डन निर्वाचन क्षेत्र से जीत हासिल की थी.

उन्होंने राजौरी गार्डन निर्वाचन क्षेत्र से जीत हासिल की थी.

RIP Jarnail Singh: कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम के ऊपर जूता फेंकने से चर्चा में आने के बाद पत्रकार जरनैल सिंह ने आम आदमी पार्टी ज्वाइन की. पार्टी के कहने पर वे पंजाब में पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ भी चुनाव मैदान में उतरे थे.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली में आम आदमी पार्टी (AAP) के तेजतर्रार नेता और राजौरी गार्डन से पूर्व विधायक जरनैल सिंह का निधन हो गया है. बताया जा रहा है कि कोरोना पीड़ित होने के बाद जरनैल सिंह को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इसी दौरान उनकी मौत हो गई. पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम पर जूता फेंकने के प्रकरण के बाद पत्रकार जरनैल सिंह चर्चा में आ गए थे. जरनैल सिंह ने 7 अप्रैल 2009 को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान भारत के गृह मंत्री पी. चिदंबरम पर जूता फेंका था. जरनैल सिंह इस बात से नाराज थे कि मंत्री की पार्टी इंडियन नेशनल कांग्रेस ने 1984 के सिख विरोधी दंगा को उकसाने का आरोप लगाने वाले नेताओं को चुनाव में टिकट दिया था. इस घटना ने जरनैल सिंह को एक नई पहचान दी.

इस घटना ने उनको रातों रात विपक्ष का हीरो बना दिया था. जरनैल सिंह बाद में आम आदमी पार्टी में शामिल हुए. इसके बाद ही उन्होंने आम आदमी पार्टी की टिकट पर चुनाव भी लड़ा और जीत मिली. 2014 में जरनैल सिंह ने आम आदमी पार्टी के टिकट पर पश्चिमी दिल्ली से लोकसभा चुनाव में अपना भाग्य आजमाया, लेकिन वह 268,586 मतों के अंतर से बीजेपी के प्रवेश वर्मा से हार गए. 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनावों में, उन्होंने राजौरी गार्डन निर्वाचन क्षेत्र से जीत हासिल की थी. ​​वह 6 जनवरी 2017 तक राजौरी गार्डन से विधायक रहे. इसके बाद आम आदमी पार्टी ने इन्हें पंजाब के तत्कालीन मुख्यमंत्री के प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ टिकट दिया. हालांकि जरनैल सिंह चुनाव हार गए.

पिछले साल पार्टी ने कर दिया था सस्पेंड

जरनैल सिंह को आम आदमी पार्टी ने पिछले साल हिंदू देवी-देवताओं को लेकर फेसबुक पर टिप्पणी करने के मामले में पार्टी से सस्पेंड कर दिया था. विवाद बढ़ने पर जरनैल सिंह ने अपनी पोस्ट डिलीट कर दी थी. जरनैल सिंह का कहना था कि वो पोस्ट उन्होंने नहीं, बल्कि उनके बेटे ने उनका फोन यूज किया था. पार्टी की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि आम आदमी पार्टी एक धर्मनिरपेक्ष पार्टी है और किसी भी धर्म का सम्मान नहीं करने वालों की पार्टी में कोई जगह नहीं है. राजनीति में आने से पहले जरनैल सिंह पेशे से पत्रकार थे. जरनैल सिंह ने वाईएमसीए इंस्टीट्यूट फॉर मीडिया स्टडीज एंड इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी से पत्रकारिता में डिप्लोमा प्राप्त किया. जरनैल सिंह कई पत्र पत्रिकाओं में काम किया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज