COVID-19: अब रोबोट करेगा कोरोना पीड़ितों की देखभाल, नोएडा के इस अस्पताल में शुरू हुआ इस्तेमाल

कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों को बेहतर सुविधाएं देने के लिए नोएडा में रोबोट का होगा इस्तेमाल.

नोएडा (Noida) के फेलिक्स अस्पताल (Felix Hospital) ने कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की देखभाल के लिए रोबोट का इस्तेमाल करने की इजाजत मांगी थी, जिसे राज्य सरकार ने मंजूर कर लिया.

  • Share this:
    नोएडा. नोएडा (Noida) के सेक्टर 137 स्थित फेलिक्स मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल के अनुरोध को योगी सरकार (Yogi Government) ने स्वीकार कर लिया है. फेलिक्स अस्पताल ने कोरोना वायरस (Corona Virus) से पीड़ित मरीजों की देखभाल के लिए रोबोट (Robot) का इस्तेमाल करने की इजाजत मांगी थी, जिसे राज्य सरकार ने मंजूर कर लिया है. इसका नाम 'कोविद फाइटर' है. कोरोना वायरस के संक्रमण को कम करने और डॉक्टरों और नर्सिंग स्टॉफ (Doctors & Nursing Staff) को इस वायरस से बचाने के लिए अस्पताल प्रशासन ने यह कदम उठाया है.

    नोएडा के फेलिक्स अस्पताल ने तैयार किया है
    अस्पताल के चेयरमैन डॉक्टर डीके गुप्ता ने न्यूज 18 को बताया कि 'यह रोबोट कोरोना से संक्रमित मरीजों की देखभाल के लिए खासतौर पर बनाया गया है. इन रोबोटों को पेश करने में हमें खुशी मिल रही है कि हम समाज के लिए कुछ योगदान दे रहे हैं. यह पूरी तरह स्वदेशी हैं. इसके इंस्टॉलेशन का काम नोएडा में शनिवार से ही शुरू हो गया है. अगले दो दिनों में दो और रोबोट इंस्टॉल कर दिए जाएंगे. हम लोगों ने उत्तर प्रदेश सरकार को यह रोबोट लगाने का प्रपोजल दिया था, मुझे खुशी है कि चीफ सेक्रेटरी ने इसकी अनुमति दे दी है. अगले कुछ दिनों में 30 और रोबोट को हम लोग लखनऊ सहित यूपी के अन्य शहरों में लगाएंगे.'

    पहला रोबोट नोएडा के सेक्टर 37 में कोरोना मरीजों के लिए बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में किया जा रहा है.


    गुप्ता कहते हैं, 'इन रोबोट का काम संक्रमित मरीजों को खाना और अन्य सामान देना आदि होगा. इससे मरीज के संपर्क में कम लोग ही रहेंगे और कोरोना से बच सकेंगे. यह रोबोट फेलिक्स अस्पताल और एडवर्व टेक्नोलॉजी कंपनी ने मिलकर बनाया है. कोरोना मरीजों की मदद करने के लिए यह रोबोट बनाया गया है. इसे कोविद फाइटर नाम दिया गया है. कोविद फाइटर को इंसानों की तरह प्राकृतिक नेविगेशन के साथ बनाया गया है.

    कई तरह के काम करने में सक्षम हैं
    कोविद रोबोट कई तरह के काम करने में सक्षम हैं. पहला, रोगियों को दवा, भोजन और अन्य उपभोग्य सामग्रियों का वितरण. दूसरा, मरीजों से waste या यूज की जा चुकी दवाओं का संग्रह. तीसरा, मरीजों और हेल्थकेयर कार्यकर्ता के बीच संचार का एक चैनल होगा. इसके साथ ही अगले कुछ दिनों में इस रोबोट को भीड़भाड़ वाली जगह पर कोरोना संक्रमित मरीजों को स्कैन करने के लिए भी लगाया जाएगा. यह डॉक्टरों के लिए एक बड़ा हाथ साबित हो सकता है. कोविड फाइटर चिकित्सा बिरादरी के लिए वरदान से कम नहीं है.

    ये भी पढ़ें: 

    Coronavirus: दिल्ली के ढाई लाख पेंशनभोगियों के लिए खुशखबरी, केजरीवाल ने पेंशन को किया डबल

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.