अपना शहर चुनें

States

जहां पुलिस ट्रैफिक को कंट्रोल कर रही थी वहीं सबसे ज़्यादा एक्सीडेंट हुए-रिपोर्ट

सांकेतिक (फाइल फोटो)
सांकेतिक (फाइल फोटो)

यह खुलासा उस रिपोर्ट से हुआ है जो यूपी सरकार (UP Government) ने नेशनल, स्टेट हाइवे और एकसप्रेस-वे (Expressway) पर होने वाले एक्सीडेंट के संबंध में जारी की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 29, 2020, 6:10 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. सड़क पर वाहन (Vehicle) नियम से चलें. सड़क पर एक्सीडेंट (Road Accident) भी कम हों, इसी के चलते ट्रैफिक को कंट्रोल करने के लिए कहीं ट्रैफिक पुलिस (Traffic Police) तैनात की जाती है तो कहीं ट्रैफिक सिग्नल की मदद से ट्रैफिक को कंट्रोल किया जाता है. मकसद एक ही कि एक्सीडेंट कम से कम हों. लेकिन जहां ट्रैफिक पुलिस तैनात है वहीं सबसे ज़्यादा एक्सीडेंट हो रहे हैं. सबसे कम एक्सीडेंट वहां हुए जहां ट्रैफिक सिग्नल (Traffic Signal) लाइट से वाहनों को कंट्रोल किया जा रहा है.

यूपी में कहां-कितने हुए एक्सीडेंट

हाल ही में यूपी सरकार ने “रोड एक्सीडेंट 2019 इन यूपी” के नाम से कुछ आंकड़े जारी किए हैं. अगर इन आंकड़ों की मानें तो सबसे ज़्यादा 2048 एक्सीडेंट वहां हुए जहां ट्रैफिक पुलिस यातायात को कंट्रोल कर रही थी. जबकि 869 एक्सीडेंट वहां हुए जहां ट्रैफिक सिग्नल लाइट से वाहनों को कंट्रोल किया जा रहा था. वहीं दूसरी ओर स्टाप साइन पर 1548 और फ्लैशिंग सिग्नल ब्लिंकर पर 1250 एक्सीडेंट हुए.




यमुना एक्सप्रेस-वे पर अगर यह 4 काम हो जाएं तो कम हो सकते हैं एक्सीडेंट

4 पाहिया से ज़्यादा टकराय 2 पाहिया वाहन

2019 में सबसे ज़्यादा 2 पाहिया वाहनों के एक्सीडेंट हुए. 12896 दोपाहिया वाहन के बीते एक साल में एक्सीडेंट हुए. जबकि 4 पाहिया वाहनों जिसमे कार-जीप और वैन आदि शामिल थे से 6873 एक्सीडेंट हुए. इसी तरह से साइकिल पर चलने वालों से ज़्यादा पैदल चलने वाले रोड एक्सीडेंट का शिकार हुए. रिपोर्ट बताती है कि साइकिल पर चलने वाले 2469 सवार और पैदल चलने वाले 3411 लोग एक्सीडेंट का शिकार हुए. अगर बस और ट्रक में एक्सीडेंट की तुलना करें तो सबसे ज़्यादा एक्सीडेंट ट्रक के होते हैं.

एक नज़र यूपी में बनी सड़कों और बढ़ते वाहनों की संख्या पर

2012 में सड़कें थीं 201094 किमी और 2019 में हो गईं 243993.

2012 में वाहन थे 1.32 करोड़ और 2019 में हो गए 3.27 करोड़.

2012 में एक्सीडेंट हुए 29972 और मौत हुईं 16149.

2019 में 42572 एक्सीडेंट हुए और 22655 मौत हुईं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज