लाइव टीवी

जेएनयू में रूम रेंट हुआ महंगा, छात्रों को अब महीने में देना होगा इतना किराया
Delhi-Ncr News in Hindi

News18 Bihar
Updated: November 2, 2019, 3:36 PM IST
जेएनयू में रूम रेंट हुआ महंगा, छात्रों को अब महीने में देना होगा इतना किराया
सप्ताहभर से चल रहे छात्रों के विरोध परअब जेएनयू की ओर से अहम फैसला लिया गया है. (फाइल फोटो)

जेएनयू प्रशासन ने आगे कहा कि अब से सिंगल रूम सीटर का किराया 600 रुपय प्रति माह होगा जो पहले 20 रुपए प्रति माह था. वहीं, डबल सीटर रूम का किराया 300 रुपय प्रति माह होगा जो पहले 10 रुपय प्रति माह होता था. साथ ही जेएनयू के छात्रों को नए हॉस्टल नियमों के हिसाब से अब 1700 रुपये सर्विस चार्ज भी देना होगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) प्रशासन ने शनिवार को प्रेस रिलीज जारी कर कहा कि इंटर हॉल ए़डमिनिस्ट्रेशन (IHA) की मीटिंग में हॉस्टल मैन्यूअल (Hostel Manual) पर ऐसा कोई फैसला नहीं लिया गया था. प्रशासन ने कहा है कि हॉस्टल में आने-जाने की न समय सीमा तय की गई है और न ही ड्रेस कोड पर कोई चर्चा हुई है. प्रेस रिलीज में कहा गया है कि प्रॉपर ड्रेस का नियम पिछले 14 वर्षों से बना हुआ है और इसमें IHA समिति द्वारा कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है. ये सब कुछ छात्रों द्वारा फैलाई गई महज एक अफवाह है.

प्रशासन ने आगे कहा कि अब से सिंगल रूम सीटर का किराया 600 रुपय प्रति माह होगा जो पहले 20 रुपए प्रति माह था. वहीं, डबल सीटर रूम का किराया 300 रुपय प्रति माह होगा जो पहले 10 रुपय प्रति माह होता था. साथ ही जेएनयू के छात्रों को नए हॉस्टल नियमों के हिसाब से अब 1700 रुपये सर्विस चार्ज भी देना होगा. इसके अलावा एडमिशन के समय सिक्युरिटी अमाउंट 5500 की जगह 12000 रुपया देना होगा.

क्या है पूरा मामला
दरअसल, बीते 27 अक्टूबर को इंटर हॉस्टल एडमिनिस्ट्रेशन की कमेटी ने मीटिंग बुलाई थी, जिसमें कुछ फैसले लेने थे. इस बैठक में हॉस्टल की फीस बढ़ाने, हॉस्टल आने-जाने का वक्त तय करना और प्रोटेस्ट पर फाइन, पनिशमेंट आदि नियमों पर चर्चा हुई थी. छात्रों ने बैठक का विरोध करते हुए प्रदर्शन किया था. इससे पहले जेएनयू की ओर से 23 अक्टूबर को जेएनयू कैंपस के गेट शाम छह बजे के बाद बंद करने का नया नियम लागू किया था. यह अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन विभाग के डीन की ओर से नोटिस के जरिये दी गई थी. ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (AISA) ने प्रशासन पर कैंपस के शाम छह बजे के बाद गेट बंद करने के नये नियम पर विरोध जताया था.

AISA ने कहा था, कैंपस के गेट को शाम छह बजे बंद कर देना आवाजाही की स्वतंत्रता को सीमित करना है. प्रशासन ने कहा था, यह कदम छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए लिया गया था. जेएनयू प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था का हवाला देते हुए कहा था, इमारत में चार गेट हैं सभी पर छात्रों के प्रवेश की निगरानी रखना मुश्किल है.

ये भी पढ़ें-   

पटना में चाकू मारकर युवक की हत्या, बचाने आए भाई पर भी किया हमलागोपालगंज में 14 वर्षीय छात्रा को ट्रक ने मारी टक्कर, मौके पर हुई मौत 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 2, 2019, 2:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर